ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRDelhi Pollution: छह साल बाद ज्यादा प्रदूषण से दिसंबर की शुरुआत, अगले तीन-चार दिन राहत की उम्मीद नहीं; जानें AQI

Delhi Pollution: छह साल बाद ज्यादा प्रदूषण से दिसंबर की शुरुआत, अगले तीन-चार दिन राहत की उम्मीद नहीं; जानें AQI

दिल्ली के लोग इस समय सबसे ज्यादा प्रदूषण वाले दिनों का सामना कर रहे हैं। इस साल गर्मी और मानसून के समय हवा पहले के वर्षों की तुलना में खासी साफ रही थी

Delhi Pollution: छह साल बाद ज्यादा प्रदूषण से दिसंबर की शुरुआत, अगले तीन-चार दिन राहत की उम्मीद नहीं; जानें AQI
Swati Kumariहिंदुस्तान,नई दिल्लीFri, 01 Dec 2023 06:27 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली में छह साल बाद दिसंबर की शुरुआत इतने ज्यादा प्रदूषण के साथ हो रही है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक, शुक्रवार को दिल्ली का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 372 के अंक पर यानी बेहद खराब श्रेणी में रहा। इससे पहले वर्ष 2016 में पहली दिसंबर का एक्यूआई इससे ज्यादा यानी 403 रहा था। दिल्ली के लोग इस समय सबसे ज्यादा प्रदूषण वाले दिनों का सामना कर रहे हैं। इस साल गर्मी और मानसून के समय हवा पहले के वर्षों की तुलना में खासी साफ रही थी, लेकिन मानसून की वापसी के बाद से ही प्रदूषण का स्तर बढ़ने लगा। सीपीसीबी के मुताबिक, शुक्रवार को हवा बेहद खराब श्रेणी में रही। एक दिन पहले से तुलना करें तो सूचकांक में 26 अंकों का सुधार हुआ है। हालांकि, अभी भी यह बेहद खराब श्रेणी के ऊपरी स्तर में मौजूद है। वर्ष 2016 के बाद दिसंबर की सबसे खराब प्रदूषण के साथ शुरुआत हुई है।

गंभीर श्रेणी में चार इलाके
दिल्ली के चार इलाकों की हवा शुक्रवार को गंभीर श्रेणी में रही। यानी इन जगहों का वायु गुणवत्ता सूचकांक 400 से ऊपर रहा। विवेक विहार क्षेत्र में प्रदूषण का स्तर सबसे ज्यादा 428 रहा। हालांकि, एक दिन पहले की तुलना में इसमें भी सुधार आया है। गुरुवार को 18 इलाकों की हवा गंभीर श्रेणी में थी।

मानकों से ढाई गुना ज्यादा
मानकों के मुताबिक, हवा में प्रदूषक कण पीएम 10 का स्तर 100 से और पीएम 2.5 का स्तर 60 से कम होने पर ही उसे स्वास्थ्यकारी माना जाता है। दिल्ली-एनसीआर की हवा में पीएम 10 का औसत स्तर शुक्रवार की शाम चार बजे 280 और पीएम 2.5 का स्तर 174 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर पर रहा। यानी हवा में प्रदूषक कणों का औसत स्तर ढाई गुना से ज्यादा है।

प्रदूषक कणों का बिखराव धीमा होगा
दिल्ली के लोगों को प्रदूषित हवा से अभी राहत मिलने के कोई आसार नहीं दिख रहे हैं। वायु गुणवत्ता पूर्व चेतावनी प्रणाली के मुताबिक, अगले दो-तीन दिनों के दौरान हवा की गति आमतौर पर दस किलोमीटर प्रति घंटे से नीचे ही रहने के आसार हैं। इसके चलते प्रदूषक कणों का बिखराव धीमा होगा और हवा की गुणवत्ता बेहद खराब श्रेणी में ही बनी रहेगी।

एक दिसंबर को प्रदूषण का स्तर
वर्ष    एक्यूआई
2023    372
2022    368
2021    370
2020    367
2019    250
2018    306
2017    343
2016    403

वायु गुणवत्ता सूचकांकः
30 नवंबर---398
01 दिसंबर---372

यहां की हवा सबसे खराबः
विवेक विहार---428
पटपड़गंज---415
ओखला---412
पंजाबी बाग---402
आनंद विहार---400

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें