ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRराजनीतिक फायदा इनका एकमात्र मकसद... जल संकट के बीच AAP पर खूब बरसे LG, क्या-क्या कहा?

राजनीतिक फायदा इनका एकमात्र मकसद... जल संकट के बीच AAP पर खूब बरसे LG, क्या-क्या कहा?

उपराज्यपाल वीके सक्सेना ने जल संकट को लेकर बयान जारी किया है और आम आदमी पार्टी का नाम लिए बिना उस पर निशाना साधा है। उन्होंने पार्टी पर आपदा को अवसर में बदलने का आरोप लगाया है।

राजनीतिक फायदा इनका एकमात्र मकसद... जल संकट के बीच AAP पर खूब बरसे LG, क्या-क्या कहा?
Aditi Sharmaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSat, 22 Jun 2024 06:54 PM
ऐप पर पढ़ें

जल संकट से दिल्ली बेहाल है। लाख कोशिशों के बावजूद दिल्लीवासियों को जरूरत अनुसार पानी नहीं मिल पा रहा है। दिल्ली सरकार लगातार हरियाणा की बीजेपी सरकार पर दिल्लीवासियों के लिए पानी नहीं छोड़ने का आरोप लगा रही है। दिल्ली की जल मंत्री आतिशी अनशन पर भी बैठ गई हैं। उनका कहना है कि जब तक हरियाणा दिल्ली वासियों के लिए और पानी नहीं छोड़ता, तब तक वह कुछ नहीं खाएंगी। इस बीच दिल्ली के उपराज्यपाल वीके सक्सेना ने जल संकट को लेकर बयान जारी किया है और आम आदमी पार्टी का नाम लिए बिना उस पर निशाना साधा है। उन्होंने दिल्ली के नेताओं पर मौके का फायदा उठाने का आरोप लगाया है। 

उन्होंने कहा, दिल्ली में पानी की सप्लाई चुनौती बन गई है। इस पर  पिछले कुछ हफ्तों में जीएनसीटीडी के मंत्रियों की तीखी बातचीत विभिन्न स्तरों पर चिंताजनक और संदिग्ध रही है। उन्होंने कहा, दिल्ली के नेताओं का एकमात्र मकसद राजनीतिक फायदा हासिल करने का है।  दिल्ली के नेताओं ने राजनीतिक लाभ हासिल करने के मकसद से इस संकट को अवसर में तब्दील कर दिया है ताकी पड़ोसी राज्यों पर इसका ठीकरा फोड़ा जा सके।

उन्होंने कहा दिल्ली पीने के पानी की सप्लाई के लिए उत्तर प्रदेश और हरियाणा पर निर्भर है।  अंतरराज्यीय जल-बंटवारे की व्यवस्था जल शक्ति मंत्रालय, भारत सरकार की तरफ से बनाए गए संस्थागत तंत्र के माध्यम से तय की जाती है, जिसे देश की सर्वोच्च अदालत ने बार-बार बरकरार रखा है। इस व्यवस्था के चलते हुए समझौते के तहत राज्य पानी छोड़ने के लिए बाध्य हैं। इसी तरह शहरी सरकार भी यह सुनिश्चित करने के लिए बाध्य है कि शहर भर में समान मात्रा में पानी की सप्लाई हो और इस जल संसाधन का कुशलतापूर्वक इस्तेमाल किया जा सके। 

अनिश्चितकालीन अनशन पर आतिशी

दिल्ली की जल मंत्री आतिशी शुक्रवार को हरियाणा से राष्ट्रीय राजधानी के लिए यमुना का अधिक पानी छोड़ने की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन अनशन पर बैठ गईं है। आज उनके अनशन का दूसरा दिन है। इस दौरान उन्होंने एक वीडियो संदेश जारी करते हुए कहा, जब तक हरियाणा दिल्ली वासियों के लिए और पानी नहीं छोड़ता, तब तक वह कुछ नहीं खाएंगी। शहर में 28 लाख लोग पानी की किल्लत से जूझ रहे हैं। 

28 लाख लोगों को नहीं मिल रहा पानी- आतिशी

उन्होंने कहा कि शुक्रवार को हरियाणा ने 11 करोड़ गैलन प्रतिदिन (एमजीडी) कम पानी छोड़ाएक एमजीडी पानी से 28,000 लोगों को जलापूर्ति होती है। 100 एमजीडी पानी की कमी का मतलब है कि दिल्ली में 28 लाख लोगों को पानी नहीं मिल रहा है। 

जल मंत्री ने कहा, दिल्ली को पानी के लिए पड़ोसी राज्यों पर निर्भर रहना पड़ता है। उन्होंने कहा कि पड़ोसी राज्यों से नदियों और नहरों के जरिए उसे 1,005 एमजीडी पानी मिलता है जिसमें से हरियाणा 613 ​​एमजीडी पानी उपलब्ध कराता है। लेकिन पिछले कुछ हफ्तों राज्य केवल 513 एमजीडी पानी ही दे रहा है जिस कारण 28 लाख से अधिक लोग प्रभावित हो रहे हैं।