Monday, January 24, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ NCRदिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने राजस्थान सीएम के विशेषा अधिकारी को भेजा नोटिस

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने राजस्थान सीएम के विशेषा अधिकारी को भेजा नोटिस

एजेंसी, जयपुरShivendra Singh
Wed, 01 Dec 2021 05:20 PM
दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने राजस्थान सीएम के विशेषा अधिकारी को भेजा नोटिस

इस खबर को सुनें

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत की शिकायत पर दिल्ली में दर्ज एक फोन टैपिंग मामले में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के विशेष अधिकारी (ओएसडी) लोकेश शर्मा को सोमवार को पूछताछ के लिये पेश होने के लिये चौथा नोटिस भेजा है। क्राइम ब्रांच ने तीसरे नोटिस की तरह अपराध प्रक्रिया संहिता की धारा 41.1 (ए) के तहत चौथा नोटिस भेजा है जिसमें दोहराया गया है कि नोटिस की शर्तो में शामिल होने/ अनुपालन करने में विफल होने पर उन्हें धारा 41 ए (3) और (4) के तहत गिरफ्तार किया जा सकता हैं। इससे पूर्व के दो नोटिस सीआरपीसी की धारा 160 (पुलिस अधिकारी की शक्ति के अनुसार गवाहों की उपस्थिति की आवश्यकता के लिए) के तहत भेजे गये थे। 

लोकेश शर्मा ने गिरफ्तारी की आशंका के मद्देनजर शर्मा ने पिछले महीने तीसरा नोटिस मिलने के बाद हाईकोर्ट में प्राथमिकी को रद्द करने वाली याचिका पर जल्द सुनवाई का अनुरोध किया था, जिस पर हाईकोर्ट ने शर्मा के खिलाफ 13 जनवरी तक कठोर कार्रवाई पर रोक लगा दी थी। 12 नवंबर को सुनवाई के दौरान दिल्ली पुलिस की ओर से यह आश्वासन दिया गया था कि शर्मा के खिलाफ कोई दंडात्मक कार्रवाई नहीं की जाएगी। उन्होंने अंतिम तीन तारीखों में निजी कारणों का हवाला देते हुए पेश नहीं हुए।

जांच अधिकारी ने नोटिस में कहा कि यह संदेह है कि शर्मा ने संज्ञेय अपराध किया है और उन्हें छह दिसम्बर को दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा के जांच अधिकारी सामने पेश होने के लिये निर्देशित किया जाता है। जांच अधिकारी ने नोटिस में कुछ शर्तें भी हैं। इनमें भविष्य में कोई अपराध नहीं करने, सबूतो के साथ छेड़छाड़ नहीं करने, मामलें के तथ्यों से परिचित किसी व्यक्ति को कोई धमकी, प्रलोभन या वादा आदि नहीं करने संबंधी शर्ते शामिल है।

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने मामलें में पूछताछ के लिये शर्मा को 24 जुलाई को पेश होने के लिये पहला, 22 अक्टूबर को दूसरा और 12 नवंबर को पेश होने के लिये तीसरा नोटिस भेजा था लेकिन वह व्यक्तिगत कारणों का हवाला देते हुए जांच अधिकारी के सामने पेश नहीं हुए। केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत और कांग्रेस नेताओं के बीच कथित रूप से फोन पर हुई बातचीत के ऑडियो क्लिप मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार के खिलाफ पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट और उनको समर्थन दे रहे पार्टी के 18 विधायकों द्वारा बगावत करने दौरान सामने आई थी। मुख्यमंत्री के विशेषाधिकारी लोकेश शर्मा ने फोन टैपिंग के आरोपों को खारिज कर दिया है।

epaper

संबंधित खबरें