ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCR'रैट माइनर को घर देंगे', DDA का चला बुलडोजर तो बोले एलजी; AAP बोली - लाखों बेघर हुए, उनका क्या

'रैट माइनर को घर देंगे', DDA का चला बुलडोजर तो बोले एलजी; AAP बोली - लाखों बेघर हुए, उनका क्या

दिल्ली के एलजी विनय कुमार सक्सेना ने मीडिया से बातचीत में बताया कि रैट माइनर को मुआवजा दिया जाएगा। एलजी ने कहा, 'मुझे बताया गया है। हम जरूर मुआवजा देंगे और उनको घर दिया जाएगा।' DDA ने कार्रवाई की थी।

'रैट माइनर को घर देंगे', DDA का चला बुलडोजर तो बोले एलजी; AAP बोली - लाखों बेघर हुए, उनका क्या
Nishant Nandanलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 29 Feb 2024 01:47 PM
ऐप पर पढ़ें

उत्तराखंड के उत्तरकाशी में टनल में फंसे 41 मजदूरों की जान बचाने वाले एक रैट माइनर के दिल्ली वाले घर पर बुलडोजर चलाए जाने की काफी चर्चा हो रही है। DDA ने खजूरी खास स्थित रैट माइनर वकील हसन के अवैध निर्माण पर बुधवार को बुलडोजर चलाया था। इस मामले को लेकर आम आदमी पार्टी ने सवाल उठाए हैं और कहा है कि जब उन्होंने उत्तराखंड में लोगों की जान बचाई तब बीजेपी क्रेडिट लेने गई थी। अब दिल्ली के उप राज्यपाल विनय कुमार सक्सेना ने भी इसपर अपनी प्रतिक्रिया दी है। दिल्ली के एलजी ने मीडिया से बातचीत में बताया कि रैट माइनर को मुआवजा दिया जाएगा। एलजी ने कहा, 'मुझे बताया गया है। हम जरूर मुआवजा देंगे और उनको घर दिया जाएगा।'

इधर आम आदमी पार्टी ने डीडीए के ऐक्शन पर सवाल उठाए हैं कि जो लाखों लोग पहले बेघर हुए हैं उनका क्या? AAP नेता और केजरीवाल सरकार के मंत्री सौरभ भारद्वाज ने कहा, 'पूरे देश की निगाहें जब उत्तराखंड में थीं कि किसी तरह से टनल में फंसे 41 लोगों को बचाया जाए। उस वक्त दिल्ली के जाबांज माइनर थे उन्होंने अपनी जान की बाजी लगाकर उन्हें बचाया। तब उस वक्त क्रेडिट के चक्कर में भारतीय जनता पार्टी के नेता उनके घर आ रहे थे।

बुधवार को उनका घर भारतीय जनता पार्टी शासित केंद्र की DDA ने गिरा दिया। सिर्फ उनका घर नहीं, पिछले डेढ़ साल में लाखों लोगों का घर गिरा दिया गया। फिर चाहे वो ASI हो जिसने तुगलकाबाद में ढाई लाख लोगों को बेघर कर दिया, चाहे वो एलएनडी हो जिसने सुंदर नर्सरी के पास हजारों लोगों को बेघर कर दिया, घोसिया कॉलोनी में डीडीए ने बेघर किया, प्रियंका गांधी कैंप के अंदर केंद्र ने किया, रेलवे गाहे-बगाहे लोगों को बेघर कर रहा है। ये लोग बेघर होकर जाएंगे कहां?'

सौरभ भारद्वाज ने आगे कहा, 'बिना कोई वैकल्पिक मकान दिए उनको घरों को तोड़ दिया जाता है कि वो दिल्ली की सड़कों पर रहें, फ्लाईओवर के नीचे रहें, नालों पर घर बनाएं, फुटपाथ पर रहें। ये सिर्फ दिल्ली के लोगों को बर्बाद कर रहे हैं औऱ यह लगातार किया जा रहा है।'

रैट माइनर का घर जमींदोज करने के बाद DDA ने दावा किया था कि इस ऐक्शन को लेकर पहले नोटिस दिया गया था। हालांकि, रैट माइनर वकील हसन औऱ उनके घरवालों का दावा है कि उन्हें इस कार्रवाई को लेकर पूर्व में कोई सूचना या नोटिस नहीं दिया गया था। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें