ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCR'भाजपा उपाध्यक्ष ने ऑफर दिया था, उस मामले का क्या हुआ': केजरीवाल के मंत्री ने पूछा

'भाजपा उपाध्यक्ष ने ऑफर दिया था, उस मामले का क्या हुआ': केजरीवाल के मंत्री ने पूछा

सौरभ भारद्वाज ने कहा, साल 2014 में दिल्ली बीजेपी के उपाध्यक्ष ने चुने हुए विधायक दिनेश मोहनिया को करोड़ों रुपये देने की पेशकश की थी वो उन्हें खरीदने की कोशिश की थी। हमने इसकी शिकायत की थी।'

'भाजपा उपाध्यक्ष ने ऑफर दिया था, उस मामले का क्या हुआ': केजरीवाल के मंत्री ने पूछा
Nishant Nandanलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 05 Feb 2024 03:14 PM
ऐप पर पढ़ें

आम आदमी पार्टी के नेताओं को क्राइम ब्रांच की तरफ से मिले नोटिस पर AAP नेता सौरभ भारद्वाज की प्रतिक्रिया सामने आई है। सौरभ भारद्वाज ने कहा, साल 2014 में दिल्ली बीजेपी के उपाध्यक्ष ने चुने हुए विधायक दिनेश मोहनिया को करोड़ों रुपये देने की पेशकश की थी वो उन्हें खरीदने की कोशिश की थी। हमने इसका स्टिंग वीडियो बनाया था और इसे मीडिया को भी दिया था। पुलिस को शिकायत भी की थी। यह कहा गया था कि पुलिस मामले की जांच कर रही है। अब 10 साल हो गए हैं।

क्या क्राइम ब्रांच ने बीजेपी में किसी को नोटिस दिया है। हम नए सबूत देंगे लेकिन हम जानना चाहते हैं कि इससे पहले जो केस सामने आया था उसका क्या हुआ? क्या उस वीडियो की फॉरेंसिक जांच हुई? क्या बीजेपी नेता और दिनेश मोहनिया के वॉयस सैंपल लिए गए? क्या उस केस में किसी से पूछताछ हुई है? क्या 10 साल में चार्जशीट हो गई है? नए सबूत तो दे देंगे, पर आप पुराना तो बताओ कि आपने उसमें क्या किया?'

बता दें कि कुछ दिनों पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कुछ दिनों पहले आरोप लगाया था कि बीजेपी ने AAP विधायकों को खरीदने की कोशिश की है। केजरीवाल ने दावा किया था, 'पिछले दिनों इन्होंने हमारे दिल्ली के 7 MLAs को संपर्क कर कहा है - कुछ दिन बाद केजरीवाल को गिरफ़्तार कर लेंगे। उसके बाद MLAs को तोड़ेंगे। 21 MLAs से बात हो गयी है। औरों से भी बात कर रहे हैं। उसके बाद दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार गिरा देंगे। आप भी आ जाओ। 25 करोड़ रुपये देंगे और बीजेपी की टिकट से चुनाव लड़वा देंगे।'

हालांकि, उनका दावा है कि उन्होंने 21 MLAs से संपर्क किया है लेकिन हमारी जानकारी के मुताबिक़ उन्होंने अभी तक 7 MLAs को ही संपर्क किया है और सबने मना कर दिया। इसका मतलब किसी शराब घोटाले की जांच के लिए मुझे गिरफ़्तार नहीं किया जा रहा बल्कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार गिराने के लिए षड्यंत्र कर रहे हैं। पिछले नौ सालों में हमारी सरकार गिराने के लिए इन्होंने कई षड्यंत्र किए। लेकिन इन्हें कोई सफलता नहीं मिली। भगवान ने और जनता ने हमेशा हमारा साथ दिया। हमारे सभी MLA भी मज़बूती से  साथ हैं। इस बार भी ये लोग अपने नापाक इरादों में फेल होंगे।' 

BJP ने इस मामले में पुलिस कमिश्नर से मिलकर आम आदमी पार्टी के नेताओं के इन दावों की जांच की मांग की थी। इसके बाद क्राइम ब्रांच ने अरविंद केजरीवाल और आप की मंत्री आतिशी को नोटिस दिया था और कहा था कि विधायकों को खरीदने का जो आरोप लगाया था उसके पक्ष में सबूत दें। अब भाजपा सांसद मनोज तिवारी ने कहा, 'वो ऐसा सहानुभूति हासिल करने के लिए कर रहे हैं। अभी वो लोगों के गुस्से के निशाने पर हैं। इसलिए वो ऐसा कर रहे हैं। लेकिन दिल्ली के लोग उनसे प्रभावित नहीं हो रहे हैं। लोग चाहते हैं कि इस मामले की जांच की जाए। दिल्ली की जनता चाहती है कि ऐसे लोगों को सजा मिले।'

 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें