DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   NCR  ›  कोरोना वायरस : होम क्वारंटाइन की शर्तों का उल्लंघन करने पर हुई सख्ती, द्वारका के अलग-अलग थानों में 21 FIR दर्ज
एनसीआर

कोरोना वायरस : होम क्वारंटाइन की शर्तों का उल्लंघन करने पर हुई सख्ती, द्वारका के अलग-अलग थानों में 21 FIR दर्ज

नई दिल्ली। लाइव हिन्दुस्तान टीमPublished By: Praveen
Fri, 03 Apr 2020 10:59 AM
कोरोना वायरस : होम क्वारंटाइन की शर्तों का उल्लंघन करने पर हुई सख्ती, द्वारका के अलग-अलग थानों में 21 FIR दर्ज

दिल्ली पुलिस ने COVID-19 होम क्वारंटाइन के नियम और शर्तों का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों के खिलाफ द्वारका जिले के विभिन्न थानों में 21 एफआईआर दर्ज की हैं। उल्लंघनकर्ताओं पर भारतीय दंड संहिता की संबंधित धाराओं और महामारी रोग अधिनियम की धारा 3 के तहत मामले दर्ज किए जा रहे हैं।

दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस (COVID-19) के 141 नए मामले सामने आने के कारण राजधानी में कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या 293 तक पहुंच गई है। दिल्ली स्वास्थ्य विभाग की तरफ से गुरुवार (2 अप्रैल) शाम जारी आंकड़ों में 24 घंटे के दौरान आए 141 नए मामलों में 129 निजामुद्दीन मरकज से जुड़े लोगों के हैं। दिल्ली के कुल 293 मामलों में 182 लोगों का मरकज से संबंध है। राजधानी दिल्ली में इस संक्रमण के कारण अब तक चार लोगों की मौत हुई है, जिनमें दो मरकज से हैं।

कोरोना की जंग में महाभारत के हवाले से बोले केजरीवाल- जंगल की आग में वही बचेंगे जो घर में रहेंगे

गुरुवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक डिजिटल संवाददाता सम्मेलन में कहा था कि राजधानी में आगामी दिनों में कोविड-19 के मामलों में बढ़ोतरी हो सकती है क्योंकि सरकार ने मरकज से निकाले गए सभी लोगों की जांच कराने का निर्णय किया है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में कोरोना वायरस से अब तक चार लोगों की मौत हो चुकी है। 

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस महामारी को फैलने से रोकने के लिए 24 मार्च की मध्यरात्रि से देशभर में 21 दिन के बंद की घोषणा की थी। इसमें लोगों के बिना उचित कारण घरों से बाहर निकलने और चार से ज्यादा लोगों के एक साथ एकत्रित होने पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाया गया है। सभी मंदिर-मस्जिद, चर्च और गुरुद्वारों को भी इस लॉकडाउन में शामिल किया गया है और वहां पर लोगों के पूजा-अर्चना और नमाज आदि कार्यों पर रोक लगा दी गई है। केवल जरूरी वस्तुओं आपूर्ति और जरूरी सेवाओं में शामिल लोगों को ही इससे छूट दी गई है।

इसके बावजूद लोग लॉकडाउन नियमों का उल्लंघन करने से बाज नहीं आ रहे हैं। आए दिन इसके अनेक उदाहरण देखने को मिल रहे हैं। इनसे निपटना पुलिस के लिए बेहद चुनौतीपूर्ण कार्य साबित हो रहा है। 

संबंधित खबरें