ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRअखूंदजी मस्जिद बचा नहीं पाए, वक्फ बोर्ड प्रशासक को हटाएं, मांग खारिज; HC ने जुर्माना भी ठोंका

अखूंदजी मस्जिद बचा नहीं पाए, वक्फ बोर्ड प्रशासक को हटाएं, मांग खारिज; HC ने जुर्माना भी ठोंका

दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली वक्फ बोर्ड के प्रशासक पद पर अश्विनी कुमार की नियुक्ति को रद्द करने का आग्रह करने वाली याचिका को खारिज कर दिया है। साथ ही याचिकाकर्ता पर 10 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है।

अखूंदजी मस्जिद बचा नहीं पाए, वक्फ बोर्ड प्रशासक को हटाएं, मांग खारिज; HC ने जुर्माना भी ठोंका
Krishna Singhपीटीआई,नई दिल्लीTue, 28 May 2024 07:51 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली वक्फ बोर्ड के प्रशासक के तौर पर अश्विनी कुमार की नियुक्ति को रद्द करने का आग्रह करने वाली याचिका खारिज कर दी है। इसके साथ ही न्यायमूर्ति सुब्रमण्यम प्रसाद की पीठ ने याचिकाकर्ता यामीन अली पर 10 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया। याचिका इस साल के शुरू में अखुंदजी मस्जिद को तोड़ने को लेकर दायर की गई थी। कोर्ट ने यामीन अली की याचिका को प्रचार हथकंडा करार दिया। 

अदालत ने कहा कि यह कानून की प्रक्रिया का दुरुपयोग है, क्योंकि इसमें बोर्ड के प्रशासक के रूप में दिल्ली सरकार के अधिकारी की नियुक्ति को रद्द करने के लिए कोई वैध कारण नहीं दिया गया है। यह पीठ वर्तमान रिट याचिका पर विचार करने की इच्छुक नहीं है। अदालत याचिकाकर्ता पर 10 हजार रुपये का जुर्माना लगाते हुए रिट याचिका को खारिज करना चाहती है। अदालत ने कहा कि जुर्माने की रकम चार हफ्ते के भीतर सशस्त्र बल युद्ध हताहत कल्याण कोष में जमा कराई जाए।

अदालत को प्रतिवादी की नियुक्ति को रद्द करने का कोई कारण नहीं मिला। यह नहीं कहा जा सकता कि प्रतिवादी प्रशासक के रूप में नियुक्त होने के योग्य नहीं है। यह रिट याचिका और कुछ नहीं बल्कि कानून की प्रक्रिया का दुरुपयोग है। यह याचिका प्रचार पाने की मंशा से दायर की गई है। महरौली निवासी याचिकाकर्ता ने कहा था कि उनकी मां को प्राचीन अखूंदजी मस्जिद के निकट कब्रिस्तान में दफनाया गया था, जिसके बारे में उनका दावा था कि यह दिल्ली वक्फ बोर्ड की संपत्ति है।

याचिकाकर्ता ने दावा किया कि दिल्ली वक्फ बोर्ड के प्रशासक अखूंदजी मस्जिद के संरक्षक होने के बावजूद मस्जिद को तोड़े जाने से बचाने में विफल रहे। ऐसे में वक्फ बोर्ड के प्रशासक को पद से हटा दिया जाना चाहिए। बता दें कि मस्जिद और उसके पास स्थित बेहरुल उलूम मदरसे को अवैध ढांचा घोषित कर दिया गया था। इसके बाद दिल्ली विकास प्राधिकरण यानी डीडीए ने 30 जनवरी को अखूंदजी मस्जिद को ध्वस्त कर दिया था।