ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRपीएम मोदी की स्कीम के नाम पर लगाया कैंप, 600 परिवारों को ठगा; BJP नेता को भी चूना

पीएम मोदी की स्कीम के नाम पर लगाया कैंप, 600 परिवारों को ठगा; BJP नेता को भी चूना

दिल्ली पुलिस के अधिकारियों ने कहा कि बीजेपी के पार्षद मनीष चड्ढा से आदित्य नाम के एक व्यक्ति ने संपर्क किया था। उसने खुद को ग्रामीण विकास मंत्रालय का अधिकारी बताया।

पीएम मोदी की स्कीम के नाम पर लगाया कैंप, 600 परिवारों को ठगा; BJP नेता को भी चूना
Swati Kumariहिन्दुस्तान टाइम्स,नई दिल्लीTue, 27 Feb 2024 04:50 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के पहाड़गंज इलाके में कुछ जालसाजों ने एक निगम पार्षद को भी गच्चा दे दिया। दरअसल, एक ठग बीजेपी के निगम पार्षद के ऑफिस में गया और खुद को मिनिस्ट्री ऑफ रूरल डेवलेपमेंट से बताकर इलाके में एक कैंप लगाने का निवेदन किया। इसमें उसने पीएम उज्ज्वला योजना के तहत गरीब लोगों को सिलाई मशीन और एलपीजी सिलिंडर बांटने का दावा किया। अब आरोप है कि कैंप लगाने के बाद आरोपी और उनके साथी लोगों से रजिस्ट्रेशन फीस और फॉर्म लेकर फरार हो गए हैं। वहीं, पुलिस अधिकारीयों का कहना है कि निगम पार्षद की शिकायत पर पहाड़गंज थाने में धोखाधड़ी का केस भी दर्ज कर लिया गया है। फिलहाल मामले की जांच जारी है।

दिल्ली पुलिस के अधिकारियों ने कहा कि बीजेपी के पार्षद मनीष चड्ढा से आदित्य नाम के एक व्यक्ति ने संपर्क किया था। उसने खुद को ग्रामीण विकास मंत्रालय का अधिकारी बताया। उन्होंने चड्ढा को 12 फरवरी को पहाड़गंज के टूटी चौक के बीच में एक विशाल शिविर लगाने के लिए कहा। शिविर में 600 से अधिक परिवारों ने भाग लिया और प्रत्येक परिवार ने रजिस्ट्रेशन फीस के तौर में लगभग ₹100 से ₹150 रुपये का चार्ज किया। साथ ही आदित्य ने कहा था कि एक दो दिन में अपडेट कर देंगे। मगर सात दिनों तक आरोपियों का कोई जवाब नहीं आया। संपर्क करने पर भी उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। इसके बाद चड्डा ने पुलिस में शिकायत दी।

बीजेपी पार्षद ने कहा, 'आदित्य नाम का एक व्यक्ति मेरे पास आया और कहा कि वह ग्रामीण विकास मंत्रालय में काम करने वाला एक अधिकारी है। उनके साथ कुछ युवतियां भी थीं। अगले दो से तीन दिनों के दौरान हमने कई बैठकें कीं, जिसके दौरान उन्होंने मुझे बताया कि सरकार प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना शिविर लगाना चाहती है। सभी गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) परिवारों को एलपीजी कनेक्शन और सिलेंडर मिलेंगे। महिलाओं को सिलाई मशीन और किट भी मिलेंगी। मैंने बस उनके आदेशों का पालन किया।'

उन्होंने आगे कहा, 'आदित्य और उनके सहयोगी आए और सभी से बातचीत की। उन्होंने झूठे वादे किये और हम सभी को धोखा दिया। उन्होंने सभी परिवारों से पैसे लिए और दो से तीन दिनों में एलपीजी कनेक्शन और सिलाई मशीनें देने का वादा किया। हमने इंतजार किया लेकिन कुछ नहीं हुआ। बाद में मैंने उन्हें फोन किया और उन्होंने मुझे और इंतजार करने के लिए कहा, लेकिन फिर भी कोई प्रगति नहीं हुई।'

नाम न छापने की शर्त पर एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि शिकायतकर्ताओं ने मंत्रालय कार्यालय से संपर्क किया और पाया कि आदित्य नाम का कोई अधिकारी मौजूद नहीं है। पुलिस उपायुक्त (केंद्रीय) एम हर्ष वर्धन ने कहा कि पार्षद की शिकायत के आधार पर 22 फरवरी को धोखाधड़ी की धाराओं के तहत रिपोर्ट दर्ज की गई थी। आरोपी फरार है और कई टीमें उसे पकड़ने के लिए काम कर रही हैं।

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के तहत एक योजना है। इसमें सिलाई मशीनों का वितरण शामिल नहीं है। योजना के बारे में पूछे जाने पर चड्ढा ने कहा कि उन्होंने उस समय योजना की जांच नहीं की थी। पुलिस ने कहा कि वे पार्षद से पूछताछ कर रहे हैं और आरोपियों की डिटेल्स उनके आईडी कार्ड और जाली पत्र ले लिए हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें