DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   NCR  ›  ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर्स की जमाखोरी मामले में मैट्रिक्स सेलुलर के सीईओ समेत चार कर्मियों को जमानत

एनसीआरऑक्सीजन कंसेंट्रेटर्स की जमाखोरी मामले में मैट्रिक्स सेलुलर के सीईओ समेत चार कर्मियों को जमानत

नई दिल्ली। प्रमुख संवाददाताPublished By: Praveen Sharma
Wed, 12 May 2021 07:36 PM
ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर्स की जमाखोरी मामले में मैट्रिक्स सेलुलर के सीईओ समेत चार कर्मियों को जमानत

ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर्स की जमाखोरी और कालाबाजारी के आरोप में गिरफ्तार किए गए मैट्रिक्स सेलुलर कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और उपाध्यक्ष सहित चार कर्मियों को दिल्ली की एक अदालत ने बुधवार को जमानत दे दी।

साकेत स्थित मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट अरुण कुमार गर्ग की अदालत ने आरोपियों को निर्देश दिया कि वे न तो साक्ष्यों से छेड़छाड़ करें और ना ही गवाहों को प्रभावित करने की कोशिश करें तथा जब भी पुलिस बुलाए, जांच में सहयोग करें। अदालत ने कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी गौरव खन्ना, उपाध्यक्ष गौरव सूरी एवं दो अन्य कर्मियों-विक्रांत तथा सतीश सेठी को जमानत दी है।

अदालत ने इन आरोपियों को 50-50 हजार रुपये के निजी मुचलके पर जमानत दी है। दिल्ली पुलिस ने इन लोगों को पिछले सप्ताह ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर्स की कालाबाजारी करने के आरोप में गिरफ्तार किया था जो दिल्ली स्थित इनके तीन बड़े रेस्टोरेंट्स से बरामद हुए थे।

पुलिस के अनुसार, मैट्रिक्स सेलुलर को चीन से 650 ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर्स की खेप मिली थी, जिनमें से 524 बरामद कर लिए गए हैं। ऑक्सीजन से जुड़े इन उपकरणों को 70-70 हजार रुपये में बेचा जा रहा था। अदालत ने मंगलवार को अभियोजन पक्ष से कहा था कि वह कानून बनाने से पहले लोगों को दंडित नहीं कर सकता।

अदालत ने कहा था कि आप सात मई को आदेश लेकर आए कि ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर्स अधिकतम खुदरा मूल्य (एमआरपी) से अधिक दाम पर नहीं बेचे जा सकते, लेकिन मौजूदा एफआईआर पांच मई की है। इस लिहाज से यह कानून बनने से पहले की एफआईआर हुई। उन्होंने मौखिक टिप्पणी में कहा था कि सरकार का काम किसी आतंकवादी जैसा नहीं होता। आपको कानून के अनुसार चलना होगा। यदि कोई कानून नहीं है और आपको कोई रिक्तता महसूस होती है तो आपको इसे भरने की आवश्यकता है। 

संबंधित खबरें