ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCR20 साल की लड़की को 27 हफ्ते का गर्भ गिराने की नहीं मिली मंजूरी, क्या बोला हाईकोर्ट?

20 साल की लड़की को 27 हफ्ते का गर्भ गिराने की नहीं मिली मंजूरी, क्या बोला हाईकोर्ट?

एक 20 वर्षीय लड़की को उसके 27 हफ्ते के गर्भ को गिराने की अनुमति नहीं प्रदान की है। दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा कि याचिकाकर्ता को गर्भावस्था जारी रखने में कोई खतरा नहीं है। पढ़ें यह रिपोर्ट...

20 साल की लड़की को 27 हफ्ते का गर्भ गिराने की नहीं मिली मंजूरी, क्या बोला हाईकोर्ट?
Krishna Singhपीटीआई,नई दिल्लीTue, 07 May 2024 09:54 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली हाईकोर्ट ने एक 20 वर्षीय लड़की को उसके 27 हफ्ते के गर्भ को गिराने की अनुमति नहीं दी है। अदालत ने कहा कि गर्भ स्वस्थ है और याचिकाकर्ता को गर्भावस्था बरकरार रखने में कोई खतरा नहीं है। ऐसे में भ्रूणहत्या नैतिक या कानूनी रूप से स्वीकार्य नहीं होगी। हाईकोर्ट ने कहा कि याचिकाकर्ता लड़की की मेडिकल रिपोर्ट से पता चला है कि भ्रूण में ना तो कोई जन्मजात असामान्यता है, ना ही गर्भावस्था जारी रखने में मां को कोई खतरा है।

दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा कि याचिकाकर्ता लड़की को बच्चे को जन्म देने के लिए प्रेरित करना होगा। न्यायमूर्ति सुब्रमण्यम प्रसाद की पीठ ने कहा कि यह मां के भविष्य के गर्भधारण के लिए भी हानिकारक हो सकता है। यदि महिला चाहे तो प्रसव और भविष्य की कार्रवाई के लिए एम्स दिल्ली से संपर्क कर सकती है। प्रमुख संस्थान उसे सभी सुविधाएं प्रदान करेगा और उसकी गर्भावस्था के संबंध में सलाह देगा। पीठ ने यह भी कहा कि यदि महिला बच्चे को गोद देने के लिए इच्छुक है तो वह केन्द्र सरकार से संपर्क कर सकती है।

पीठ उस याचिका पर सुनवाई कर रही है, जिसमें महिला ने कहा था कि वह एनईईटी परीक्षा की तैयारी कर रही है। उसने मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी एक्ट के प्रावधानों के तहत अपने भ्रूण का गर्भपात कराने की मांग की। उसने कहा कि 16 अप्रैल को पेट में तकलीफ होने पर अल्ट्रासाउंड कराया तो पता चला कि वह 27 सप्ताह की गर्भवती है, जो 24 सप्ताह की कानूनी रूप से स्वीकार्य सीमा से अधिक है। 

महिला के वकील ने कहा कि गर्भावस्था को जारी रखने से उसे शारीरिक व मानसिक स्वास्थय को गंभीर चोट लग सकती है, क्योंकि वह एक छात्रा है और आय का कोई स्रोत भी उसके पास नहीं है। साथ ही वह अविवाहित है। वकील ने कहा कि गर्भावस्था जारी रखने पर उसे सामाजिक कलंक और उत्पीड़न का सामना करना पड़ेगा, जिससे उसका करियर और भविष्य खतरे में पड़ जाएगा।