ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ NCRशराब घोटाले में मनीष सिसोदिया समेत आरोपियों ने बदले फोन, मिटा दिए सबूत; ईडी का आरोप

शराब घोटाले में मनीष सिसोदिया समेत आरोपियों ने बदले फोन, मिटा दिए सबूत; ईडी का आरोप

ईडी ने कहा कि मनीष सिसोदिया और अमित अरोड़ा ने 11 फोन बदले थे। इन फोनों का इस्तेमाल शराब घोटाले के दौरान किया गया। इसके अलावा एजेंसी ने सिसोदिया और अमित अरोड़ा पर सबूतों को नष्ट करने के आरोप भी लगाया।

शराब घोटाले में मनीष सिसोदिया समेत आरोपियों ने बदले फोन, मिटा दिए सबूत; ईडी का आरोप
Surya Prakashलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 30 Nov 2022 05:33 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के शराब घोटाले को लेकर प्रवर्तन निदेशालय ने आरोप लगाया है कि डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया समेत आरोपियों ने कई बार फोन बदले और सबूतों को नष्ट कर दिया। बुधवार को इस केस में गिरफ्तार किए गए अमित अरोड़ा को अदालत में पेश करते हुए जांच एजेंसी ने ये दावे किए। ईडी ने कहा कि मनीष सिसोदिया और अमित अरोड़ा ने 11 फोन बदले थे। इन फोनों का इस्तेमाल शराब घोटाले के दौरान किया गया। इसके अलावा एजेंसी ने मनीष सिसोदिया और अमित अरोड़ा पर सबूतों को नष्ट करने के आरोप भी लगाए हैं। हालांकि शराब घोटाले में ही सीबीआई ने जो चार्जशीट दाखिल की है, उसमें मनीष सिसोदिया का नाम शामिल नहीं है। 

राउज एवेन्यू कोर्ट में ईडी ने दावा किया कि सबूतों को इस हद तक मिटाया गया है कि ज्यादा सरकारी अफसरों, शराब कारोबारियों और मनीष सिसोदिया ने कई बार अपने फोन बदले। एजेंसी ने कहा कि इन लोगों ने शराब घोटाले की अवधि के दौरान कुल 1 करोड़ 38 लाख रुपये के फोनों का इस्तेमाल किया। इस बीच ईडी को अमित अरोड़ा की 7 दिनों के लिए कस्टडी मिल गई है। मनीष सिसोदिया के करीबी सहयोगी बताए जा रहे अमित अरोड़ा को आज सुबह ही ईडी ने गिरफ्तार किया था। उन्हें गिरफ्तार करने के बाद ईडी ने राउज एवेन्यू कोर्ट में पेश किया और हिरासत की मांग की थी। 

अरोड़ा पर आरोप- कैश जुटाने में था रोल, सिसोदिया के करीबी

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक ईडी ने आरोप लगाया है कि अमित अरोड़ा ही कैश की हैंडलिंग कर रहे थे। एजेंसी का दावा है कि अरोड़ा को एक वेंडर से ढाई करोड़ रुपये की रकम हासिल हुई थी। अपनी रिमांड ऐप्लिकेशन में ईडी ने आरोप लगाया कि दिल्ली एक्साइज पॉलिसी को आप नेताओं ने इस तरह से तैयार किया था ताकि उन्हे अवैध फंड मिल सके। जांच एजेंसी ने कहा कि अमित अरोड़ा का मनीष सिसोदिया से करीबी नाता रहा है। उसने एक्साइज पॉलिसी के बारे में जानकारी हासिल कर उसका इस्तेमाल किया। इसके अलावा अमित अरोड़ा पर आरोप है कि उसने गलत ढंग से रिटेल और होलसेल लाइसेंस भी हासिल कर लिए थे। 

CBI की चार्जशीट में नहीं था सिसोदिया का नाम, इन्हें किया था शामिल

इससे पहले सीबीआई ने इस केस में दाखिल की गई चार्जशीट में मनीष सिसोदिया के नाम का जिक्र ही नहीं किया था। इसे आम आदमी पार्टी ने अपनी जीत बताया था और कहा था कि उनके खिलाफ छापे में भी कुछ नहीं मि्ला था। अंत में एजेंसी ने उनका नाम ही नहीं डाला। हालांकि सीबीआई ने आरोप पत्र में आम आदमी पार्टी के कॉम्युनिकेशन इंचार्ज विजय नायर, तत्काली एक्साइज डिप्टी कमिश्नर कुलदीप सिंह और असिस्टेंट कमिश्नर नरेंद्र सिंह के नाम शामिल किए थे। इनके अलावा अभिषेक बोईनपल्ली, अरुण आर. पिल्लाई, मूथा गौतम और समीर महेंद्रू के नाम शामिल किए थे।