ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRसाकेत वन क्षेत्र पर 500 झुग्गियों का कब्जा, दिल्ली पुलिस से ऐक्शन की मांग

साकेत वन क्षेत्र पर 500 झुग्गियों का कब्जा, दिल्ली पुलिस से ऐक्शन की मांग

साकेत के छह हेक्टेयर के वन क्षेत्र में बड़े पैमाने पर अतिक्रमण की शिकायतें मिली हैं। स्थानीय नागरिकों ने इसको लेकर दिल्ली पुलिस और दक्षिण दिल्ली के नए सांसद रामवीर सिंह बिधूड़ी को पत्र लिखा है।

साकेत वन क्षेत्र पर 500 झुग्गियों का कब्जा, दिल्ली पुलिस से ऐक्शन की मांग
Krishna Singhहिन्दुस्तान टाइम्स,नई दिल्लीMon, 24 Jun 2024 12:35 AM
ऐप पर पढ़ें

साकेत के प्रेस एन्क्लेव, एक स्थानीय अस्पताल और साकेत स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स के बीच छह हेक्टेयर के वन क्षेत्र में बड़े पैमाने पर अतिक्रमण की शिकायतें मिली हैं। स्थानीय नागरिकों ने इसको लेकर दिल्ली पुलिस और दक्षिण दिल्ली के नए सांसद रामवीर सिंह बिधूड़ी को पत्र लिखा है। शिकायतों में कहा गया है कि 500 ​​से अधिक झुग्गियों ने इस क्षेत्र पर कब्जा कर लिया है। कब्जा करने वाले नियमित रूप से यहां पर ठोस कचरा डाल रहे हैं। 

स्थानीय लोगों ने अपनी शिकायत में कहा कि पिछले अप्रैल में वन विभाग इलाके का निरीक्षण किया था। फिर भी अवैध कब्जाधारियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है। इतना ही नहीं इनकी संख्या बढ़ती जा रही है। प्रेस एन्क्लेव रेजिडेंट्स वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष अजय सूद ने कहा कि जंगल के इस हिस्से में 500 से ज्यादा झुग्गियां हैं। इस जगह लगातार कचरा और पेड़ जलाए जाते हैं। 

अजय सूद ने कहा कि कचरे या जलाई जा रही सामग्री से निकलने वाले प्रदूषण के कारण लोगों को असुविधा हो रही है। साकेत में 15 से अधिक आरडब्लूए की शीर्ष संस्था फेडरेशन ऑफ रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन इन साकेत (FRWA) ने कहा कि बीते कुछ महीनों के दौरान कई स्थानीय आरडब्लूए उनसे संपर्क किया है। जंगल में कचरा जलाए जाने का आरोप लगा है।

FRWA के अध्यक्ष राकेश डबास ने शिकायत में कहा कि जंगल में स्थायी मकान बनाने की भी कोशिशें की जा रही हैं। यदि अतिक्रमणकारियों को नहीं रोका गया तो पूरा जंगल खत्म हो जाएगा। डबास ने बताया कि वह 19 जून को स्थानीय सांसद से संपर्क कर चुके हैं। उन्होंने इस बारे में 20 जून को दिल्ली पुलिस को एक पत्र लिखा था। यही नहीं वह जल्द ही एनजीटी में याचिका दायर करने की योजना बना रहे हैं।

अप्रैल 2023 में एक सबमिशन में वन और वन्यजीव विभाग ने एनजीटी को बताया था कि उसे वन क्षेत्र में अतिक्रमण और कचरा मिला है। हौज रानी गांव में कदीम जरी मुस्लिम ईदगाह के पास जमीन पर कुछ झुग्गियां थीं जिनमें रहने वाले लोगों की कबाड़ की दुकानें इस जमीन पर पाई गईं। वन विभाग का भी कहना है कि वह शिकायतों के आधार पर क्षेत्र का फिर से निरीक्षण करेगा। एक रिपोर्ट तैयार की जाएगी। डीडीए इस मामले में कार्रवाई करेगा।