ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRहिमाचल बुझाएगा दिल्ली की प्यास, जल संकट पर सीएम सुक्खू का बड़ा ऐलान

हिमाचल बुझाएगा दिल्ली की प्यास, जल संकट पर सीएम सुक्खू का बड़ा ऐलान

हिमाचल के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने ऐलान किया है कि उनकी सरकार दिल्ली सरकार के साथ हुए समझौते के तहत दिल्ली को पानी छोड़ने के लिए तैयार है। इससे दिल्ली वालों को बड़ी राहत मिलने की उम्मीद है।

हिमाचल बुझाएगा दिल्ली की प्यास, जल संकट पर सीएम सुक्खू का बड़ा ऐलान
pti02-28-2024-000206a-0 jpg
Krishna Singhएएनआई,नई दिल्लीMon, 10 Jun 2024 07:05 PM
ऐप पर पढ़ें

जल संकट से जूझ रहे दिल्ली वालों को राहत मिलने की उम्मीद जग रही है। हिमाचल प्रदेश के सीएम सुखविंदर सिंह सुक्खू ने ऐलान किया है कि उनकी सरकार दिल्ली सरकार के साथ हुए समझौते के तहत दिल्ली को पानी छोड़ने के लिए तैयार है। मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने संवाददाताओं के साथ बातचीत में यह बात की। सूबे में तीन विधानसभा सीटों के लिए होने जा रहे उपचुनाव के बारे में पूछे गए सवालों का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा कि ये सीटें निर्दलीय विधायकों के इस्तीफे के चलते खाली हुई हैं।

वहीं दिल्ली में गहराए जल संकट पर आम आदमी पार्टी हरियाणा सरकार पर लगातार हमलावर है। आम आदमी पार्टी का आरोप है कि हिमाचल प्रदेश से मिलने वाले अतिरिक्त पानी को भी हरियाणा सरकार रोक रही है। आप प्रवक्ता प्रियंका कक्कड़ ने कहा कि यह सब कुछ सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद हो रहा है। वहीं, आप कार्यकर्ताओं ने सोमवार को दिल्ली स्थित भाजपा मुख्यालय पर विरोध प्रदर्शन भी किया। 

पार्टी कार्यालय में आयोजित पत्रकारवार्ता में कक्कड़ ने कहा कि हरियाणा की भाजपा सरकार दिल्ली को उसके हक का पानी नहीं दे रही है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद दिल्ली को हिमाचल प्रदेश से 137 क्यूसेक अतिरिक्त पानी मिलना था, जो हरियाणा के रास्ते होकर दिल्ली आता, लेकिन हरियाणा सरकार उसे भी रोक रही है। इसके बाद भी एलजी कह रहे हैं कि दिल्ली सरकार हरियाणा पर गलत आरोप लगा रही है। 

आप प्रवक्ता प्रियंका कक्कड़ ने कहा, एलजी कह रहे हैं कि दिल्ली सरकार बिना किसी कारण हरियाणा सरकार पर आरोप लगा रही है। मुझे लगता है कि एलजी को भाजपा के बजाय दिल्ली के प्रति जवाबदेह होना चाहिए। अगर एलजी चाहते तो इस मामले का हल निकलवा सकते थे। वह केंद्र और हरियाणा सरकार को कह सकते थे कि हरियाणा दिल्ली के शोधित पानी को लेकर कृषि में इस्तेमाल कर ले, लेकिन दिल्ली के हक का पानी न रोके, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया और इस विषय पर भाजपा के आदेश पर राजनीति की।