ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRफोन कॉल और मैसेज की पड़ताल, मालिक की पत्नी भी जांच के घेरे में; अग्निकांड के बाद क्या-क्या ऐक्शन

फोन कॉल और मैसेज की पड़ताल, मालिक की पत्नी भी जांच के घेरे में; अग्निकांड के बाद क्या-क्या ऐक्शन

इधर अपनी पहचान उजागर नहीं करने की शर्त पर एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, 'जांच के तहत हमने उनके मोबाइल फोन जब्त कर लिए हैं ताकि कॉल रिकॉर्ड और इनके बीच शेयर किए गए मैसेज की जांच की जा सके।

फोन कॉल और मैसेज की पड़ताल, मालिक की पत्नी भी जांच के घेरे में; अग्निकांड के बाद क्या-क्या ऐक्शन
fire in new born care centre
Nishant Nandanपीटीआई,नई दिल्लीTue, 28 May 2024 07:20 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के विवेक विहार में स्थित न्यू बोर्न केयर सेंटर में बच्चों की मौत के बाद पुलिस का ऐक्शन जारी है। दिल्ली पुलिस अब अस्पताल के मालिक डॉक्टर नवीन किची और डॉक्टर आकाश के फोन कॉल और मैसेज रिकॉर्ड की भी जांच करेगी। दिल्ली पुलिस इसके अलावा किची की पत्नी के मोबाइल की भी जांच करेगी। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने यह भी कहा कि वो DGHS के उन अफसरों से भी पूछताछ करेगी जिनके ज्यूरिडिक्शन में यह अस्पताल आता है क्योंकि इस अस्पताल में कई जरूर नियमों का उल्लंघन किया गया है। 

पुलिस ने बताया है कि जांचकर्ताओं ने आरोपी का मोबाइल फोन जब्त कर लिया है। अपनी पहचान उजागर नहीं करने की शर्त पर एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, 'जांच के तहत हमने उनके मोबाइल फोन जब्त कर लिए हैं ताकि कॉल रिकॉर्ड और इनके बीच शेयर किए गए मैसेज की जांच की जा सके। इस बात की भी जांच की जाएगी कि क्या कोई मैसेज पहले डिलीट भी किया गया था। 

पुलिस ने किची की पत्नी को भेजा समन

बहरहाल, इधर दिल्ली पुलिस ने डॉक्टर किची की पत्नी जागृति को भी समन भेजा है। जागृति पेशे से डेन्टिस्ट हैं और विवेक विहार स्थित अस्पताल की को-ऑनर भी हैं। पुलिस ने अस्पताल प्रबंधन से कहा है कि वो उस अस्पताल में तैनात सभी चिकित्सकों, नर्सों और पैरामेडिक स्टाफ की डिग्रियां उपलब्ध कराएं। अधिकारी ने कहा कि आग के बारे में सूचना देने में आधे घंटे की देर की गई थी। डिप्टी कमिश्नर ऑफ पुलिस (शहादरा), सुरेंद्र चौधरी ने कहा कि 45 साल के डॉक्टर नवीन किची तीन अन्य अस्पतालों के भी मालिक हैं। यह अस्पताल पंजाबी बाग, फरीदाबाद और गुरुग्राम में स्थित हैं। जांच टीम इन अस्पतालों का भी निरीक्षण करेगी।

फोन करने में देर क्यों हुई?

डीसीपी ने कहा कि हम इस बात पर फोकस कर रहे हैं कि आखिर क्यों आग लगने के बाद फोन करने में आधे घंटे की देरी हुई। पुलिस से जुड़े सूत्रों का कहना है कि अस्पताल के अन्य कर्मचारियों से पूछताछ करने के लिए 15 सवाल पुलिस ने तैयार कर लिए हैं। पुलिस पंजाबी बाग, फरीदाबाद और गुरुग्राम में स्थित अस्पतालों के सर्टिफिकेट की भी जांच करेगी। यह भी जांच की जाएगी कि क्या इन अस्पतालों में सभी नियमों का पालन किया गया है। सूत्र ने कहा कि जांच में यह भी पता चला है कि बच्चों के कुछ अन्य अस्पताल भारी कमिशन लेकर मरीजों को इस अस्पताल में रेफर किया करते थे। इस दिशा में भी जांच की जा रही है।

DGHS अफसरों से भी पूछताछ

पुलिस इस बात की भी जांच करेगी कि जिस वक्त अस्पताल में आग लगी थी उस वक्त कितने नवजात बच्चों का वहां इलाज चल रहा था। दो अन्य चिकित्सकों और छह नर्सों से भी पूछताछ की जाएगी। पुलिस ने कहा है कि बेबी केयर न्यू बोर्न चाइल हॉस्पीटल को लाइसेंस जारी करने वाले DGHS अफसरों से भी पूछताछ की जाएगी। बता दें कि इस अग्निकांड के बाद शुरू में पुलिस ने बताया था कि 7 नवजातों की मौत हुई है। हालांकि, बाद में पता चला था कि एक नवजात की मौत आग लगने से कुछ वक्त पहले हुई थी।