ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRISIS का संदिग्ध आतंकी अब जमानत के लिए लगा रहा गुहार, HC ने NIA को भेज दिया नोटिस

ISIS का संदिग्ध आतंकी अब जमानत के लिए लगा रहा गुहार, HC ने NIA को भेज दिया नोटिस

कोर्ट ने कहा कि आरोपी विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को हैंडल कर रहे थे। ये इसका इस्तेमाल टूलकिट के तौर पर कर रहे थे और इसके जरिए ISIS की विचारधार को फैला कर लोगों को बहकाने का काम कर रहे थे। 

ISIS का संदिग्ध आतंकी अब जमानत के लिए लगा रहा गुहार, HC ने NIA को भेज दिया नोटिस
Nishant Nandanएएनआई,नई दिल्लीMon, 29 Jan 2024 03:18 PM
ऐप पर पढ़ें

एक संदिग्ध ISIS आतंकवादी की याचिका पर दिल्ली हाई कोर्ट ने National Investigation Agency (NIA) को नोटिस जारी किया है। अदालत में यह याचिका अमर अब्दुल रहीमन की याचिका पर जारी किया है। ISIS आतंकी अमर अब्दुल रहीमन ने ट्रायल कोर्ट द्वारा उसे जमानत नहीं दिए जाने के फैसले को चुनौती दी है। एनआईए ने उसपर साल 2021 में केस दर्ज किया है। इस मामले में जस्टिस सुरेश कुमार केत की बेंच ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी को नोटिस जारी कर अपना जवाब देने के लिए कहा है। इस मामले में अब अगली सुनवाई 12 मार्च, 2024 को होगी। इस मामले में रहीमन की तरफ से वकली अर्चित कृष्णा ने हाई कोर्ट में उसकी याचिका लगाई थी। 

इसी के साथ खूंखार आतंकी संगठन ISIS के इस संदिग्ध आतंकी ने अपनी याचिका में कहा है कि उसके खिलाफ UAPA की धाराओं Section 2 (o) , 38 और 39 के तहत केस दर्ज है। वो पिछले 2 साल से जेल में है। इस मामले में रहीमन के अलावा 13 अन्य लोगों के खिलाफ भी इन धाराओं में केस दर्ज है। इससे पहले NIA ने  मोहम्मद अमीन कटोदी उर्फ अबू याह्या, मुशब अनवर उर्फ लबननवर और रहीस रशीद उर्फ साचू के खिलाफ 8 सितंबर, 2022 को एक चार्जशीट दाखिल की थी। 

इस मामले में आगे की जांच के बाद सप्लीमेंट्री चार्जशीट 8 अन्य आरोपियों के खिलाफ भी दायर की गई। इनमें दीपति, मार्ला उर्फ मर्यम, मोहम्मद वकार लोन उर्फ विल्सन कश्मीरी, मिजा सिद्दीकी, सिफा हारिश, ओबेब हामिद मट्टा, मधेश शंकर उर्फ अब्दुल्ला उर्फ दर्दन, अमर अब्दुल रहीमन और मुजम्मिल हसन भट्ट शामिल हैं। इसके अलावा तीन अन्य आरोपी ईरशाद टेके उर्फ बिलाल को लेकर शक है कि वो विदेश भाग गया है। 

इन सभी आरोपियों के खिलाफ दायर चार्जशीट को लेकर कोर्ट ने कहा कि प्रथम दृष्टया इस बात का ग्राउंड है कि आरोपी विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को हैंडल कर रहे थे। ये इसका इस्तेमाल टूलकिट के तौर पर कर रहे थे और इसके जरिए ISIS की विचारधार को फैला कर लोगों को बहकाने का काम कर रहे थे। यह सभी UAPA के कानूनों के उल्लंघन में शामिल थे।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें