DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रदूषण का प्रकोप: दिल्ली ने 22 दिन बाद ली राहत की सांस, लेकिन आज से फिर खतरा

Pollution in Delhi (Symbolic Image)

दिल्ली को करीब 22 दिन के बाद जहरीली हवा से मुक्ति मिली है। हवा की तेज गति और कुछ इलाकों में हुई हल्की बूंदा-बांदी की वजह से आबोहवा में घुला जहर रविवार को काफी हद तक साफ हो गया। इससे वायु गुणवत्ता सूचकांक भी लंबे समय बाद सामान्य श्रेणी में पहुंच गया। हालांकि, सोमवार शाम के बाद प्रदूषण में फिर से वृद्धि होने की आशंका है। दिल्लीवालों ने रविवार को खुलकर सांस ली। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के मुताबिक, रविवार को दिल्ली का समग्र वायु गुणवत्ता सूचकांक 171 दर्ज किया गया। 

साथ ही, हवा में घुले प्रदूषक कण पीएम 10 और पीएम 2.5 के स्तर में भी भारी कमी आई है। दोपहर 3 बजे हवा में पीएम 10 की मात्रा 165 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर और पीएम 2.5 की मात्रा 77.3 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर दर्ज की गई।  इसकी वजह से हवा की गुणवत्ता मध्यम श्रेणी में पहुंच गई। इससे पहले 12 अक्तूबर को हवा में वायु प्रदूषण की स्थित लगभग ऐसी थी। उसके बाद से ही वायु प्रदूषण में लगातार बढ़ोतरी देखने को मिली और 30 अक्तूबर को वायु गुणवत्ता गंभीर श्रेणी तक पहुंच गई थी। 

अगले महीने से शुरू हो सकती है भारत-नेपाल के बीच पहली रेल सेवा

लोधी रोड क्षेत्र में बूंदा-बांदी: पहाड़ों में हुई बर्फबारी और बारिश की वजह से दिल्ली के मौसम में भी बदलाव आया है। हवा की रफ्तार बढ़ने से दिल्ली में छाया प्रदूषण काफी हद तक घुल गया है। साथ ही, पिछले चौबीस घंटों के दौरान लोधी रोड और आस-पास के इलाके में हल्की बूंदा-बांदी हुई है। इस वजह से भी हवा में घुले प्रदूषक कण जमीन पर बैठ गए हैं। 

लेकिन आज से फिर खतरा

विशेषज्ञों का मानना है कि सोमवार की शाम के बाद से मौसम में एक बार फिर से बदलाव होने के आसार हैं। इसकी वजह से दिल्ली के प्रदूषण में एक बार फिर से बढ़तरी हो सकती है। इसके अलावा दिवाली के बाद भी हवा बेहद जहरीली होने की संभावना है।

भारत का माहौल बिगाड़ने की कोशिश कर रहा पाक, रहें सावधानः सेना प्रमुख

सिर्फ तीन जगह परेशानी 

सीपीसीबी के मुताबिक, दिल्ली में रविवार को सिर्फ जगहों पर ही वायु गुणवत्ता खराब रही। रविवार को वजीरपुर में वायु गुणवत्ता 206, बवाना में 205 और आयानगर में 294 रही। इसके अलावा, पूरी दिल्ली में ही हवा की गुणवत्ता मध्यम श्रेणी में पहुंच गई है।

सख्ती :  दो दिन में 80 लाख से ज्यादा जुर्माना वसूला

बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए 1 से 10 नवंबर तक के लिए पर्यावरण प्रदूषण निवारक प्राधिकरण (इपका) की ओर से तमाम प्रतिबंधों के दिशा-निर्देश जारी किए गए थे। सीपीसीबी के मुताबिक, क्लीन एयर अभियान के तहत शुक्रवार और शनिवार को दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में 80 लाख से ज्यादा का जुर्माना वसूला गया। सिर्फ शनिवार को दिल्ली में 465 शिकायतों के आधार पर 52 टीमों ने 41 लाख 82 हजार से ज्यादा का जुर्माना वसूल किया गया है। प्रदूषण से मिली राहत के पीछे प्रदूषण पैदा करने वाले स्थानीय कारकों पर लगी लगाम को भी एक कारण माना जा रहा है। 

लोकसभा चुनावः भाजपा यूपी में न ‘अपनों’ को छोड़ेगी न सीट देगी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Delhi breathed relief after 22 days but pollution will be increased from today