ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRदिल्ली-नोएडा का सफर होगा नॉन स्टॉप, चिल्ला एलिवेटेड रोड का काम मार्च में शुरू होने की उम्मीद

दिल्ली-नोएडा का सफर होगा नॉन स्टॉप, चिल्ला एलिवेटेड रोड का काम मार्च में शुरू होने की उम्मीद

दिल्ली-नोएडा को जोड़ने वाले चिल्ला एलिवेटेड रोड को लेकर 29 नवंबर को प्री-बिड मीटिंग होगी। सेतु निगम ने यह मीटिंग बुलाई है। एलिवेटेड रोड के निर्माण के लिए कंपनियों से 12 दिसंबर तक आवेदन मांगे गए हैं।

दिल्ली-नोएडा का सफर होगा नॉन स्टॉप, चिल्ला एलिवेटेड रोड का काम मार्च में शुरू होने की उम्मीद
Praveen Sharmaनोएडा। हिन्दुस्तानMon, 27 Nov 2023 07:34 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली-नोएडा को जोड़ने वाले चिल्ला एलिवेटेड रोड को लेकर 29 नवंबर को प्री-बिड मीटिंग होगी। सेतु निगम ने यह मीटिंग बुलाई है। एलिवेटेड रोड का निर्माण करने के लिए कंपनियों से 12 दिसंबर तक आवेदन मांगे गए हैं। इस परियोजना का काम मार्च में शुरू होने की उम्मीद है।

जाम खत्म करने के लिए दिल्ली के चिल्ला रेगुलेटर से नोएडा के महामाया फ्लाईओवर तक यह एलिवेटेड रोड बनना है। चिल्ला रेगुलेटर से एलिवेटेड रोड को मयूर विहार फ्लाईओवर से जोड़ा जाएगा।

इसका निर्माण सेतु निगम को करना है। इस महीने सेतु निगम ने एलिवेटेड रोड का निर्माण शुरू कराने के लिए टेंडर जारी किया था। इस बीच 29 नवंबर को प्री बिड मीटिंग बुलाई गई है। इस दौरान जो कंपनियां टेंडर प्रक्रिया में आना चाहती हैं, वे इस परियोजना से जुड़ी कोई भी जानकारी ले सकती हैं या सुझाव दे सकती हैं। अधिकारियों का कहना है कि अगर पहली ही इस टेंडर प्रक्रिया में कंपनी का चयन हो जाता है तो मार्च-अप्रैल 2024 तक एलिवेटेड रोड का काम शुरू हो सकता है।

वर्ष 2020 में इस एलिवेटेड रोड का काम शुरू हुआ था, लेकिन लागत विवाद के कारण 2021 में काम बंद हो गया। काम का जिम्मा मिलने पर सेतु निगम ने नाममात्र काम किया। बाद में लागत बढ़ने से काम बंद हो गया। करीब दो साल से काम पूरी तरह बंद पड़ा है। करीब चार महीने पहले लागत को लेकर चल रहा विवाद खत्म हुआ। इसके बाद नोएडा प्राधिकरण ने सेतु निगम को टेंडर जारी करने के निर्देश दिए। परियोजना की निगरानी का जिम्मा नोएडा प्राधिकरण के पास होगी।

वर्ष 2021 में पूरी हो जानी चाहिए थी परियोजना

फिल्म सिटी रास्ते पर जाम की समस्या खत्म करने के लिए करीब 10 साल पहले चिल्ला एलिवेटेड रोड बनाने की योजना तैयार की गई थी। छह-सात साल तक यह योजना फाइलों में ही घूमती रही। वर्ष 2018 में इस परियोजना को मंजूरी दी गई और 25 जनवरी 2019 को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसका शिलान्यास भी कर दिया। इसका काम का जिम्मा लोक निर्माण विभाग के जरिए उत्तर प्रदेश राज्य सेतु निगम को सौंपा गया। दावा किया गया कि सितंबर 2021 तक महामाया से सेक्टर-18 और दिसंबर 2021 तक पूरा एलिवेटेड रोड बनकर तैयार हो जाना चाहिए था।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें