ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRNCR के लिए गुडन्यूज, दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे से जुड़ेगा द्वारका एक्सप्रेसवे; हजारों को फायदा

NCR के लिए गुडन्यूज, दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे से जुड़ेगा द्वारका एक्सप्रेसवे; हजारों को फायदा

दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे से द्वारका एक्सप्रेसवे को क्लोवरलीफ के जरिए जोड़ा जाएगा। एनएच 248ए (गुरुग्राम-सोहना एलिवेटेड रोड) पर वाटिका चौक के समीप क्लोवरलीफ बनाया जाएगा।

NCR के लिए गुडन्यूज, दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे से जुड़ेगा द्वारका एक्सप्रेसवे; हजारों को फायदा
Sneha Baluniदीपक आहूजा,गुरुग्रामWed, 15 May 2024 08:13 AM
ऐप पर पढ़ें

द्वारका एक्सप्रेसवे को दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे से जोड़ने की योजना का रास्ता साफ हो गया है। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) ने एनएच 248ए (गुरुग्राम-सोहना एलिवेटेड रोड) पर वाटिका चौक के समीप क्लोवरलीफ तैयार करने की प्राथमिक मंजूरी गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण (जीएमडीए) को दे दी है। जीएमडीए की योजना द्वारका एक्सप्रेसवे और एनएच-48 को जोड़ रहे क्लोवरलीफ से वाटिका चौक तक एलिवेटेड रोड बनाने की है। इन दोनों के बनने के बाद एनएच248ए, एसपीआर (साउथर्न पेरिफेरल रोड) और गोल्फ कोर्स एक्सटेंशन रोड पर यातायात दबाव कम हो जाएगा।

सोमवार को एनएचएआई अध्यक्ष संतोष कुमार यादव की अध्यक्षता में बैठक दिल्ली स्थित एनएचएआई मुख्यालय में हुई थी। इसमें एनएचएआई के क्षेत्रीय अधिकारी मोहम्मद सैफी, परियोजना अधिकारी योगेश तिलक, जीएमडीए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ए.श्रीनिवास, मुख्य अभियंता अरुण धनखड़, राजेश बंसल, कार्यकारी अभियंता विकास मलिक आदि मौजूद थे। 

जीएमडीए अधिकारियों ने एनएचएआई अध्यक्ष को बताया कि एनएच248ए पर वाटिका चौक के समीप क्लोवरलीफ निर्माण की अनुमति प्रदान की जाए। उन्हें बताया कि मौजूदा समय में गोल्फ कोर्स एक्सटेंशन रोड या द्वारका एक्सप्रेसवे से एसपीआर के माध्यम से वाटिका चौक पर पहुंच रहे वाहन चालकों को दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे पर चढ़ने के लिए वाटिका चौक से लेकर भोंडसी तक या वाटिका चौक से सुभाष चौक तक जाना पड़ता है। इसके बाद एलिवेटेड हाइवे पर चढ़कर दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे के लिए निकलते हैं। इस कारण गुड़गांव-सोहना रोड पर यातायात अधिक रहता है। एनएचएआई अध्यक्ष को बताया गया कि द्वारका एक्सप्रेसवे से लेकर एनएच 248ए को जोड़ने के लिए करीब 5.5 किलोमीटर लंबा एलिवेटेड रोड बनाने की योजना है। ऐसा होने के बाद द्वारका एक्सप्रेसवे, एनएच-48 और एनएच248ए आपस में जुड़ जाएंगे। इससे रोजाना हजारों की संख्या में वाहन चालकों को लाभ मिलेगा।

सलाहकार कंपनी को एस्टीमेट की जिम्मेदारी

एनएचएआई से प्राथमिक मंजूरी मिलने के बाद जीएमडीए की तरफ से किसी सलाहकार कंपनी को एलिवेटेड रोड और क्लोवरलीफ निर्माण का इस्टीमेट तैयार करने की जिम्मेदारी सौंपी जाएगी। जीएमडीए के एक अधिकारी ने बताया कि इसका डिजाइन तीन महीने के अंदर यह तैयार हो जाएगा। इसके बाद मुख्यमंत्री के समक्ष जीएमडीए अथॉरिटी की बैठक में इस मामले को रखा जाएगा। मंजूरी मिलने के बाद टेंडर आमंत्रित करने की प्रक्रिया को शुरू होगी। इसके बाद इसका निर्माण कार्य आगे बढ़ेगा। अधिकारियों का कहना है कि क्लोवरलीफ के बनने से लोगों को काफी फायदा मिलेगा।

साउथर्न पेरिफेरल रोड की हालत बदतर

मौजूदा समय में एसपीआर (साउथर्न पेरिफेरल रोड) की हालत बदतर अवस्था में है। द्वारका एक्सप्रेसवे से यदि किसी वाहन चालक को दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे पर जाना होता है तो उसे इस बदहाल सड़क को पार करने में 20 से 25 मिनट का समय लग जाता है। यातायात दबाव अधिक होने के कारण वाहन चालकों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है। बता दें कि एसपीआर पर सेक्टर-68 से लेकर 79 तक विकसित हैं। इन सेक्टर में करीब 20 हजार परिवारों ने रहना शुरू कर दिया है। ऐसे में सुबह और शाम के समय एसपीआर पर वाहनों का दबाव अधिक रहता है। इससे कई बार जाम की स्थिति भी बन जाती है। इससे लोग परेशान हो रहे हैं।

टोल शुल्क का मामला उठा बैठक में

सूत्रों के मुताबिक इस बैठक में टोल शुल्क का मामला उठा। एनएचएआई अध्यक्ष ने कहा कि एनएच248ए पर गांव घामडौज के समीप टोल प्लाजा लगा है। ऐसे में टोल शुल्क को लेकर आपत्तियां उठेंगी। जीएमडीए के एक अधिकारी ने बैठक में बताया कि एनएचएआई की तरफ से सेटेलाइट आधारित टोल लगाए जा रहे हैं। ऐसे में प्रति किलोमीटर के हिसाब से निर्धारित रेट के मुताबिक वाहन चालकों को टोल शुल्क देना होगा, जिससे किसी तरह की आपत्ति नहीं होगी।