ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRदिल्ली में प्रदूषण से बिगड़ते जा रहे हालात, एक्यूआई 430 के पार, और मोटी हुई स्मॉग की चादर

दिल्ली में प्रदूषण से बिगड़ते जा रहे हालात, एक्यूआई 430 के पार, और मोटी हुई स्मॉग की चादर

Delhi Pollution: दिल्ली में प्रदूषण की स्थिति दिनोंदिन गंभीर होती जा रही है। दिल्ली में एक्यूआई 430 के पार पहुंच गई है। दिल्ली में हवा की रफ्तार बेहद कम है, जिससे हालात बिगड़ने का अंदेशा हो गया है।

दिल्ली में प्रदूषण से बिगड़ते जा रहे हालात, एक्यूआई 430 के पार, और मोटी हुई स्मॉग की चादर
Krishna Singhहिंदुस्तान,नई दिल्लीTue, 14 Nov 2023 05:43 PM
ऐप पर पढ़ें

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के वायु मंडल में छाई स्मॉग की चादर और मोटी हो गई है। ऊपरी स्तर पर छाए हल्के बादलों के चलते प्रदूषक कणों का बिखराव और भी धीमा हो गया है। वहीं, दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक भी अब गंभीर श्रेणी से सिर्फ चार अंक नीचे रह गया है। दिल्ली वालों के लिए जहरीली हवा से भरे हुए दमघोंटू दिनों की फिर से शुरुआत हो गई है। राजधानी के आसमान में सुबह से ही स्मॉग की मोटी परत छाई रही। इसके चलते दिन के बहुत ही कम हिस्से में हल्की धूप निकली। दिल्ली में हवा की रफ्तार भी बेहद कम है। इन कारणों से प्रदूषक कणों का विसर्जन धीमा है। 

गंभीर श्रेणी में पहुंची कई इलाकों की हवा
केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक, मंगलवार को दिल्ली का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 397 के अंक पर रहा। इस स्तर की हवा को बेहद खराब श्रेणी में रखा जाता है। लेकिन, यह गंभीर श्रेणी से सिर्फ चार अंक नीचे है। एक दिन पूर्व यानी सोमवार को यह सूचकांक 358 के स्तर पर रहा था। चौबीस घंटों के भीतर इसमें 39 अंकों की बढ़ोतरी हुई है। दिल्ली के कई इलाकों की हवा गंभीर श्रेणी में पहुंच चुकी है।

सामान्य से तीन गुने से ज्यादा प्रदूषण
दिल्ली और एनसीआर के वायु मंडल में इस समय सामान्य से तीन गुने से भी ज्यादा प्रदूषण मौजूद है।सीपीसीबी के मुताबिक मंगलवार की शाम को चार बजे हवा में प्रदूषक कण पीएम 10 का स्तर 333 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर और प्रदूषक कण पीएम 2.5 का स्तर 218 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर पर रहा। हवा में पीएम 10 का स्तर 100 से कम और पीएम 2.5 का स्तर 60 से कम होने पर ही उसे स्वास्थ्यकारी माना जाता है। इस अनुसार दिल्ली-एनसीआर की हवा में मानकों से तीन गुने से भी ज्यादा प्रदूषण मौजूद है।

दृश्यता का स्तर भी हुआ प्रभावित
स्मॉग के चलते राजधानी दिल्ली में दृश्यता का स्तर भी प्रभावित हुआ है। मौसम विभाग के मुताबिक सुबह के सात से आठ बजे के बीच सफदरजंग और पालम मौसम केन्द्र में दृश्यता का स्तर 500 मीटर तक रह गई गई थी। सामान्य तौर पर इसे दो हजार मीटर पर रहना चाहिए।

दीवाली के बाद यूं बढ़ा प्रदूषण
12 नवंबर---218
13 नवंबर---358
14 नवंबर---397

हल्के बादलों ने भी बढ़ाई मुसीबत
मौसम विभाग के मुताबिक इस समय वायु मंडल की ऊपरी सतह में हल्के बादल हैं। जबकि, निचले स्तर पर स्मॉग छाया हुआ है। इसके चलते प्रदूषक कणों का बिखराव बेहद धीमा और वे ज्यादा देर तक वायुमंडल में बने रह रहे हैं। जिसके चलते प्रदूषण का स्तर भी ज्यादा है।

गंभीर श्रेणी में यहां की हवा
शादीपुर---405
आईटीओ---432
आईजीआई एयरपोर्ट---421

अगले तीन दिन तक राहत के आसार कम
राजधानी दिल्ली के लोगों को अगले तीन दिनों तक राहत मिलने के आसार कम है। पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय द्वारा तैयार वायु गुणवत्ता पूर्व चेतावनी प्रणाली के मुताबिक अगले तीन दिनों के दौरान हवा की गति सामान्य तौर पर आठ किलोमीटर से कम रहेगी। खासतौर पर सुबह के समय हवा एकदम शांत पड़ रही है। इससे भी प्रदूषक कणों का बिखराव नहीं हो रहा है। इन कारणों से अगले तीन दिनों के दौरान दिल्ली की वायु गुणवत्ता बेहद खराब या गंभीर श्रेणी में रहेगी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें