ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRदिल्ली में ग्रैप-4 लागू होते ही बसों का प्रवेश होगा प्रतिबंधित, दिल्ली सरकार ने जारी की अधिसूचना

दिल्ली में ग्रैप-4 लागू होते ही बसों का प्रवेश होगा प्रतिबंधित, दिल्ली सरकार ने जारी की अधिसूचना

दिल्ली सरकार ने फैसला लिया है कि जब भी ग्रैप-IV के तहत प्रतिबंध लागू होंगे तो सीएनजी, बीएसवीआई डीजल और इलेक्ट्रिक बसों को छोड़कर, दिल्ली में अन्य बसों के प्रवेश पर स्वत: ही प्रतिबंध लागू हो जाएंगे। 

दिल्ली में ग्रैप-4 लागू होते ही बसों का प्रवेश होगा प्रतिबंधित, दिल्ली सरकार ने जारी की अधिसूचना
Krishna Singhपीटीआई,नई दिल्लीThu, 23 Nov 2023 01:35 AM
ऐप पर पढ़ें

बढ़ते प्रदूषण के बीच ग्रैप-4 लागू होते ही राजधानी दिल्ली में सीएनजी-इलेक्ट्रिक व बीएस-6 डीजल बसों को छोड़कर अन्य बसों के प्रवेश पर प्रतिबंध रहेगा। दिल्ली सरकार की तरफ से इस संबंध में अधिसूचना जारी की गई है। सरकार ने स्पष्ट किया गया है कि ग्रैप-4 स्टेज में ऑल इंडिया टूरिस्ट, कांट्रैक्ट कैरिज, राज्य परिवहन व अन्य किसी परमिट पर संचालित होने वाले बसों पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत (Delhi Transport Minister Kailash Gahlot) ने एक्स पर अधिसूचना साझा की। 

समाचार एजेंसी पीटीआई भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली सरकार ने अधिसूचित किया है कि यदि केंद्र सरकार की वायु प्रदूषण नियंत्रण योजना के अंतिम चरण के तहत पाबंदियां लागू की जाती हैं, तो राजधानी में सीएनजी, बीएस4 डीजल और इलेक्ट्रिक बसों को छोड़कर अन्य बसों के प्रवेश पर स्वत: ही प्रतिबंध लागू हो जाएंगे। मालूम हो कि ग्रैप के चौथे चरण की पाबंदियों को अंतिम चरण माना जाता है।

अधिसूचना में कहा गया है कि ग्रैप का चौथा चरण लागू होने पर अखिल भारतीय पर्यटक बसों/ठेके पर चलने वाली बसों/राज्य परिवहन बसों या सीएनजी/इलेक्ट्रिक या बीएस4 डीजल बसों को छोड़कर अन्य राज्यों में किसी अन्य प्रकार के परमिट रखने वाली सभी बसों के दिल्ली में प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया जाएगा। 

पिछले महीने, दिल्ली सरकार ने निर्देश दिया था कि इलेक्ट्रिक, सीएनजी या बीएस-VI डीजल से चलने वाली बसों को ही हरियाणा से राष्ट्रीय राजधानी में प्रवेश की अनुमति दी जाए। उत्तर प्रदेश और राजस्थान के एनसीआर क्षेत्रों से प्रवेश करने वाली बसों को भी उक्त आदेशों का पालन करना होगा।

सरकार की तरफ से जारी अधिसूचना में कहा गया है कि दिल्ली में वायु गुणवत्ता गंभीर स्थिति में बनी हुई है। इस चिंताजनक स्थिति से निपटने के लिए तत्काल उपायों की आवश्यकता है। इसलिए व्यापक जनहित में प्रदूषण फैलाने वाली अंतरराज्यीय बसों का दिल्ली में प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने की आवश्यकता है। 

वायु प्रदूषण के प्रभाव को कम करने के लिए सार्वजनिक हित में आपातकालीन आधार पर मोटर वाहन अधिनियम-1988 की धारा-115 के प्रावधानों के तहत प्रतिबंधों को लागू करने की आवश्यकता है। इसलिए अधिनियम में प्रदत्त शक्तियों प्रवेश प्रतिबंधित किया जा रहा है। प्रमुख सचिव आशीष कुंद्रा की तरफ से जारी आदेश में कहा गया है कि ग्रैप-4 लागू होते ही प्रतिबंध स्वयं लागू हो जाएगा और ग्रैप-4 की पाबंदी हटने के बाद तत्काल पाबंदी हट जाएंगी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें