DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली HC ने कहा- अंशु प्रकाश विधानसभा समिति के समक्ष पेश हों या अवमानना कार्यवाही के लिए तैयार रहें

anshu prakash

दिल्ली हाईकोर्ट ने शुक्रवार को मुख्य सचिव अंशु प्रकाश एवं दो अन्य नौकरशाहों को निर्देश देते हुए कहा कि वे दिल्ली विधानसभा की उन समितियों के समक्ष पेश हों, जिन्होंने उन्हें नोटिस भेजा है। कोर्ट ने नौकरशाहों को आगाह किया कि यदि उन्होंने ऐसा नहीं किया तो उनके खिलाफ अवमानना की कार्यवाही होगी।

जस्टिस विभू बाखरू ने मुख्य सचिव एवं दो अन्य आईएएस अधिकारियों को आगाह किया कि यदि वे समितियों के समक्ष पेश नहीं हुए तो उनके खिलाफ अदालत, अवमानना की कार्यवाही शुरू कर सकती है। उन्होंने कहा कि वे अधिकारी हैं और उन्हें सभी समितियों के समक्ष पेश होना पड़ेगा।

यह आदेश तब दिया गया जब दिल्ली विधानसभा, विधानसभा अध्यक्ष एवं दो समितियों के वकील ने अदालत को यह बताया कि तीनों अधिकारी न तो समिति के समक्ष पेश हो रहे हैं और ना ही उनके द्वारा मांगी गई सूचनाओं पर कोई जवाब दे रहे हैं।

सवालों के जवाब न देने वाले अफसरों पर होगी कड़ी कार्रवाई : विस अध्यक्ष

वकील ने आरोप लगाया कि वे अदालत के पूर्व आदेश का लाभ उठा रहे हैं जिसमें प्राधिकारों को उनके खिलाफ कार्रवाई करने के लिए प्रतिबंधित किया गया था।

हाईकोर्ट ने नौ मार्च को समिति से कहा था कि वे आईएएस अधिकारियों के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई नहीं करें। कोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि यह स्पष्टीकरण दिया जाता है कि याचिकाकर्ता (नौकरशाह) अपने अधिकारों एवं दावों के पूर्वाग्रहों के बिना समितियों की कार्यवाही में भाग लेंगे।

कोर्ट ने कहा कि यह इस अदालत का निर्देश है कि आपको पेश होना पड़ेगा। यदि आप पेश में होने से विफल रहते हैं, उनके (प्राधिकारों) के बारे में भूल जाइये, यह अदालत आपके खिलाफ अवमानना कार्यवाही शुरू करेगी।

हाईकोर्ट ने इस मामले में जिन दो अन्य अधिकारियों को निर्देश दिए हैं उनमें सहकारी संस्थाओं के पंजीयक जे.बी. सिंह और दिल्ली शहरी आश्रय कल्याण बोर्ड (डीयूएसआईबी) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी शूरवीर सिंह शामिल हैं। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Delhi HC directs CS Anshu Prakash to appear before Legislative Assembly panels or face contempt action