ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRED जांच के बाद शुरू हुआ असली घोटाला, छापे में कुछ नहीं मिला; कोर्ट में और क्या-क्या बोले केजरीवाल

ED जांच के बाद शुरू हुआ असली घोटाला, छापे में कुछ नहीं मिला; कोर्ट में और क्या-क्या बोले केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को राउज एवेन्यू कोर्ट में अपने पक्ष में दलील देते हुए कहा कि दिल्ली में कोई शराब घोटाला नहीं हुआ। सौ करोड़ के घोटाले में कहीं भी रुपया नहीं मिला है।

ED जांच के बाद शुरू हुआ असली घोटाला, छापे में कुछ नहीं मिला; कोर्ट में और क्या-क्या बोले केजरीवाल
Praveen Sharmaनई दिल्ली। हिन्दुस्तानFri, 29 Mar 2024 05:58 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को राउज एवेन्यू कोर्ट में अपने पक्ष में दलील देते हुए कहा कि दिल्ली में कोई शराब घोटाला नहीं हुआ। सौ करोड़ के घोटाले में कहीं भी रुपया नहीं मिला है और ना ही कोई मनी ट्रेल सामने आई है। असली घोटाला ईडी द्वारा जांच शुरू होने के बाद हुआ।

उन्होंने आरोप लगाया कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) का मकसद उन्हें फंसाना और आम आदमी पार्टी को खत्म करना है। अरविंदो फार्मा का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि मामले में अप्रूवर बने शरथ चंद्र रेड्डी ने भाजपा को 55 करोड़ रुपये दिए हैं, जिसमें से 50 करोड़ गिरफ्तारी के बाद दिए गए। 

राउज एवेन्यू कोर्ट में गुरुवार को ईडी और केजरीवाल ने अपनी-अपनी दलील पेश कीं। इस दौरान ईडी ने आरोप लगाया कि कथित शराब घोटाले के बाद गोवा चुनाव में पैसा लगाया गया। खुद अपनी दलील पेश करते हुए केजरीवाल ने कहा कि तमाम छापेमारी के बाद भी एक रुपया बरामद नहीं हो सका। मुझे फंसाने और आम आदमी पार्टी (आप) को खत्म करने के लिए यह साजिश रची गई।

कोर्ट के समक्ष वही दस्तावेज लाए जिसमें मुझे फंसाया गया मुख्यमंत्री ने कहा, सीबीआई ने कोर्ट में 31 हजार पेज जबकि ईडी 25 हजार पेज पेश कर चुकी है, लेकिन मुझे क्यों गिरफ्तार किया गया, इसका जवाब नहीं है। चार अप्रूवरों के सिर्फ अंतिम बयान में मेरा नाम है। क्या यह मुख्यमंत्री को गिरफ्तार करने के लिए पर्याप्त आधार है। दूसरा, 30 हजार पेज कोर्ट में फाइल किए गए और एक लाख पेज ईडी के दफ्तर में पड़े हैं, लेकिन कोर्ट के समक्ष वही दस्तावेज लाए गए जिसमें मुझे फंसाया जा सके। मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि इनका मकसद 'आप' को खत्म करना और उसके पीछे एक्सटॉर्शन रैकेट चलाना है, जिसके जरिये वो पैसे इकट्ठा कर रही है। शरथ रेड्डी के केस में उसको जमानत दो कारणों से मिली। सबसे पहले शरथ रेड्डी ने मेरे खिलाफ बयान दिया और शरथ रेड्डी ने गिरफ्तार होने के बाद 55 करोड रुपये का चंदा भाजपा को दिया। गिरफ्तार होने के बाद 55 करोड़ रुपये के बॉन्ड शरथ रेड्डी ने खरीदे और उसके बाद उसे जमानत मिल गई। इससे मनी ट्रेल साबित हो जाता है।

वजह स्वीकार्य नहीं : केजरीवाल की तरफ से पेश वरिष्ठ वकील रमेश गुप्ता ने कहा कि हम ईडी की हिरासत का विरोध नहीं कर रहे हैं, लेकिन ईडी द्वारा दाखिल किए गए रिमांड आवेदन में जो वजह बताई गई हैं। वह स्वीकार्य नहीं हैं।

ईडी ने शराब घोटाले के साक्ष्य होने का दावा किया 

एएसजी एसवी राजू ने मुख्यमंत्री की दलील के बाद उनका जवाब देते हुए कहा कि केजरीवाल अदालत को उलझा रहे हैं। आम आदमी पार्टी को कथित शराब घोटाले से पैसे मिले, जिसका इस्तेमाल गोवा चुनाव में किया गया। हमारे पास साक्ष्य हैं, जिसमें यह व्यक्ति 100 करोड़ रुपये का किकबैक मांग रहा है। भाजपा को मिले पैसे का आबकारी घोटाले से कोई संबंध नहीं है। सीएम कानून से ऊपर नहीं हैं।

मोबाइल पासवर्ड नहीं देने का आरोप लगाया

ईडी ने केजरीवाल पर पूछताछ में सहयोग न करने का आरोप लगाया। ईडी ने अदालत में दाखिल आवेदन में कहा कि पांच दिन केजरीवाल के बयान रिकॉर्ड किए गए हैं। सी अरविंद से केजरीवाल को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ की गई। आरोपी की पत्नी का मोबाइल फोन से डेटा रिकवर कर लिया गया है, जबकि अन्य चार मोबाइल फोन के पासवर्ड सीएम ने नहीं दिए हैं। अदालत में राजू ने बताया कि केजरीवाल पहले वकील से बात करना चाहते थे। यदि वह पासवर्ड नहीं बताएंगे तो उन्हें पासवर्ड तोड़ना पड़ेगा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें