ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRदिल्ली में दिन के 12 से तीन बजे के बीच निकलने से बचें, भीषण लू को लेकर DDMA की एडवाइजरी

दिल्ली में दिन के 12 से तीन बजे के बीच निकलने से बचें, भीषण लू को लेकर DDMA की एडवाइजरी

दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने लोगों से खासतौर पर दिन के 12 से तीन बजे के बीच खुले में निकलने से बचने की सलाह दी है। गर्मी और लू की स्थितियों को देखते हुए लोगों के लिए जारी एडवाइजरी में क्या कहा गया

दिल्ली में दिन के 12 से तीन बजे के बीच निकलने से बचें, भीषण लू को लेकर DDMA की एडवाइजरी
heat wave news
Krishna Singhपीटीआई,नई दिल्लीThu, 20 Jun 2024 01:02 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने गर्मी और लू की स्थिति को देखते हुए लोगों के लिए परामर्श जारी किया है। इसमें लोगों से खासतौर पर दिन के 12 से तीन बजे के बीच खुले में निकलने से बचने की सलाह दी गई है। यही नहीं डीडीएमए ने लोगों को केंद्र की सलाह मानने पर भी जोर दिया है।  अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि एडवाइजरी में कहा गया है कि गर्मी से बचने के लिए ज्यादा से ज्यादा पानी पीना चाहिए। 

एडवाइजरी में कहा गया है कि भले ही प्यास नहीं लगी है तब भी पानी पीते रहना चाहिए। गर्मी से बचने के लिए हल्के रंग के और आरामदायक कपड़े पहनने चाहिए। खासतौर पर लोगों को दोपहर 12 बजे और 3 बजे के दौरान सीधे धूप के संपर्क में आने से बचने की सलाह दी गई है। कहा गया है कि लोगों को दिन के 12 बजे से तीन बजे के बीच धूप में मेहनत वाला काम करने से परहेज करना चाहिए। 

डीडीएमए का कहना है कि लोगों को चाहिए कि वे आने-जाने के दौरान पानी की बॉटल अपने साथ जरूर रखें। लोग बाहर निकलते वक्त धूप के चश्मे और छाते का प्रयोग कर सकते हैं। सूचना और प्रचार निदेशालय (डीआईपी) को भेजे एक पत्र में डीडीएमए ने भीषण गर्मी को देखते हुए जारी की गई एडवाइजरी के व्यापक प्रचार-प्रसार के लिए कहा है। 

क्या करें और क्या न करें, शीर्षक में कहा गया है कि लोगों को भीषण गर्मी के दौरान शराब, चाय, कॉफी और कार्बोनेटेड पेय से बचना चाहिए क्योंकि ये अधिक तापमान के दौरान बॉडी को डीहाईड्रेट करने का काम करते हैं। लोगों को अपने बच्चों और पालतू जानवरों को धूप में खड़ी गाड़ियों में नहीं छोड़ना चाहिए। वहीं दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सौरभ भारद्वाज ने बुधवार को हीट स्ट्रोक के मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए आपात बैठक बुलाई। 

इस बैठक में उन्होंने सभी अस्पतालों को हीट स्ट्रोक के मरीजों के इलाज के लिए सभी जरूरी इंतजाम करने के निर्देश दिए। वहीं पुलिस से अपील की कि वह बेघरों को शेल्टर होम में लाने में मदद करे। दिल्ली सरकार को शिकायतें मिल रही थीं कि बेघर लोग सबसे ज्यादा लू लगने के शिकार हो रहे हैं। ऐसे लोगों की तबीयत अस्पताल लाए जाने तक ज्यादा बिगड़ जाती है।