ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRएक हजार सीसीटीवी फुटेज की जांच, दिल्ली पुलिस ने खालिस्तानी नारे लिखने वाले को कैसे पकड़ा?

एक हजार सीसीटीवी फुटेज की जांच, दिल्ली पुलिस ने खालिस्तानी नारे लिखने वाले को कैसे पकड़ा?

Delhi News: दिल्ली के तिलक नगर इलाके में खालिस्तानी नारे लिखने वाले आरोपी को पकड़ने के लिए दिल्ली पुलिस ने लगभग 1000 से अधिक कैमरों के सीसीटीवी फुटेज की छानबीन की। पढ़ें यह रिपोर्ट...

एक हजार सीसीटीवी फुटेज की जांच, दिल्ली पुलिस ने खालिस्तानी नारे लिखने वाले को कैसे पकड़ा?
Krishna Singhएएनआई,नई दिल्लीWed, 31 Jan 2024 05:32 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली पुलिस ने तिलक नगर इलाके में दीवार पर खालिस्तान के पक्ष में नारे लिखने और पोस्टर बनाने के एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपियों ने दीवार पर 'दिल्ली बनेगी खालिस्तान' श्लोगन वाला पोस्टर बनाया था। बता दें कि पिछले साल अगस्त में इसी तरह की एक घटना में, दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने 27 अगस्त, 2023 को दिल्ली के पांच से अधिक मेट्रो स्टेशनों पर खालिस्तान समर्थक नारे लिखने के सिलसिले में पंजाब से दो संदिग्धों को हिरासत में लिया था। 

अधिकारियों ने कहा कि तिलक नगर इलाके में खालिस्तानी समर्थक नारे लिखने की घटना में शामिल अपराधी को सफलतापूर्वक पकड़ने के लिए दिल्ली पुलिस के लगभग 200 कर्मियों ने 1000 से अधिक कैमरों के सीसीटीवी फुटेज को खंगाला। पकड़े गए आरोपी की पहचान जसविंदर के रूप में हुई है। जसविंदर तिलक नगर इलाके का रहने वाला है और पेशे से कैब ड्राइवर है।

आरोपी ने पुलिस को बताया कि उसके एक दोस्त ने इस काम के लिए उसका इस्तेमाल किया था। उसे इसके लिए 15000 रुपये देने का वादा किया गया था, लेकिन उसे अभी तक अपने दोस्त से यह रकम नहीं मिली है।

पकड़े गए आरोपी ने दीवार पर पोस्टर बनाने, उसका वीडियो लेने और फिर इसे धोने की बात कबूल की है। आरोपी के जिस दोस्त ने इस काम के लिए उससे संपर्क किया था उसकी पहचान गगनदीप के रूप में हुई है। दिल्ली में आयोजित जी-20 शिखर सम्मेलन से पहले दिल्ली के कई मेट्रो स्टेशनों की दीवारों पर खालिस्तान समर्थक नारे लिखे जाने के बाद मामला दर्ज किया गया था।

दिल्ली पुलिस के एक अधिकारी के मुताबिक, मामला आईपीसी की धारा 153 ए, धारा 505 और डिफेसमेंट एक्ट के तहत दर्ज किया गया था। पुलिस आयुक्त (मेट्रो) जी राम गोपाल नाइक ने एएनआई को बताया कि हमें नांगलोई पुलिस स्टेशन में सुबह 11 बजे नारों के लिखे होने के बारे में जानकारी मिली। जांच शुरू कर दी गई है। नारे 4 मेट्रो स्टेशनों पर लिखे गए हैं। आईपीसी की धारा 153ए धर्म, जाति, भाषा या स्थान पर वर्गों के बीच शत्रुता को बढ़ावा देने या भय पैदा करने वाले बयानों, भाषणों या कृत्यों को अपराध मानती है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें