ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRअब बेफिक्र होकर करें सफर, गेट में कपड़ा भी फंसा तो नहीं चलेगी मेट्रो; किन-किन लाइनों की ट्रेन में लगेगा एंटी ड्रैग फीचर

अब बेफिक्र होकर करें सफर, गेट में कपड़ा भी फंसा तो नहीं चलेगी मेट्रो; किन-किन लाइनों की ट्रेन में लगेगा एंटी ड्रैग फीचर

Delhi Metro: दिल्ली मेट्रो में अब यात्री बेफिक्र होकर सफर कर सकते हैं। यात्रियों की सुरक्षा के लिए ट्रेन में एंटी ड्रैग फीचर लगाए जाएंगे। इसके लगने से दरवाजे पर कपड़ा भी फंसा तो ट्रेन नहीं चलेगी।

अब बेफिक्र होकर करें सफर, गेट में कपड़ा भी फंसा तो नहीं चलेगी मेट्रो; किन-किन लाइनों की ट्रेन में लगेगा एंटी ड्रैग फीचर
Sneha Baluniबृजेश सिंह,नई दिल्लीWed, 29 May 2024 08:24 AM
ऐप पर पढ़ें

इंद्रलोक मेट्रो स्टेशन पर ट्रेन में फंसकर घसीटने से हुई महिला की मौत के बाद दिल्ली मेट्रो प्रबंधन ने सुरक्षा को लेकर अहम फैसला लिया है। इसके तहत मेट्रो ट्रेन में एंटी ड्रैग फीचर लगाए जाएंगे। इसके लगने से मेट्रो के दरवाजे में कपड़े जैसी पतली वस्तु फंसने के बाद भी अगर दरवाजा बंद हो जाए तो भी ट्रेन नहीं चलेगी। इस नए फीचर को लगाने में 15 महीने का समय लगेगा। पांच ट्रेनों में लगाने के लिए इसमें करीब 3.55 करोड़ की लागत आएगी।

दिल्ली मेट्रो के अधिकारियों के मुताबिक यात्रियों की सुरक्षा के लिए हम पहली बार ट्रेनों में एंटी ड्रैग फीचर लगाने जा रहे हैं। मौजूदा ट्रेनों में रेट्रोफिटमेंट कराने के लिए निविदा भी जारी कर दी गई है। पायलट योजना के तहत इसे आठ कोच वाली पांच ट्रेनों यानि कुल 40 कोच के दरवाजे में यह फीचर लगाए जाएंगे। अगर प्रयोग सफल रहा तो आगे सभी ट्रेनों में इसे लगाने का फैसला किया जाएगा। अभी रेड लाइन (दिलशाद गार्डन से रिठाला) के तीन ट्रेन और यलो लाइन (गुरुग्राम से समयपुर बादली) पर चलने वाली दो ट्रेनों में यह एंटी ड्रैग फीचर लगाया जाएगा।

मेट्रो के मुताबिक एंटी-ड्रैग सिस्टम को यात्रियों या उनके सामान के बंद दरवाजों के अंदर फंसने के बाद भी चलती ट्रेन में घसीटे जाने से होने वाली चोटों को रोकने के लिए डिजाइन किया गया है। यह खतरनाक स्थितियों (बेल्ट, कपड़ा, साड़ी, बैग की पट्टियां जैसी वस्तु) की पहचान करने में मदद करता है। वर्तमान में मेट्रो के दरवाजों में 15 एमएम पतला सामान को चिह्नित करके दरवाजा बंद करने से रोकता है। मगर एंटी ड्रैग सिस्टम इससे पतली वस्तु की भी पहचान कर सकता है।

72 कोच के दरवाजों का होगा नवीनीकरण

एंटी ड्रैगिंग सिस्टम के अलावा दिल्ली मेट्रो रेल निगम अपने पुराने ट्रेनों के कोच के दरवाजे के सिस्टम का भी नवीनीकरण (रिफर्बिशमेंट) करेगा। पहले चरण में कुल 72 कोच के दरवाजों का नवीनीकरण होगा। इसमें उसके सेंसर्स से लेकर डिटेक्टिंग सिस्टम की जांच होगी। इसमें दो साल का समय लगने के साथ कुल 65 लाख रुपये से अधिक की लागत आएगी।