ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRभीषण गर्मी से भी नहीं डिगे हौसले, दिल्ली में 58.70 फीसदी मतदान, पिछली बार से कितना अंतर?

भीषण गर्मी से भी नहीं डिगे हौसले, दिल्ली में 58.70 फीसदी मतदान, पिछली बार से कितना अंतर?

Delhi Lok Sabha Voting Turnout: दिल्ली में मतदान के लिए शनिवार को घरों से निकले लोगों का मौसम ने कड़ा इम्तहान लिया। फिर भी दिल्ली में शनिवार को 58.70 फीसदी मतदान रिकॉर्ड हुआ। पिछली बार से कितना अंतर?

भीषण गर्मी से भी नहीं डिगे हौसले, दिल्ली में 58.70 फीसदी मतदान, पिछली बार से कितना अंतर?
Krishna Singhपीटीआई-भाषा,नई दिल्लीSun, 26 May 2024 12:29 AM
ऐप पर पढ़ें

मतदान के लिए शनिवार को घरों से निकले दिल्ली वालों का मौसम ने कड़ा इम्तहान लिया। सुबह भारी उमस के चलते लोग पसीने-पसीने होते रहे जबकि, दिन के समय झुलसाने वाली गर्मी और लू के थपेड़ों ने लोगों को बेहाल किया। दिल्ली में सुबह के समय हवा की दिशा दक्षिण पूर्वी थी। मतदान केन्द्रों के सामने सुबह से ही लोगों की कतारें भी दिखीं लेकिन, बाद में धूप तेज हो गई और हवा की दिशा भी उत्तरी पश्चिमी हो गई। इससे मौसम तपने लगा। खासतौर पर दोपहर ढाई बजे के बाद लोगों को लू के थपेड़ों ने तंग किया। फिर भी लोग बड़ी संख्या में मतदान के लिए पहुंचे। 

पिछली बार से कितना अंतर?
राजधानी दिल्ली की सात लोकसभा सीटों के लिए शनिवार को 58.70 फीसदी मतदान हुआ है, जो वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव के मुकाबले 5.03 प्रतिशत कम रहा। हालांकि मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय की तरफ से कहा गया है कि यह आंकड़े अंतिम नहीं है। अभी मतदान प्रतिशत में इजाफा हो सकता है। वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में दिल्ली के अंदर 60.52 प्रतिशत मतदान हुआ है। देररात तक प्राप्त आंकड़ों के हिसाब से दिल्ली में किसी भी लोकसभा सीट पर 60 फीसदी मतदान नहीं हुआ है।

उत्तरी पूर्वी दिल्ली सीट पर सबसे ज्यादा वोटिंग
सबसे अधिक उत्तरी पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट पर 59.09 फीसदी मतदान हुआ है। सबसे कम नई दिल्ली लोकसभा सीट पर 51.98 प्रतिशत हुआ। वहीं, दक्षिणी दिल्ली में 53.53, पश्चिमी दिल्ली 57.51, उत्तरी पश्चिमी दिल्ली 53.81, चांदनी चौक 56.43 और पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट पर 54.79 प्रतिशत मतदान हुआ। छठे चरण के तहत संपन्न हुई मतदान प्रक्रिया के लिए दिल्ली में 2627 स्थानों पर 13637 बूथ बनाए गए थे, जिन पर शांतिपूर्ण तरीके से मतदान संपन्न हुआ है। 

छह बजे के बाद भी मतदान
दिल्ली के कई इलाकों में शाम छह बजे के बाद भी मतदान हुआ। काफी संख्या में लोग शाम के समय मतदान करने के लिए निकलें। हालांकि छह बजते ही मतदान केंद्रों के गेट बंद कर दिए गए लेकिन जो लोग मतदान परिसर में लाइन में आकर लगे थे, उन्हें मतदान करने का अवसर दिया गया। ध्यान रहे कि दिल्ली में इस बार एक करोड़ 52 लाख से अधिक मतदाता पंजीकृत थे लेकिन देररात तक प्राप्त आंकड़ों के हिसाब से मतदान के प्रति उत्साह उम्मीद से कम देखने को मिला है।

162 प्रत्याशियों को भविष्य ईवीएम में कैद
मतदान प्रक्रिया संपन्न होने के बाद अब दिल्ली में चुनाव लड़ रहे 162 प्रत्याशियों का भविष्य अब ईवीएम में कैद हो गया है। चार जून को होने वाले मतगणना में साफ होगा कि जीत का सेहरा किसके सिर पर बंधेगा। मुख्य मुकाबला आम आदमी पार्टी व कांग्रेस गठबंधन का भारतीय जनता पार्टी से है। मतदान प्रतिशत के आधार पर सभी सीटों पर कांटे की टक्कर मानी जा रही है। इसलिए राजनीतिक दलों ने भी अपने-अपने हिसाब से दावे किए हैं। राजधानी दिल्ली में कुल सात स्थानों पर मतगणना होगी।

पिछली बार से सवा चार डिग्री ज्यादा रहा तापमान
लोगों को पिछले चुनावों की तुलना में इस बार ज्यादा गर्मी झेलनी पड़ी। वर्ष 2019 में 12 मई को चुनाव के दिन दिल्ली का अधिकतम तापमान 39 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। इस बार अधिकतम तापमान 43.4 डिग्री सेल्सियस रहा। यानी पिछले आम चुनावों की तुलना में इस बार दिल्ली के लोगों ने सवा चार डिग्री ज्यादा तापमान में वोट डाला।

तापमान 45 डिग्री सेल्सियस
दिल्ली में शनिवार को दिन का तापमान 45 डिग्री सेल्सियस तक गया। फिर भी लोगों ने उत्साह दिखाया। वरिष्ठ नागरिकों को घर पर मतदान कराने या वाहन उपलब्ध कराने को लेकर असमंजस रहा। सामान्य तौर 60 साल से अधिक उम्र के लोगों को वरिष्ठ नागरिक की श्रेणी में रखा जाता है, लेकिन यह व्यवस्था केवल 80 साल से अधिक उम्र के मतदाताओं के लिए थी। नई दिल्ली लोक सभा सीट पर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु, उप राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ और कई केंद्रीय मंत्रियों समेत अनेक गणमान्य व्यक्तियों ने मतदान किया। 

दिग्गजों ने डाले वोट
इसी क्षेत्र में कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी और कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी वोट डाले। नार्थ एवेन्यू के मतदान केंद्र को फूलों, गुब्बारों और कनातों से सजाया गया और सेल्फी पाइंट बनाया गया जहां कई नामचीन हस्तियों ने अपनी फोटो खींची। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी अपने परिवार के साथ सिविल लाइन्स क्षेत्र के एक मतदान केंद्र पर वोट डाला। दिल्ली की लाइफलाइन मानी जाने वाली दिल्ली मेट्रो की सेवाएं तड़के 4 बजे शुरू हो गईं। दिल्ली परिवहन निगम की बस सेवा भी पूरी ताकत से सड़कों पर उतरीं।

दिल्ली पुलिस की विशेष चौकसी, ड्रोन से निगरानी
राजनीतिक दलों के कार्यकर्ता सोशल मीडिया पर अपने-अपने पक्ष में मतदान की अपील करते रहे। ये लोग मतदान के बाद अपने फोटो डालते रहे। सुरक्षा व्यवस्था के लिहाज से यह चुनाव दिल्ली के लिए खास रहा। पिछले कई दिनों से स्कूलों, अस्पतालों और अन्य संस्थानों में बम होने की मिल रही धमकियों के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने विशेष चौकसी बरती। दिल्ली पुलिस ने मतदान केंद्रों से निश्चित दूरी तक भीड़ नहीं होने दी। संवेदनशील क्षेत्रों में ड्रोन से निगरानी की गई। चुनाव आयोग लोगों से एसएमएस और सोशल मीडिया के माध्यम से वोट डालने की अपील करता रहा।