ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRदो दिन हल्की बूंदाबांदी से प्रदूषण की परत हुई कम, AQI में सुधार; दमघोंटू हवा से फिलहाल नहीं मिलेगी राहत

दो दिन हल्की बूंदाबांदी से प्रदूषण की परत हुई कम, AQI में सुधार; दमघोंटू हवा से फिलहाल नहीं मिलेगी राहत

दिल्ली में पिछले दो दिन हुई हल्की बूंदाबांदी से आसमान में छाई प्रदूषण की परत थोड़ी कम हो गई है। बूंदाबांदी और तेज हवाओं के चलते वायु गुणवत्ता सूचकांक में 83 अंकों का सुधार आया है।

दो दिन हल्की बूंदाबांदी से प्रदूषण की परत हुई कम, AQI में सुधार; दमघोंटू हवा से फिलहाल नहीं मिलेगी राहत
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 29 Nov 2023 05:29 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली में लगातार दूसरे दिन हल्की बूंदाबांदी से आसमान में छाई प्रदूषण की परत थोड़ी कम हो गई है। बूंदाबांदी और तेज हवाओं के चलते राजधानी के वायु गुणवत्ता सूचकांक में एक दिन पहले की तुलना में 83 अंकों का सुधार हुआ है। हालांकि, समग्र तौर पर अभी भी दिल्ली की हवा बेहद खराब श्रेणी में ही है। 

राजधानी में इस बार गर्मी और मानसून के मौसम में बीते वर्षों की तुलना में हवा की गुणवत्ता साफ रही, मगर अक्तूबर के दूसरे पखवाड़े से प्रदूषण स्तर बढ़ने लगा। इसके बाद से लोग लगातार प्रदूषित हवा में सांस लेने को मजबूर हैं। 20 अक्तूबर के बाद से अभी तक एक दिन भी वायु गुणवत्ता साफ नहीं रही है। इस दौरान ज्यादातर समय हवा खराब, बेहद खराब, गंभीर और अत्यंत गंभीर श्रेणी में रही। 

हालांकि, अब इस स्थिति से थोड़ी राहत मिलती दिख रही है। दिल्ली के ज्यादातर इलाकों में सोमवार की शाम हल्की बूंदाबांदी हुई थी, लेकिन इसका प्रदूषण पर खास असर नहीं हुआ। केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक, मंगलवार को दिल्ली का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 312 रहा। इस स्तर की हवा को बेहद खराब श्रेणी में रखा जाता है। मगर यह बेहद खराब श्रेणी का शुरुआती स्तर है। सोमवार को यह सूचकांक 395 था, यानी 24 घंटे के भीतर इसमें 83 अंकों का सुधार हुआ है।

सिर्फ एक इलाके की हवा गंभीर श्रेणी में 

सोमवार को दिल्ली के 18 इलाके ऐसे थे, जहां वायु गुणवत्ता सूचकांक 400 के ऊपर यानी गंभीर श्रेणी में रहा। बूंदाबांदी और हवा की रफ्तार बढ़ने से मंगलवार को सिर्फ एक इलाके का सूचकांक 400 के ऊपर रहा। आईटीओ की हवा मंगलवार को सबसे ज्यादा प्रदूषित रही। यहां का एक्यूआई 420 यानी गंभीर श्रेणी में रहा।

वायुमंडल में मानक से दोगुना जहरीले कण

मानकों के मुताबिक, हवा में प्रदूषक कण पीएम 10 का स्तर 100 और पीएम 2.5 का स्तर 60 से कम होने पर ही उसे स्वास्थ्यकारी माना जाता है। दिल्ली और एनसीआर की हवा में मंगलवार शाम चार बजे पीएम 10 का औसत स्तर 208 और पीएम 2.5 का औसत स्तर 133 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर पर रहा। यानी हवा में अभी भी मानकों से दोगुना ज्यादा प्रदूषण मौजूद है। सोमवार को यह स्तर मानकों से साढ़े तीन गुना ज्यादा रहा था।

फिलहाल हालात में सुधार की उम्मीद कम

बूंदाबांदी से प्रदूषण के स्तर में भले ही सुधार हुआ है, लेकिन प्रदूषण का स्तर पूरी तरह से साफ होने की अभी उम्मीद कम है। वायु गुणवत्ता पूर्व चेतावनी प्रणाली के मुताबिक, अगले दो दिनों तक हवा की गति आमतौर पर दस किलोमीटर प्रति घंटे से कम रहने की संभावना है। इसके चलते प्रदूषक कणों का बिखराव धीमा रहेगा और हवा की गुणवत्ता बेहद खराब या खराब श्रेणी में ही रहने की संभावना है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें