ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRसुप्रीम कोर्ट से सुकेश चंद्रशेखर की पत्नी को झटका, लगाई थी यह गुहार

सुप्रीम कोर्ट से सुकेश चंद्रशेखर की पत्नी को झटका, लगाई थी यह गुहार

सुप्रीम कोर्ट ने सुकेश चंद्रशेखर की पत्नी लीना पॉलोज की दिल्ली हाई कोर्ट में जमानत याचिका पर शीघ्र सुनवाई की मांग वाली याचिका खारिज कर दी है। इसके साथ ही शीर्ष अदालत ने कड़ी टिप्पड़ी भी की।

सुप्रीम कोर्ट से सुकेश चंद्रशेखर की पत्नी को झटका, लगाई थी यह गुहार
sukesh chandrasekha
Krishna Singhपीटीआई,नई दिल्लीMon, 17 Jun 2024 06:18 PM
ऐप पर पढ़ें

सुकेश चंद्रशेखर की पत्नी लीना पॉलोज को 200 करोड़ रुपये की जबरन वसूली के मामले में सुप्रीम कोर्ट से एक और तगड़ा झटका लगा है। सुप्रीम कोर्ट की जस्टिस संजय कुमार और ऑगस्टीन जॉर्ज मसीह की अवकाश पीठ ने सुकेश चंद्रशेखर की पत्नी लीना पॉलोज की दिल्ली हाई कोर्ट में जमानत याचिका पर शीघ्र सुनवाई की मांग वाली याचिका खारिज कर दी है। अदालत ने कहा कि वह दिल्ली हाई कोर्ट के बोर्ड को उसकी जमानत याचिका पर शीघ्र सुनवाई सुनिश्चित करने की व्यवस्था नहीं कर सकती है।

इसके साथ ही सर्वोच्च अदालत ने कहा कि विशेष अनुमति याचिका खारिज की जाती है। हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने सुकेश चंद्रशेखर की पत्नी लीना पॉलोज को जमानत देने से इनकार कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि उनके खिलाफ काफी गंभीर आरोप हैं। इसकी वजह से लीना पॉलोज को जमानत नहीं दी जा सकती है। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली उच्च न्यायालय के 25 मई के उस फैसले में दखल देने से इनकार कर दिया था। 

दिल्ली पुलिस ने रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटर शिविंदर सिंह और मालविंदर सिंह की पत्नियों से 200 करोड़ रुपये की ठगी के आरोप में सुकेश चंद्रशेखर के खिलाफ FIR दर्ज की थी। देश भर में उनके खिलाफ कई अन्य जांच चल रही हैं। मौजूदा वक्त में सुकेश चंद्रशेखर और पॉलोज ईडी की ओर से दर्ज मनी लॉन्ड्रिंग मामले में कार्यवाही का सामना कर रहे हैं। पुलिस ने मामले में महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण अधिनियम (मकोका) भी लगाया है। 

पिछले महीने सुप्रीम कोर्ट ने सुकेश चंद्रशेखर की उस याचिका पर दिल्ली सरकार से जवाब मांगा था जिसमें अधिकारियों को उसे मंडोली जेल से पंजाब और दिल्ली की जेलों को छोड़कर किसी अन्य जेल में भेजे जाने की मांग की थी। अदालत ने दिल्ली सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा था। न्यायमूर्ति बेला एम त्रिवेदी और न्यायमूर्ति पंकज मिथल की खंडपीठ ने जवाब देने के लिए 19 जुलाई तक की समय सीमा दी थी। बता दें कि दिल्ली के उपराज्यपाल वीके सक्सेना ने चंद्रशेखर की शिकायत पर पूर्व मंत्री सत्येन्द्र जैन के खिलाफ सीबीआई जांच की सिफारिश की है।