ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRबिजली कनेक्शन के लिए क्यों देना पड़ता है घूस, वजह बता मेयर बोलीं- खत्म करने के लिए आया प्रस्ताव

बिजली कनेक्शन के लिए क्यों देना पड़ता है घूस, वजह बता मेयर बोलीं- खत्म करने के लिए आया प्रस्ताव

दिल्ली की मेयर शैली ओबेरॉय ने कहा कि नई प्रॉपर्टी को बुक करने के  बाद बिजली का कनेक्शन लेने के लिए MCD से NOC (No Objection Certificate)की जरूरत पड़ती है। पर इसमें दिक्कतें आती हैं।

बिजली कनेक्शन के लिए क्यों देना पड़ता है घूस, वजह बता मेयर बोलीं- खत्म करने के लिए आया प्रस्ताव
Nishant Nandanलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 26 Feb 2024 07:24 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली में नई प्रॉपर्टी लेने के बाद अक्सर खरीददार को नया बिजली कनेक्शन लेने के लिए नाकों चने चबाना पड़ता है। लेकिन अब आम जनता की इस परेशानी का समाधान निकालने का प्रयास किया जा रहा है। इस समस्या को दूर करने के लिए एक प्रस्ताव MCD सदन की बैठक में एक प्रस्ताव लाया गया है। दिल्ली की मेयर शैली ओबेरॉय ने कहा कि नई प्रॉपर्टी को बुक करने के  बाद बिजली का कनेक्शन लेने के लिए MCD से NOC (No Objection Certificate)की जरूरत पड़ती है। लेकिन एमसीडी का भवन विभाग एनओसी नहीं देता। लेकिन अब एमसीडी सदन में इसके समाधान से संबंधित एक प्रस्ताव रखा गया है। 

मेयर ने कहा, 'दिल्ली की जनता एक बहुत बड़ी समस्या आ रही है। जब से आम आदमी पार्टी की सरकार आई है इस समस्या को उठाया जा रहा है कि जब प्रॉपर्टी बुक हो जाती है तब वहां पर बिजली का कनेक्शन लगाने में वहां पर बहुत दिक्कतें आती हैं। जब प्रॉपर्टी बुक हो जाती है तब उसके बाद बिजली कनेक्शन के लिए अप्लाई किया जाता है तो उसके लिए एमसीडी से एक एनओसी की जरुरत पड़ती है। लेकिन एमसीडी का बिल्डिंग डिपार्टमेंट एनओसी देता नहीं है। इसी को लेकर सदन में एक अहम प्रस्ताव रखा गया है। इस प्रस्ताव में साल 2007 के एक मामले को कोट किया गया है।

मुझे लगता है कि सबसे बड़ी समस्या यह है कि एमसीडी का हाउस टैक्स डिपार्टमेंट, एमसीडी का बिल्डिंग डिपार्टमेंट, दिल्ली जल बोर्ड और संबंधित विद्युत विभाग के कोऑर्डिनेशन में कमी है। एक-दूसरे से कम्यूनिकेश की कमी है और इसी गैप की वजह से कही ना कही भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलता है और मजबूरन प्रॉपर्टी ऑनर को रिश्वत देकर अपना बिजली मीटर लगवाना पड़ता है। इसी को खत्म करने के लिए प्रस्ताव लाया गया है।' 

मेयर ने कहा कि इस प्रस्ताव में साफ-साफ कहा गया है कि चारों विभाग एक-दूसरे के साथ कम्युनिकेशन करेंगे। अगर कोई कमी है तो वो इस संबंध में साफ-साफ प्रॉपर्टी मालिक को बताए ताकि वो इन कमियों को पूरा कर बिजली का मीटर लगवा सके।

बीजेपी पर निशाना

मेयर शैली ओबेरॉय ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के पार्षदों ने सदन की कार्यवाही में जमकर बाधा डाला। शैली ओबेरॉय ने कहा, 'पिछले एक साल में हमने सदन में किसी भी अहम मुद्दे पर चर्चा नहीं की है। मुझे लगता है कि यह काफी दुख और खेद की बात है। दिल्ली की जनता के लिए हम जो भी प्रस्ताव लाते हैं उसपर चर्चा बहुत जरुरी है। भारतीय जनता पार्टी के पार्षदों को जनता ने उम्मीदों के साथ चुना है। उनकी जिम्मेदारी बनती है जनता के कामों में। सदन में हंगामा करना, प्राइवेट माइक लाना और मेज पर चढ़ना। इन सभी चीजों से सदन की मर्यादा भंग होती है। उसी शोर शराबे में कई प्रस्तावों को पास किया है।' 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें