DA Image
26 जनवरी, 2021|1:55|IST

अगली स्टोरी

क्राइम के मामले में दिल्ली ने बनाया रिकॉर्ड, जानें देश के अन्य राज्यों का हाल

crime

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की रिपोर्ट ‘क्राइम इन इंडिया-2018' के अनुसार सभी मेट्रो शहरों में अपराध के मामले में दिल्ली सबसे ऊपर है। एनसीआरबी द्वारा गुरुवार को जारी की गई रिपोर्ट के अनुसार, 2018 में 2,37,660 जमानती मामलों के साथ दिल्ली 18 मेट्रो शहरों में अपराध के मामले में शीर्ष पर रही। इस श्रेणी के समग्र आंकड़ों में दिल्ली का हिस्सा 29.6 प्रतिशत है, जिसमें भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) और विशेष व स्थानीय कानून (एसएलएल) शामिल हैं।

2016 के बाद से तीन सालों में दिल्ली ने अपराधों में वृद्धि देखी गई है। वर्ष 2017 में आईपीसी के 2,24,346 मामले दर्ज हुए थे। वर्ष 2016 में यह आंकड़ा 2,06,135 था। चेन्नई इस सूची में दूसरे स्थान पर है। वर्ष 2018 में यहां दर्ज किए गए अपराधों की कुल संख्या 85,027 थी। यह 2017 में दर्ज 41,573 मामलों से कहीं अधिक था। इस सूची में गुजरात का सूरत और महाराष्ट्र का शहर मुंबई क्रमश: तीसरे और चौथे स्थान पर रहा।

सड़क दुर्घटनाओं में मौत में सुधार नहीं

वर्ष 2018 के दौरान लापरवाही के कारण होने वाली सड़क दुर्घटनाओं में 1,35,051 मौतें हुईं। आंकड़े बताते हैं कि इस दिशा में पिछले दो वर्षों की तुलना में कोई खास बदलाव नहीं हुआ है। देशभर में 2017 में कुल 1,34,803 मौत की घटनाएं दर्ज की गईं, जबकि 2016 में यह आंकड़ा 1,35,656 था। ‘हिट एंड रन’ मामलों में पिछले साल की तुलना में बड़ी वृद्धि देखने को मिली है।

दस हजार किसानों ने आत्महत्या की

एनसीआरबी के आंकड़ों के मुताबिक वर्ष 2018 में कृषि क्षेत्र में काम करने वाले 10,349 लोगों ने आत्महत्या की। यह देश में इस अवधि में हुए खुदकुशी के मामलों का सात फीसदी है। वर्ष 2018 में कुल 1,34,516 लोगों ने आत्महत्या की। आत्महत्या के सबसे अधिक मामले महाराष्ट्र (17,972) में दर्ज किए गए है। दूसरे, तीसरे, चौथे और पांचवें स्थान पर क्रमश: तमिलनाडु (13,896), पश्चिम बंगाल (13,255), मध्य प्रदेश (11,775) और कर्नाटक (11,561) है। उत्तर प्रदेश में कुल खुदकुशी में से केवल 3.6% मामले ही दर्ज किए।

रेप के मामलों में मध्य प्रदेश फिर सबसे आगे

मध्य प्रदेश बलात्कार के मामलों में वर्ष 2018 में भी फिर देश में पहले नंबर पर रहा। राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो की रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2018 में देश में रेप की कुल 33,356 घटनाएं हुईं। इनमें से 5,433 घटनाएं (करीब 16 प्रतिशत) मध्य प्रदेश में हुईं, जिनमें पीड़िताओं में छह साल से कम उम्र की 54 बच्चियां भी शामिल हैं। 2018 में रेप के मामलों में मध्य प्रदेश के बाद राजस्थान 4,335 घटनाओं के साथ दूसरे और उत्तर प्रदेश इस तरह की 3,946 घृणित घटनाओं के साथ तीसरे स्थान पर रहा।

रेप के मामलों में सजा की दर 27.2%

  • 11,133 मामलों में आरोपी बरी किए गए जबकि 1,472 मामलों में आरोपियों को आरोपमुक्त किया गया। किसी मामले में आरोपमुक्त तब किया जाता है जब आरोप तय नहीं किए गए हों। 2018 में दुष्कर्म के 1,38,642 मामले लंबित थे।
  • दुष्कर्म के मामलों में सजा की दर 2018 में पिछले साल के मुकाबले घटी है। 2017 में सजा की दर 32.2 प्रतिशत थी। उस वर्ष दुष्कर्म के 18,099 मामलों में मुकदमे की सुनवाई पूरी हुई और इनमें से 5,822 मामलों में दोषियों को सजा हुई।
  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Delhi is on top in crime says NCRB report