ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRरेप केस में नौसेना अधिकारी को मिली राहत, दिल्ली की अदालत ने संदेह का लाभ देते हुए किया बरी

रेप केस में नौसेना अधिकारी को मिली राहत, दिल्ली की अदालत ने संदेह का लाभ देते हुए किया बरी

दिल्ली की एक अदालत (Delhi Court) ने भारतीय नौसेना (Indian Navy) में कार्यरत अधिकारी को बलात्कार के मामले (Rape Case) से बरी कर दिया है। अदालत ने यह फैसला कथित पीड़िता द्वारा बार-बार बयान बदलने...

रेप केस में नौसेना अधिकारी को मिली राहत, दिल्ली की अदालत ने संदेह का लाभ देते हुए किया बरी
नई दिल्ली। पीटीआई Fri, 11 Feb 2022 02:32 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली की एक अदालत (Delhi Court) ने भारतीय नौसेना (Indian Navy) में कार्यरत अधिकारी को बलात्कार के मामले (Rape Case) से बरी कर दिया है। अदालत ने यह फैसला कथित पीड़िता द्वारा बार-बार बयान बदलने के आधार पर दिया है।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अंकुर जैन ने यह संज्ञान में लिया कि बलात्कार का आरोप लगाने वाली महिला ने तीन अलग-अलग स्तर पर अलग-अलग बयान दिया जिसके आधार उन्होंने बलात्कार के आरोपी लेफ्टिनेंट कमांडर को संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया। 

अदालत ने कहा कि तीन अलग स्तर पर अभियोजन द्वारा तीन अलग-अलग संस्करण प्रस्तुत किए गए। गवाहों की गवाही में विरोधाभास, सुधार और विसंगति होनी लाजमी है। प्रत्येक विरोधाभास, सुधार और विसंगति महत्वपूर्ण नहीं है, लेकिन इस मामले में अभियोजन पक्ष द्वारा पीड़िता के भाई की उपस्थिति को लेकर तीन अलग-अलग संस्करण प्रस्तुत किए गए। 

अदालत ने कहा कि लगता है कि मौजूदा शिकायत आरोपी को शादी के लिए मजबूर करने के लिए की गई और जमानत अर्जी पर सुनवाई के दौरान आरोपी झुक गया और उसने महिला से शादी कर ली जो जमानत आदेश और रिकॉर्ड में मौजूद तस्वीरों से भी परिलक्षित होता है। अदालत ने रेखांकित किया कि अंतत: यह शादी नहीं टिकी और दोनों ने तलाक ले लिया। 

न्यायाधीश ने कहा कि यह काफी असमान्य है कि पीड़िता ने घटना के बाद अपनी मां को भी कुछ नहीं बताया और दो दिन तक इंतजार किया और आरोपी की मां द्वारा शादी से इनकार करने के बाद जानकारी दी।

अदालत ने कहा कि इसलिए संदेह का लाभ आरोपी को मिलता है और उसे आरोपों से बरी किया जाता है। न्यायाधीश ने यह फैसला छह फरवरी को दिया था। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें