ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRदिल्ली में सारी सीटें हारी AAP, फिर भी एक आंकड़े ने दी राहत, BJP के लिए चिंता की बात

दिल्ली में सारी सीटें हारी AAP, फिर भी एक आंकड़े ने दी राहत, BJP के लिए चिंता की बात

Delhi Lok Sabha Election Result: दिल्ली में लोकसभा चुनाव हारने के बावजून सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी के लिए एक बात राहत देने वाली है। क्या कहते हैं चुनाव नतीजों के आंकड़े... इस रिपोर्ट में जानें।

दिल्ली में सारी सीटें हारी AAP, फिर भी एक आंकड़े ने दी राहत, BJP के लिए चिंता की बात
Krishna Singhपीटीआई,नई दिल्लीTue, 04 Jun 2024 10:15 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली में एक भी लोकसभा सीट जीतने में विफल रही सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी के लिए एक बात राहत देने वाली है। लोकसभा चुनाव के घोषित नतीजों के अनुसार, AAP के वोट शेयर में 2019 के चुनावों की तुलना में लगभग छह फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई। वहीं भाजपा ने 2019 के चुनावों की तुलना में अपने वोटों में लगभग दो फीसदी की कमी दर्ज की गई है। 

कांग्रेस के वोट शेयर में तीन प्रतिशत से अधिक की गिरावट
वहीं 2019 के लोकसभा चुनावों की तुलना में कांग्रेस के वोट शेयर में तीन प्रतिशत से अधिक की गिरावट दर्ज की गई है। कांग्रेस दिल्ली में तीन सीटों पर लड़ी थी लेकिन किसी भी सीट पर जीत हासिल करने में विफल रही। चुनाव आयोग की ओर से अंतिम आंकड़े जारी किए जाने के साथ तीनों दलों के वोट शेयर के आंकड़ों में मामूली बदलाव होने की संभावना है। 

लगातार तीसरी बार सातों सीटों पर क्लीन स्वीप
भाजपा ने 54.33 प्रतिशत वोट शेयर के साथ लगातार तीसरी बार दिल्ली की सभी सातों लोकसभा सीटों पर क्लीन स्वीप किया। पिछले आंकड़ों पर नजर डालें तो साल 2019 और 2014 के चुनावों में भाजपा का वोट शेयर क्रमशः 56.7 फीसदी और 46.6 फीसदी था। वहीं पूर्वी दिल्ली, पश्चिमी दिल्ली, नई दिल्ली और दक्षिणी दिल्ली सीटों पर लड़ने वाली AAP एक भी सीट नहीं जीत सकी। 

AAP के लिए राहत की एक बात
हालांकि, 2019 के चुनावों की तुलना में आम आदमी पार्टी का वोट शेयर 18.2 प्रतिशत की तुलना में 24.14 प्रतिशत रहा। 2014 के आम चुनावों में आप का वोट शेयर 33.1 प्रतिशत था, लेकिन वह सभी सात सीटों पर हार गई। इस बार इंडिया गठबंधन के तहत आप और कांग्रेस ने सीट बंटवारे के फॉर्मूले के जरिए भाजपा को सीधी, आमने-सामने की टक्कर दी। 

कांग्रेस को नुकसान
कांग्रेस ने उत्तर पूर्वी दिल्ली, उत्तर पश्चिमी दिल्ली और चांदनी चौक सीटों पर चुनाव लड़ा लेकिन तीनों पर हार गई। कांग्रेस ने 18.94 प्रतिशत वोट शेयर हासिल किया। साल 2019 के चुनावों में कांग्रेस का वोट शेयर 22.6 प्रतिशत था। यह साल 2014 के चुनावों में कांग्रेस का वोट शेयर 15.2 प्रतिशत से अधिक था। हालांकि आप और कांग्रेस ने सीट बंटवारे के फॉर्मूले के जरिए भाजपा को सीधी टक्कर दी।