ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRदिल्ली पुलिस के आठ जवानों को मिली गुडन्यूज, केंद्र सरकार ने वापस लिया निलंबन; क्यों हुए थे सस्पेंड

दिल्ली पुलिस के आठ जवानों को मिली गुडन्यूज, केंद्र सरकार ने वापस लिया निलंबन; क्यों हुए थे सस्पेंड

दिल्ली पुलिस के आठ पुलिसकर्मियं को पांच महीने बाद गुडन्यूज मिली है। केंद्र सरकार ने इनका निलंबन वापस ले लिा है। जिसके बाद दिल्ली पुलिस ने इन सभी की बहाली का आदेश जारी किया है।

दिल्ली पुलिस के आठ जवानों को मिली गुडन्यूज, केंद्र सरकार ने वापस लिया निलंबन; क्यों हुए थे सस्पेंड
Sneha Baluniलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 16 May 2024 12:56 PM
ऐप पर पढ़ें

पिछले साल 13 दिसंबर को दो लोगों ने संसद भवन के अंदर उस समय डर और दहशत का माहौल पैदा कर दिया जब उन्होंने विजिटर्स गैलरी से चेंबर में छलांग लगाई। इस दौरान उनके हाथ में धुएं वाली कैन थी। संसद भवन की सुरक्षा में चूक को लेकर दिल्ली पुलिस के आठ जवानों को निलंबित कर दिया गया। पांच महीने बाद इन जवानों के लिए गुडन्यूज आई है। संसद सुरक्षा सेवा ने एक आदेश जारी करते हुए दिल्ली पुलिस से इन्हें बहाल करने को कहा है।

संसद पर आतंकी हमले की 22वीं बरसी पर सुरक्षा में हुई चूक के मद्देनजर सीआरपीएफ के डायरेक्टर जनरल अनीश दयाल सिंह की अध्यक्षता वाली एक समिति ने शुरुआती जांच में पाया कि एंट्री प्वाइंट (प्रवेश) पर विजिटर्स की तलाशी के दौरान सुरक्षा में कुछ खामियां हैं। दिल्ली पुलिस के आठ सुरक्षाकर्मियों को चूक की वजह से निलंबित किया गया था। हालांकि, एक सूत्र ने बताया कि सुरक्षा रिव्यू के दौरान, पता चला कि पुलिस कर्मियों ने सभी विजिटर्स की जांच की है।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, सूत्र ने कहा, चूंकि किसी भी विजिटर के जूते की जांच करने का कोई आदेश नहीं था, 'इसलिए उन्होंने उनके जूते चेक नहीं किए थे। निलंबित पुलिस कर्मियों में से एक सेवानिवृत्त होने वाला हैं, इसलिए उसने अपनी बात रखी।' एक अन्य सूत्र ने बताया कि संसद सुरक्षा सेवा से पत्र मिलने के बाद, दिल्ली पुलिस की सुरक्षा इकाई ने उन्हें बहाल करने के लिए एक आदेश जारी किया है।

घटना के बाद, केंद्र सरकार ने केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) को नियमित तैनाती के लिए संसद परिसर का सर्वे करने के लिए कहा था। सीआईएसएफ ने जनवरी में बजट सत्र से पहले संसद परिसर में प्रशिक्षण के लिए 140 कर्मियों की एक टुकड़ी भेजी और उन्होंने दिल्ली पुलिस के साथ मिलकर विजिटर्स और उनके सामान की जांच शुरू की। इससे पहले केवल दिल्ली पुलिस के जवान विजिटर्स की जांच करते थे।

पिछले साल, 13 दिसंबर को संसद की सुरक्षा में चूक के बाद दिल्ली पुलिस की जगह सीआईएसएफ के 150 कर्मियों को तैनात किया गया। वर्तमान में, वेहिकुलर एक्सेस (वाहन तक पहुंच) और पास जारी करने वाले सेक्शन सहित संसद परिसर की सुरक्षा सीआईएसएफ कर्मियों को सौंप दी गई है। यह प्रोसेस गृह मंत्रालय के उस पैनल को बनाने के बाद आया है जिसे यह आकलन करना था कि क्या संसद की सुरक्षा पूरी तरह से सीआईएसएफ को सौंप देनी चाहिए या नहीं। जिसमें पास जारी करने से लेकर वीआईपी, सांसदों अधिकारियों और मीडिया मूवमेंट को रेगुलेट करना शामिल हो।