ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRदिल्ली में बारिश का अलर्ट; यदि ऐसा हुआ तो शुरू होगी एक नई मुसीबत जो दिसंबर तक रहेगी बरकरार

दिल्ली में बारिश का अलर्ट; यदि ऐसा हुआ तो शुरू होगी एक नई मुसीबत जो दिसंबर तक रहेगी बरकरार

Delhi Weather News: मौसम विभाग ने बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विज्ञानियों का कहना है कि यदि दिल्ली में बारिश हुई तो एक नई मुसीबत शुरू होगी जो दिसंबर तक बरकरार रह सकती है।

दिल्ली में बारिश का अलर्ट; यदि ऐसा हुआ तो शुरू होगी एक नई मुसीबत जो दिसंबर तक रहेगी बरकरार
Krishna Singhलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीSun, 26 Nov 2023 03:13 PM
ऐप पर पढ़ें

Delhi Weather Forecast: दिल्ली में मौसम बदलने वाला है। मौसम विभाग ने दिल्ली में दिन के वक्त बादल छाए रहने का अनुमान जताया है। सोमवार को हल्की बारिश या बूंदाबांदी हो सकती है। हालांकि यह मौसम की तीव्रता पर निर्भर करेगा। मौसम विज्ञानियों का कहना है कि यदि दिल्ली एनसीआर के इलाकों में बारिश होगी तो इससे मौसम में बड़ा बदलाव नजर आ सकता है। मौसम विभाग ने बारिश के कारण मंगलवार से कोहरा छाने की आशंका जताई है, जो दिसंबर के पहले हफ्ते तक बना रह सकता है। 

मौसम विभाग का कहना है कि एक साइक्लोनिक सर्कुलेशन मध्य पाकिस्तान और इससे सटे पश्चिमी राजस्थान के निचले स्तरों पर स्थित है। यही नहीं पूर्वी हवाओं की एक ट्रफ दक्षिण-पश्चिम अरब सागर से उत्तर-पूर्व अरब सागर तक देखी जा रही है। एक ट्रफ पश्चिमी विक्षोभ के रूप में पश्चिमी हिमालय पर भी मौजूद है। दक्षिणी अंडमान सागर पर भी एक साइक्लोनिक सर्कुलेशन बना हुआ है। कुल मिलाकर मौसमी परिस्थितियां देश के कई हिस्सों में बारिश का माहौल बना रही हैं। 

मौसम विज्ञानियों का कहना है कि पश्चिमी हिमालय पर जो पश्चिमी विक्षोभ बना हुआ है उसके प्रभाव के कारण उत्तर पश्चिमी भारत में मौसम खराब होगा। इससे उत्तर पश्चिमी भारत के कुछ इलाकों में बूंदाबांदी देखी जा सकती है। राजधानी दिल्ली और उसके आस पास के कुछ इलाकों में सोमवार को हल्की बूंदाबांदी देखी जा सकती है। मौसम विभाग का कहना है कि यदि दिल्ली एनसीआर में बारिश होती है तो अगले कुछ दिनों तक सुबह के समय हल्का कोहरा छाया रहेगा।

ऐसे में जब दिल्ली एनसीआर में हवा की रफ्तार धीमी है। कुहरे के कारण यातायात पर असर भी पड़ सकता है। यही नहीं प्रदूषण भी लोगों को परेशान कर सकता है। मौजूदा वक्त में दिल्ली में हवा की रफ्तार चार किमी प्रतिघंटा देखी जा रही है जबकि प्रदूषक कणों के बिखराव के लिए हवा की रफ्तार 10 किलोमीटर प्रतिघंटा से ज्यादा होनी चाहिए। हवा की धीमी रफ्तार के चलते ही प्रदूषक कणों का बिखराब नहीं हो पा रहा है। विशेषज्ञों ने आशंका जताई है कि दिल्ली में अगले छह दिनों तक हवा का स्तर खराब ही रहेगा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें