DA Image
27 अक्तूबर, 2020|9:48|IST

अगली स्टोरी

दिल्ली हिंसा : अभी जेल में ही रहेगा शरजील इमाम, कोर्ट ने न्यायिक हिरासत 22 अक्टूबर तक बढ़ाई

jnu former student sharjeel imam  file pic

दिल्ली की एक अदालत ने गुरुवार को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) के छात्र शरजील इमाम की न्यायिक हिरासत 22 अक्टूबर तक के लिए बढ़ा दी है, जो इस साल फरवरी में उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुई हिंसा के मामले में जेल में बंद है।

शरजील इमाम को 25 अगस्त को दिल्ली पुलिस की स्पेशल द्वारा इस मामले में गिरफ्तार किया गया था। शरजील की पहले की न्यायिक हिरासत की अवधि समाप्त होने के बाद गुरुवार को उसे अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अमिताभ रावत के समक्ष जेल से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पेश किया गया था।

शरजील का प्रतिनिधित्व करने वाली वकील सुरभि धर ने न्यायिक हिरासत और बढ़ाए जाने का विरोध करते हुए कहा कि "मैं कभी नहीं समझ पाई कि मैं इस मामले में क्यों हूं।"

दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल द्वारा हाल ही में दायर की गई चार्जशीट में कहा गया है कि नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) के विरोध में बनाए गए वॉट्सएप ग्रुपों का इस्तेमाल इस साल फरवरी में हुई उत्तर-पूर्वी दिल्ली हिंसा को बढ़ावा देने के लिए किया गया था। दिल्ली हिंसा मामले में गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम, भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) और शस्त्र अधिनियम के कई प्रासंगिक धाराओं के तहत आरोप पत्र दायर किया गया था।

तब पुलिस सूत्रों ने कहा था कि चार्जशीट में उमर खालिद और शरजील इमाम का नाम नहीं है। उनके नाम सप्लीमेंट्री चार्जशीट में शामिल होंगे क्योंकि चार्जशीट दाखिल करने से कुछ दिन पहले उनकी गिरफ्तारी की गई थी।

दिल्ली पुलिस ने 23 फरवरी से 26 फरवरी तक दिल्ली में हुए सांप्रदायिक दंगों को लेकर आपराधिक साजिश के बारे में आईपीसी की कई धाराओं के तहत 6 मार्च को एफआईआर दर्ज की थी। उसी दिन मामले की जांच स्पेशल सेल को ट्रांसफर कर दी गई थी। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Delhi violence case: Court extends judicial custody of Sharjeel Imam