DA Image
3 जून, 2020|8:32|IST

अगली स्टोरी

जमानत के लिए अजब-गजब बहाने बना रहे दिल्ली की जेलों में बंद कैदी

दिल्ली की तीनों जेल तिहाड़, रोहिणी और मंडोली में कई कर्मचारी सहित कैदी भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। संक्रमण के फैलाव के भय से जेलों में कैदियों के भार को कम करने के लिए अदालतें आरोपियों को जमानत देने में नरमी बरत रही हैं। वहीं, अदालत की नरमी का फायदा उठाने के लिए कैदियों की तरफ से अजीब हथकंडे अपनाए जा रहे हैं। कई कहानियां तो ऐसी पेश की गईं कि सच्चाई सामने आने पर अदालतें भी चौंक गईं। हालांकि, हालात को देखते हुए इन आरोपियों के खिलाफ कोई सख्त कदम नहीं उठाया गया। 

तीन बहाने जो खारिज हुए

40 की उम्र, 65 साल बताई : भाभी की दहेज हत्या के मामले में चार साल से तिहाड़ जेल में बंद महिला ने पटियाला हाउस स्थित अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश एम.के. नागपाल की अदालत में जमानत याचिका लगाई। याचिका में उसकी उम्र 65 साल बताते हुए कोरोना का खतरा बताया गया। पुलिस ने जांच के बाद कोर्ट को बताया कि महिला की उम्र महज 40 साल है। कोर्ट ने महिला के वकील को फटकार लगाते हुए याचिका खारिज कर दी।

अविवाहित बना शादीशुदा : लूट व डकैती के कई मामलों मे आरोपी एक युवक ने पत्नी के गर्भाशय का ऑपरेशन होने का हवाला देते हुए जमानत याचिका दाखिल की। रोहिणी स्थित अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अजय पांडे की अदालत ने इस बाबत पुलिस से जांच करने को कहा तो चौंकाने वाली बात पता चली। पुलिस ने बताया गया कि युवक की अभी तक शादी ही नहीं हुई है। फिर पत्नी के ऑपरेशन का कोई सवाल ही नहीं उठता।

कोरोना के लक्षण बताए : हत्या प्रयास के मामले में जेल में बंद एक कैदी की तरफ से अदालत में याचिका दायर कर खुद को बीमार बताया गया। साथ ही कोरोना के लक्षण होने की आशंका जताई गई। साकेत स्थित मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट सुमित की अदालत ने याचिका पर जेल प्रशासन को कैदी की जांच कराने के आदेश दिए। जेल प्रशासन ने जब कैदी की जांच कराई तो पाया कि वह एकदम ठीक है।

दो माह में सौ मामले

कैदियों को इस महामारी से सुरक्षित रखने के लिए दिल्ली हाईकोर्ट के निर्देश पर एक हाई पावर कमेटी गठित की गई है। इस कमेटी ने जेलों के भार को कम करने के लिए कैदियों की उम्र व अन्य आधार पर विशेष अदालतों को जमानत देने की सिफारिश की है। इन्हीं सिफारिशों की आड़ में कैदी अजीबो-गरीब बहाने बनाकर जमानत पाने की कोशिश कर रहे हैं। पिछले दो माह में सौ से ज्यादा ऐसे मामले सामने आए हैं, जिनमें झूठी कहानी के आधार पर जमानत मांगी गई थी। पुलिस जांच में सच सामने आने पर याचिकाएं खारिज कर दी गईं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Delhi jails Prisoners are making strange excuses to get bail