ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRदिल्ली में पानी के सवाल पर सियासी उबाल, कांग्रेस के बाद बीजेपी ने फोड़े मटके; केजरीवाल से इस्तीफे की मांग

दिल्ली में पानी के सवाल पर सियासी उबाल, कांग्रेस के बाद बीजेपी ने फोड़े मटके; केजरीवाल से इस्तीफे की मांग

नई दिल्ली से सांसद बांसूरी स्वराज भी विरोध प्रदर्शन में शामिल हुईं और केजरीवाल और आम आदमी पार्टी के खिलाफ नारेबाजी करते हुए मटको फोड़े। 

दिल्ली में पानी के सवाल पर सियासी उबाल, कांग्रेस के बाद बीजेपी ने फोड़े मटके; केजरीवाल से इस्तीफे की मांग
delhi water crisis
Aditi Sharmaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSun, 16 Jun 2024 01:01 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली में पानी संकट के बीच भाजपा ने दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों में विरोध प्रदर्शन किया है। भाजपा के सांसद और विधायक इस प्रदर्शन में शामिल हुए हैं। भाजपा का आरोप है कि दिल्ली में पानी का संकट दिल्ली सरकार की नीतियों के कारण खड़ा हुआ है। दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष वीरेंद्र सचदेवा ने कहा,  दिल्ली में पानी की कमी के लिए अगर कोई जिम्मेदार है तो वह सीएम अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी सरकार है। दिल्ली में पानी की कमी प्राकृतिक नहीं है। दिल्ली के पास अपेक्षित जल भंडार है और हरियाणा अपनी सीमा से अधिक मात्रा में पानी दे रहा है। पानी की चोरी और बर्बादी ही दिल्ली में पानी की कमी का मूल कारण है।

जल संकट को लेकर बीजेपी दिल्ली में मटका फोड़ प्रदर्शन कर रही है। इस दौरान भाजपा सांसदों ने केजरीवाल के इस्तीफे की मांग भी की।  दिल्ली में पानी की कीमत के विरोध में केजरीवाल के इस्तीफा की मांग को लेकर भाजपा नवीन शाहदरा जिला की ओर से आयोजित प्रदर्शन में उत्तर पूर्वी दिल्ली के सांसद मनोज तिवारी ने भाग लिया और केजरीवाल के इस्तीफा की मांग की। उधर नई दिल्ली से बांसूरी स्वराज भी विरोध प्रदर्शन में शामिल हुईं और केजरीवाल और आम आदमी पार्टी के खिलाफ नारेबाजी करते हुए मटको फोड़े। 

उन्होंने कहा, यह कोई प्राकृतिक समस्या नहीं है, इसे आम आदमी पार्टी ने पैदा किया है। दिल्ली के पास पर्याप्त पानी है और हरियाणा सहमति से अधिक पानी छोड़ रहा है। केवल 10 सालों  में, AAP ने दिल्ली जल बोर्ड को 2013 में 600 करोड़ रुपये के लाभ से 2024 में 73000 करोड़ रुपये के घाटे में पहुंचा दिया है। पिछले एक दशक से इन्होंने दिल्ली जल बोर्ड के इंफ्रास्ट्रक्चर में कोई बदलाव नहीं किया। इनका 40 फीसदी पानी वेसटेज में चला जाता है या माफिया जिन्हें दिल्ली सरकार प्रोत्साहित करती है, उसे वह चुरा कर ले जाते हैं। 

आप की हरियाणा से खास अपील

इस बीच  दिल्ली सरकार में मंत्री आतिशी ने शनिवार को कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में पानी की कमी के मद्देनजर आम आदमी पार्टी (आप) नीत सरकार ने हरियाणा से मानवीय आधार पर यमुना में अतिरिक्त पानी छोड़ने का आग्रह किया है। दिल्ली की जल मंत्री ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मुनक नहर और वजीराबाद जल शोधन संयंत्र में पानी की कमी के कारण राष्ट्रीय राजधानी में शोधित जल का उत्पादन करने में सात करोड़ गैलन प्रतिदिन (एमजीडी) की कमी आ गई है।

उन्होंने कहा कि छह जून को दिल्ली में सामान्य रूप से जल उत्पादन लगभग 1,002 एमजीडी था जो अशोधित जल की कमी के कारण शुक्रवार को घटकर 932 एमजीडी रह गया। मंत्री ने कहा, "दिल्ली सरकार ने मानवीय आधार पर हरियाणा से राष्ट्रीय राजधानी के लोगों के लिए अतिरिक्त पानी छोड़ने की अपील की है।" उन्होंने कहा कि गर्मी कम होने के बाद यमुना के जल के बंटवारे से संबंधित मुद्दों पर चर्चा की जा सकती है। हरियाणा से अपर्याप्त जल प्रवाह के कारण दिल्ली में शोधित जल का उत्पादन घटकर 932 एमजीडी रह गया है।

आतिशी ने कहा कि वजीराबाद बैराज का जलस्तर छह फुट घटकर 668.5 फुट हो गया है तथा मुनक नहर से मिलने वाला पानी घटकर 902 क्यूसेक रह गया है।

मंत्री ने कहा वजीराबाद बैराज में जलस्तर 674.5 फुट रहना चाहिए लेकिन अभी यह केवल 668.5 फुट है। वजीराबाद बैराज में पानी लगभग खत्म हो चुका है और बिल्कुल भी पानी नहीं आ रहा है।

उन्होंने कहा, "दूसरी तरफ मुनक नहर से भी दिल्ली को पर्याप्त पानी नहीं मिल रहा है। दस जून को मुनक नहर से दिल्ली को 925 क्यूसेक पानी मिला था, जो 11 जून को घटकर 919 क्यूसेक, 12 जून को घटकर 903 क्यूसेक, 13 जून को घटकर 906 क्यूसेक और 15 जून को घटकर 902 क्यूसेक रह गया है।" मंत्री ने कहा कि शुक्रवार को ऊपरी यमुना नदी बोर्ड की बैठक में दिल्ली में जल संकट का कोई समाधान नहीं निकल सका।

एजेंसी से इनपुट