ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ NCRकेंद्र ने पीएफआई पर लगाया बैन, अलर्ट मोड पर दिल्ली पुलिस; उत्तर पूर्वी जिले में येलो स्कीम लागू

केंद्र ने पीएफआई पर लगाया बैन, अलर्ट मोड पर दिल्ली पुलिस; उत्तर पूर्वी जिले में येलो स्कीम लागू

पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया पर केंद्र सरकार ने पांच साल के लिए प्रतिबंध लगा दिया है। ऐसे में अब दिल्ली पुलिस अलर्ट मोड पर है। पुलिस ने कानून-व्यवस्था की स्थिति को देखते हुए गतिविधि बढ़ा दी है।

केंद्र ने पीएफआई पर लगाया बैन, अलर्ट मोड पर दिल्ली पुलिस; उत्तर पूर्वी जिले में येलो स्कीम लागू
Sneha Baluniहिन्दुस्तान टाइम्स,नई दिल्लीThu, 29 Sep 2022 01:09 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) पर केंद्र सरकार के प्रतिबंध के बाद दिल्ली पुलिस अलर्ट मोड पर है। एक रिपोर्ट के अनुसार, केंद्र की हालिया अधिसूचना में इस्लामी संगठन पर पांच साल के लिए प्रतिबंध लगाने से उत्पन्न कानून-व्यवस्था की स्थिति को देखते हुए राजधानी के विभिन्न क्षेत्रों में पुलिस गतिविधि बढ़ा दी गई है। इसके लिए कई तरह की तैयारियां भी की गई हैं।

समाचार एजेंसी एएनआई से डीसीपी संजय कुमार ने कहा, 'हम अलर्ट मोड पर हैं। हम किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं। उत्तर पूर्वी जिले को एक्टिव येलो स्कीम, ऑरेंज स्कीम और रेड स्कीम के तहत रखा गया है। आज, उत्तर पूर्व जिले में येलो स्कीम की प्रभावशीलता की जांच करने के लिए एक एक्सरसाइज आयोजित की गई, जो जिले में किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए है।'

मिली-जुली आबादी वाला दिल्ली का उत्तर पूर्व जिला उन इलाकों में शामिल है जहां पुलिस की चौकसी बढ़ा दी गई है। हाल ही में पुलिस की छापेमारी के दौरान पीएफआई से जुड़े पांच लोगों को कथित तौर पर इस इलाके से गिरफ्तार किया गया था। यहां 2020 में नागरिकता संशोधन अधिनियम और सीएए समर्थक प्रदर्शनकारियों के बीच सांप्रदायिक दंगे हुए थे, जिसमें 50 से अधिक लोगों की मौत हुई थी और कई अन्य घायल हो गए थे।

क्या हैं येलो, ऑरेंज और रेड स्कीम

उत्तर पूर्व जिले को येलो स्कीम के तहत रखा गया है। इसमें एसीपी और एसएचओ की टीमों को एक संदेश मिलते ही पर तुरंत गड़बड़ी वाली जगह पर पहुंचना होता है। फोर्स के एक अन्य आरक्षित बल को एक साथ हाईअलर्ट पर रखा जाता है। अधिकारी ने कहा कि वज्र, वाटर कैनन और अन्य संसाधन को भी टारगेट बिंदु तक ले जाया जाता है। स्थिति और बिगड़ने पर 3-4 थाना क्षेत्रों में ऑरेंज स्कीम लागू कर दी जाती है। लाल स्कीम में तब लागू की जाती है जब पूरा जिला प्रभावित होता है।

epaper