DA Image
24 दिसंबर, 2020|7:57|IST

अगली स्टोरी

जासूसी मामला : दिल्ली की कोर्ट ने कहा- पत्रकार राजीव शर्मा के वकीलों को FIR की कॉपी दे पुलिस

a delhi court orders to provide fir copy to the lawyers of freelance journalist rajeev sharma

दिल्ली की एक कोर्ट ने चीन के लिए जासूसी करने के आरोप में दिल्ली के पीतमपुरा से गिरफ्तार किए गए एक फ्रीलांस पत्रकार राजीव शर्मा के वकीलों को एफआईआर कॉपी प्रदान करने का आदेश दिया है। राजीव शर्मा को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने हाल ही में आधिकारिक गोपनीयता अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया था।

जानकारी के अनुसार, 21 सितंबर को दिल्ली की एक अदालत ने जासूसी के आरोप में पकड़े गए पत्रकार राजीव शर्मा, चीनी महिला और एक नेपाली व्यक्ति को सात दिनों की पुलिस हिरासत में भेज दिया था।  

राजीव ने जासूसी से डेढ़ साल में कमाए 40 लाख रुपये, हर सूचना के मिलते थे 1000 डॉलर

पुलिस का आरोप है कि सीमा पर भारतीय रक्षा तैयारियों की जानकारी चीन को देने का आरोपी राजीव सबसे ज्यादा इन तीनों के संपर्क में था। दरअसल उसने इन लोगों से ही ज्यादा से ज्यादा सूचनाएं हासिल करने का प्रयास किया। हालांकि इनसे क्या कहकर सूचनाएं हासिल की गईं? क्या इन्हें बदले में रकम भी दी गई? इन तमाम सवालों के जवाब तलाशे जा रहे हैं।

बीते दिनों दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के डीसीपी संजीव कुमार यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया था कि पत्रकार राजीव शर्मा 2016 से 2018 तक चीनी खुफिया अधिकारियों को संवेदनशील रक्षा और रणनीतिक जानकारी देने में शामिल थे। वह विभिन्न देशों में कई स्थानों पर चीनी खुफिया अधिकारियों से मिलते थे।

राजीव शर्मा से पूछताछ के बाद गिरफ्तार किए गए उनके दो सहयोगी- एक चीनी महिला और नेपाली पुरुष दिल्ली के महिपालपुर में एक कंपनी चलाते हैं, जहां से वे चीन को दवाएं एक्सपोर्ट करते थे और चीन से भेजे गए पैसे को शेल कंपनियों के जरिये यहां से एजेंटों को दिया जाता था। डीसीपी संजीव कुमार यादव ने बताया कि जांच के अनुसार, पिछले 1 सवा साल में 40-45 लाख रुपये इनके पास आ चुके हैं। इनके पास से 10-12 फोन, लैपटॉप, टैब और चाइनीज ATM कार्ड बरामद हुए हैं।

चीनी मीडिया के लिए भी लिखे आर्टिकल 

डीसीपी यादव ने बताया कि राजीव शर्मा लगभग 40 साल पत्रकारिता में हैं। भारत में कई मीडिया संस्थानों में एक पत्रकार के रूप में अपनी सेवाएं देने के अतिरिक्त उन्होंने एक स्वतंत्र पत्रकार के रूप में चीनी मीडिया एजेंसी ग्लोबल टाइम्स के लिए भी कई आर्टिकल लिखे हैं।

 

जानिए चीन को क्या-क्या बताता था जासूस पत्रकार, कैसे मिलता था पैसा

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Delhi Court orders to provide FIR copy to lawyers of freelance journalist Rajeev Sharma