DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   NCR  ›  दिल्ली में दूर होगी कोरोना वैक्सीन की कमी, ग्लोबल टेंडर निकालेगी 'आप' सरकार : मनीष सिसोदिया

एनसीआरदिल्ली में दूर होगी कोरोना वैक्सीन की कमी, ग्लोबल टेंडर निकालेगी 'आप' सरकार : मनीष सिसोदिया

नई दिल्ली। लाइव हिन्दुस्तान टीम Published By: Praveen Sharma
Tue, 11 May 2021 06:38 PM
दिल्ली में दूर होगी कोरोना वैक्सीन की कमी, ग्लोबल टेंडर निकालेगी 'आप' सरकार : मनीष सिसोदिया

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने मंगलवार को कहा कि दिल्ली सरकार कोरोना वायरस टीके की खरीद के लिए ग्लोबल टेंडर जारी करेगी क्योंकि उसे टीके की कमी का सामना करना पड़ रहा है।

सिसोदिया ने संवाददाता सम्मेलन में आरोप लगाया कि केंद्र की भाजपा सरकार राज्य सरकारों को टीका खरीद के लिए ग्लोबल टेंडर जारी करने को विवश कर रही है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार चाहती है कि राज्य सरकारें टीके के लिए अंतरराष्ट्रीय बाजार में एक-दूसरे के साथ प्रतिस्पर्धा एवं लड़ाई करें। सिसोदिया ने कहा कि भाजपा का यह नया प्रोपेगेंडा है। भाजपा चाहती है कि सभी राज्य सरकारें अंतर्राष्ट्रीय बाजार में जाएं, आपस में लड़ें और वैक्सीन लाएं। भाजपा के नेताओं को ऐसा सुझाव देते हुए शर्म नहीं आती है। 70 साल में पहली बार ऐसा हो रहा है कि केंद्र सरकार देश की जिम्मेदारी उठाने को तैयार नहीं है।  

केजरीवाल ने पीएम को लिखा पत्र, कहा- दूसरी कंपनियों के साथ भी शेयर करें वैक्सीन का फॉर्मूला

उन्होंने कहा कि जिस तरह देशभर में पल्स पोलियो अभियान चलाया गया, उसी तरह से पूरे देश में कोविड-19 वैक्सीन अभियान चलाया जाना चाहिए। केंद्र सरकार अपनी जिम्मेदारी निभाए और सभी राज्यों की तरफ से अंतर्राष्ट्रीय बाजार में जाकर वैक्सीन लाए। राज्यों को आपस में लड़वाकर भारत के नाम को खराब न करे।

सिसोदिया ने कहा कि यदि मार्च के महीने में केंद्र सरकार तय करती कि विदेशों में वैक्सीन बेचने की जगह अपने देश के लोगों को वैक्सीन लगाएंगे तो आज और 6.5 करोड़ लोगों का वैक्सीनेशन हो चुका होता, लेकिन भारत सरकार ने पाकिस्तान, ईरान, ओमान जैसे देशो को वैक्सीन दी। भारत सरकार को अपनी गलती स्वीकार करनी ही चाहिए। 

इससे पहले दिन में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर देश में टीका निर्माण बढ़ाने के लिए कोविड-19 रोधी टीके का उत्पादन कर रही दोनों कंपनियों का फॉर्मूला दूसरी कंपनियों के साथ शेयर करने की मांग की है।

केजरीवाल ने कहा कि देश में टीकों की कमी है और युद्ध स्तर पर टीके का निर्माण बढ़ाने की जरूरत है। अगले कुछ महीनों में सभी को टीका लगाए जाने की नीति तैयार की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि केन्द्र को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि टीके के निर्माण में सक्षम सभी संयंत्र में इसका निर्माण हो।

उन्होंने कहा कि कोविड-19 रोधी टीका बनाने वाली मूल दो कम्पनियों को उनका फॉर्मूला दूसरी कम्पनियों द्वारा इस्तेमाल किए जाने के लिए रॉयल्टी दी जा सकती है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 की अगली लहर आने से पहले सभी को टीका लगाने के लिए टीके का निर्माण बढ़ाने की जरूरत है। 

संबंधित खबरें