ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRदिल्ली में डेंगू के 120 मामले रिपोर्ट, 13 हजार घरों में मिले मच्छरों के लार्वा, 15 हजार नोटिस

दिल्ली में डेंगू के 120 मामले रिपोर्ट, 13 हजार घरों में मिले मच्छरों के लार्वा, 15 हजार नोटिस

दिल्ली नगर निगम में नेता विपक्ष राजा इकबाल सिंह ने बुधवार को मच्छर जनित बीमारियों को लेकर दावा किया कि अब तक दिल्ली में डेंगू के 120 मामले दर्ज हो चुके हैं। उन्होंने दिल्ली नगर निगम पर आरोप भी लगाए।

दिल्ली में डेंगू के 120 मामले रिपोर्ट, 13 हजार घरों में मिले मच्छरों के लार्वा, 15 हजार नोटिस
Krishna Singhराहुल मानव,नई दिल्लीWed, 01 May 2024 10:53 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली नगर निगम में नेता विपक्ष राजा इकबाल सिंह ने बुधवार को मच्छर जनित बीमारियों को लेकर बयान जारी किया। उन्होंने दावा किया कि अब तक दिल्ली में डेंगू के 120 मामले दर्ज हो चुके हैं। जबकि जनवरी से से अप्रैल माह के दौरान वर्ष 2022 में इन मरीजों के मामले 25 और वर्ष 2020 में 8 और वर्ष 2021 में 3 दर्ज हुए थे। इन बीमारियों को लेकर पहले से ही मुस्तैदी से तैयारियां की जाती थीं। 

उन्होंने आरोप लगाया कि अब इन बीमारियों की रोकथाम को लेकर कार्य प्रणाली को बेहतर ढंग से सुनिश्चित नहीं किया जा रहा है। स्थायी समिति का गठन नहीं हुआ है। इसके साथ ही मलेरिया निरोधक समिति का भी गठन नहीं हुआ है। जिसके कारण इन बीमारियों की रोकथाम को लेकर बजट निर्धारित करने में भी दिक्कतें आ रही हैं।

हालांकि निगम प्रशासन ने डेंगू के मामलों के दर्ज होने पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। निगम प्रशासन ने बीते वर्ष अगस्त माह से डेंगू, मलेरिया व चिकनगुनिया जैसी मच्छर जनित बीमारियों के आंकड़े के साथ साप्ताहिक रिपोर्ट को जारी करना समाप्त कर दिया है। इन आंकड़ों व साप्ताहिक रिपोर्ट को जारी करने की लगातार मांग की जा रही है। इस संबंध में आरडब्ल्यूए के प्रतिनिधियों ने भी तुरंत उचित कदम उठाने के लिए कहा है। 

इस मामले पर निगम के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि मच्छर जनित बीमारियों को नियंत्रित करने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं। कर्मचारी लगातार वार्ड स्तर पर निरीक्षण कर रहे हैं। साथ ही मच्छर प्रजनन व लार्वा को नष्ट कर रहे हैं।

दिल्ली में नगर निगम प्रशासन के निरीक्षण के दौरान अब तक 13 हजार से अधिक घरों में मच्छर प्रजनन व लार्वा मिले हैं। इस परिस्थिति को देखते हुए निगम प्रशासन ने अपनी निगरानी प्रणाली को बढ़ा दिया है। निगम के 5 हजार से अधिक कर्मचारियों को पूरी दिल्ली में तैनात कर दिया है। जिसके मद्देनजर हर वार्ड में पांच टीमें मच्छर प्रजनन की जांच कर रही हैं। 

अधिकारियों के अनुसार इस वर्ष अब तक निरीक्षण के दौरान जांच में पता चला है कि 13 हजार से अधिक घरों में मच्छर प्रजनन व लार्वा के स्थान मिले हैं। जिसके बाद निगम ने 15 हजार से अधिक नोटिस जारी किए हैं। साथ ही 1100 से अधिक चालान काटे हैं। बीते वर्ष में भी जनवरी से अप्रैल तक 13 हजार से अधिक घरों में मच्छर प्रजनन व लार्वा पाए गए थे। इस स्थिति से निपटने के लिए निगम प्रशासन ने लोगों को जागरूक करना भी शुरू कर दिया है। 

अधिकारी ने बताया कि जिन भी जगहों पर मच्छर प्रजनन मिले हैं। वहां पर मच्छर रोधी दवा का छिड़काव शुरू कर दिया है। लोगों को इस दवा के छिड़काव के लिए निगम को सूचना देने के लिए भी कहा है। हालांकि, आरडब्ल्यूए व कॉलोनियों के निवासियों ने निगम प्रशासन के कार्य प्रणाली पर सवाल खड़े किए हैं। आरडब्ल्यूए के प्रतिनिधियों ने कहा कि मच्छर जनित बीमारियों की साप्ताहिक रिपोर्ट को प्रत्येक हफ्ते निगम वेबसाइट पर प्रशासन अपलोड की जानी चाहिए।