ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRमंत्री सौरभ भारद्वाज के OSD सस्पेंड, LG ने नर्सिंग होम रजिस्ट्रेशन से जुड़े मामले में की कार्रवाई

मंत्री सौरभ भारद्वाज के OSD सस्पेंड, LG ने नर्सिंग होम रजिस्ट्रेशन से जुड़े मामले में की कार्रवाई

25 मई को विवेक विहार इलाके के एक अस्पताल में आग लगने से 5 ऑक्सीजन सिलेंडर फट गए थे। यह अस्पताल बिना लाइसेंस और दमकल विभाग की NOC के बिना संचालित किया जा रहा था। घटना में 6 नवजातों की मौत हो गई थी।

मंत्री सौरभ भारद्वाज के OSD सस्पेंड, LG ने नर्सिंग होम रजिस्ट्रेशन से जुड़े मामले में की कार्रवाई
delhi lt governor suspends health minister saurabh bharadwaj osd dr r n das with immediate effect
Sourabh JainPTI,नई दिल्लीWed, 29 May 2024 06:48 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के उपराज्यपाल वीके सक्सेना ने बुधवार को स्वास्थ्य मंत्री सौरभ भारद्वाज के OSD (विशेष कार्य अधिकारी) डॉ. आर एन दास को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। यह कार्रवाई निजी नर्सिंग होम्स के अनियमित और अवैध पंजीकरण में कथित अनियमितता को लेकर की गई है।

इस बारे में जानकारी देते हुए एक अधिकारी ने कहा, 'दास को निलंबित करने का तात्कालिक कारण वैध पंजीकरण अवधि गुजरने के बाद भी शहादरा के ज्योति नर्सिंग होम को अनधिकृत और अवैध रूप से चलाने के संबंध में कथित  मिलीभगत है, जबकि वह नर्सिंग होम सेल के चिकित्सा अधीक्षक भी थे।'

दिल्ली के विवेक विहार स्थित चाइल्ड केयर सेंटर अस्पताल की पंजीकरण प्रक्रिया में भी दास की भूमिका को लेकर सवाल उठ रहे थे। इस अस्पताल में  25 मई (शनिवार रात) आग लगने की घटना में छह नवजात शिशुओं की मौत हो गई थी। इसे लेकर भी दास पर भाजपा ने आरोप लगाया था।

बुधवार को जारी दास के निलंबन आदेश में निदेशालय ने कहा, 'माननीय उपराज्यपाल, दिल्ली उन्हें प्रदत्त शक्तियों का उपयोग करते हुए GNCTD के माननीय मंत्री (स्वास्थ्य) के OSD (ऑफिसर ऑन स्पेशल ड्यूटी) डॉ आर.एन. दास को तत्काल प्रभाव से निलंबित करते हैं।'

निदेशालय की तरफ से जारी आदेश में आगे लिखा गया कि, 'इस आदेश के प्रभावी रहने की अवधि के दौरान डॉ. दास, माननीय मंत्री (स्वास्थ्य), GNCTD के विशेष ड्यूटी अधिकारी (ODS) का मुख्यालय दिल्ली होगा और सक्षम प्राधिकारी की पूर्व अनुमति प्राप्त किए बिना उन्हें मुख्यालय छोड़ने की अनुमति नहीं होगी।'

आदेश के मुताबिक दास को उनके निलंबन की अवधि के दौरान FR-53 के तहत आधे औसत वेतन पर छुट्टी पर रहने की स्थिति में उनके द्वारा प्राप्त अवकाश वेतन के बराबर राशि का निर्वाह भत्ता मिलेगा, बशर्ते कि वे इस आशय का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करें कि उन्हें लाभ/पारिश्रमिक/वेतन के लिए किसी व्यवसाय, पेशे या व्यवसाय में नियोजित नहीं किया गया है।

इससे पहले दास को डायरेक्टोरेट ऑफ विजिलेंस द्वारा साल 2021 में कोविड-19 महामारी के दौरान लगभग 60 करोड़ रुपए मूल्य की PPE किट (व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण), दस्ताने, मास्क और रैपिड एंटीजन टेस्ट (RAT) किट जैसी विभिन्न वस्तुओं की खरीद में कथित अनियमितताओं को लेकर पिछले महीने कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था।