ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRदिल्ली में 10 में से 6 लोगों का नहीं लग रहा मन, कहीं और बसने की चाहत, क्या वजह?

दिल्ली में 10 में से 6 लोगों का नहीं लग रहा मन, कहीं और बसने की चाहत, क्या वजह?

दिल्ली में 10 में से 6 लोग ऐसे हैं जिनका मन राष्ट्रीय राजधानी में नहीं रम रहा है। ऐसे लोग दिल्ली से दूर कहीं और बसने का सपना संजो रहे हैं। क्या वजह जानने के लिए पढ़ें यह रिपोर्ट...

दिल्ली में 10 में से 6 लोगों का नहीं लग रहा मन, कहीं और बसने की चाहत, क्या वजह?
Krishna Singhभाषा,नई दिल्लीWed, 29 Nov 2023 06:15 PM
ऐप पर पढ़ें

Delhi Air Pollution: दिल्ली में रहने वाले दस में से 6 लोगों को राष्ट्रीय राजधानी की आबोहवा रास नहीं आ रही है। एक सर्वेक्षण में पाया गया है कि दिल्ली और मुंबई में रहने वाले 60 फीसदी लोग वायु प्रदूषण से खराब होते हालात को देखते हुए कहीं और जाने के विकल्पों पर विचार कर रहे हैं। स्वास्थ्य सेवा प्रदाता प्रिस्टिन केयर ने दिल्ली, मुंबई और आसपास के इलाकों के चार हजार लोगों पर किए गए सर्वेक्षण के आधार पर यह नतीजे पेश किए हैं। 

बीमारियों का अंबार
नवीनतम अध्ययन में शामिल 10 में से नौ उत्तरदाताओं ने वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) में गिरावट के सबसे आम लक्षणों जैसे लगातार खांसी, सांस लेने में तकलीफ, घरघराहट, गले में खराश और आंखों से पानी निकलने या खुजली का अनुभव करने की बात कही। सर्वेक्षण के मुताबिक, दिल्ली और मुंबई में 10 में से छह निवासी ने खराब वायु गुणवत्ता और प्रदूषण के कारण स्थानांतरित होने पर विचार करने की बात कही।

सेहत पर नकारात्मक असर
सर्वेक्षण के नतीजों में सामने आया कि वायु गुणवत्ता में गिरावट खासतौर पर सर्दियों के मौसम की वजह से लोगों की सेहत पर नकारात्मक असर पड़ रहा है। सर्वेक्षण रिपोर्ट के अनुसार, 40 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने सर्दियों के मौसम में अपने प्रियजनों में अस्थमा या ब्रोंकाइटिस जैसी पहले से मौजूद श्वसन संबंधी समस्याओं में वृद्धि होने की बात कही। 

30 फीसदी कर रहे मास्क का इस्तेमाल
अध्ययन के मुताबिक, दिल्ली और मुंबई में 10 में से चार लोगों को हर साल या कुछ वर्षों में वायु प्रदूषण से संबंधित स्वास्थ्य समस्याओं के लिए इलाज की जरूरत पड़ती है। सर्वेक्षण में शामिल लोगों से जब वायु प्रदूषण से निपटने के लिए अपनी जीवनशैली में बदलाव के बारे में पूछा गया गया, तो 35 फीसदी ने बताया कि उन्होंने व्यायाम और दौड़ने जैसी बाहरी गतिविधियां बंद कर दी हैं जबकि 30 फीसदी ने बाहर मास्क पहनना शुरू कर दिया है। 

27 फीसदी कर रहे एयर प्यूरीफायर का इस्तेमाल
अध्ययन के मुताबिक, दिल्ली और मुंबई में केवल 27 फीसदी उत्तरदाताओं ने एयर प्यूरीफायर का उपयोग करने की बात स्वीकार की। वहीं 43 प्रतिशत लोगों में 'गलत धारणा है कि इनके उपयोग से प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हो जाती है। इस बीच पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव के कारण हुई बारिश और अनुकूल हवा की गति के बाद दिल्ली की हवा में लगातार सुधार देखा जा रहा है। दिल्ली में बुधवार को वायु गुणवत्ता बहुत खराब श्रेणी से सुधरकर खराब श्रेणी में पहुंची। शहर में सुबह 9:05 बजे एक्यूआई 258 दर्ज किया गया, जो मंगलवार सुबह 8 बजे 365 था। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें