DA Image
हिंदी न्यूज़ › NCR › दिल्ली: एसआई की दादागिरी, दुकानदार ने ठीक से नहीं पहना था मास्क, पहले काटा चालान फिर की मारपीट
एनसीआर

दिल्ली: एसआई की दादागिरी, दुकानदार ने ठीक से नहीं पहना था मास्क, पहले काटा चालान फिर की मारपीट

राजन शर्मा,नई दिल्लीPublished By: Sneha Baluni
Wed, 30 Jun 2021 07:46 AM
दिल्ली: एसआई की दादागिरी, दुकानदार ने ठीक से नहीं पहना था मास्क, पहले काटा चालान फिर की मारपीट

मास्क के लिए तिलक नगर थाना इलाके में एक सब इंस्पेक्टर का दुकानदार के साथ गाली गलौच करने का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वीडियो तिलक नगर के कृष्णा पार्क में स्थित एक मिठाई की दुकान की है। जहां तिलकनगर थाने में तैनात एसआई सुमित मास्क को लेकर उक्त दुकानदार के साथ गाली-गलौज और अभद्रता करने लगा। उसके द्वारा मास्क को लेकर काटा गया 2 हजार रुपए का चालान उक्त दुकानदार ने भर दिया। 

आरोप है कि चालान भरने के बाद भी वह पुलिसकर्मी उसे गंदी-गंदी गालियां दे रहा था। जिसका विरोध करने पर वह उसके पीड़ित दुकानदार के साथ मारपीट करने लगा और उसके कपड़े तक फाड़ दिए। यह पूरी घटना घटनास्थल पर लगे सीसीटीवी फुटेज में कैद हो गई। उधर, इस घटना के बाद पीड़ित दुकानदार ने आरोपी एसआई के खिलाफ स्थानीय पुलिस थाना समेत पश्चिमी जिला पुलिस उपायुक्त के पास शिकायत दर्ज कराई है। फिलहाल मामले में आगे छानबीन की जा रही है।

पहले काटा चालान फिर की मारपीट
जानकारी के अनुसार, कृष्णा पार्क में अग्रवाल स्वीट्स नामक मिठाई के दुकान की है। जहां दुकान के मालिक राहुल अग्रवाल मौजूद थे। अपनी शिकायत में उन्होंने बताया कि घटना 28 जून की रात करीब साढ़े 8 बजे के आसपास की है, जब उसकी दुकान पर कुछ पुलिसकर्मी पहुंच गए। राहुल ने मास्क ठीक से नहीं पहना हुआ था, जिसको लेकर पुलिसकर्मी उसका चालान काटने लगे। उसने चालान नहीं काटने का आग्रह किया तो उक्त एसआई सुमित ने उसपर एफआईआर दर्ज करने की बात कही। जिसके बाद दुकानदार ने 2 हजार रुपए का चालान भर दिया। 

आरोप है कि चालान भरने के बाद भी एसआई सुमित राहुल के साथ गाली-गलौज करने लगा और विरोध करने पर उसके साथ मारपीट करने लगा। जिससे पीड़ित के कपड़े भी फट गए। बाद में दुकान सील करवाने की धमकी देता हुआ पुलिसकर्मी वहां से चला गया। यह पूरी घटना सीसीटीवी फुटेज में भी कैद हो गई। घटना के बाद पीड़ित ने पीसीआर पुलिस को कॉल कर शिकायत दी और स्थानीय थाने समेत डीसीपी ऑफिस में लिखित रूप में शिकायत दी।

पीसीआर पुलिस पर लापरवाही का आरोप
पीड़ित का आरोप है कि घटना के बाद जब उसने पीसीआर पुलिस को कॉल किया तो मौके पर पीसीआर पुलिसकर्मी पहुंचे। दावा है कि उन्होंने पीड़ित का महज नाम और पता पूछा और बिना बयान दर्ज किए वहां से चले गए। हालांकि घटना के बाद पीड़ित को रात में थाने में बुलाया जाने लगा। जिसके बाद पीड़ित दूसरी सुबह मामले में लिखित शिकायत दी।

संबंधित खबरें