ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRBhairon Marg underpass : भैरों मार्ग अंडरपास उद्घाटन के इंतजार में अटका, जानिए कहां फंस रहा पेच

Bhairon Marg underpass : भैरों मार्ग अंडरपास उद्घाटन के इंतजार में अटका, जानिए कहां फंस रहा पेच

सूत्रों का कहना है कि PWD और दिल्ली सरकार की ओर से यह तय नहीं हो पा रहा है कि भैरों मार्ग अंडरपास के आधे हिस्सा का उद्घाटन कराया जाए या फिर पूरा हिस्सा तैयार होने पर उद्घाटन कार्यक्रम किया जाए।

Bhairon Marg underpass : भैरों मार्ग अंडरपास उद्घाटन के इंतजार में अटका, जानिए कहां फंस रहा पेच
Praveen Sharmaनई दिल्ली। हिन्दुस्तानTue, 06 Feb 2024 05:56 AM
ऐप पर पढ़ें

Delhi Bhairon Marg Underpass : राजधानी दिल्ली में भैरों मार्ग से रिंग रोड को जोड़ने वाले अंडरपास का एक हिस्सा यातायात के लिए बन चुका है, लेकिन अब उसे उद्घाटन का इंतजार है। प्रगति मैदान टनल में लगने वाले जाम को देखते हुए करीब दो सप्ताह पहले निर्माण एजेंसी और लोक निर्माण विभाग की संबंधित इकाई ने अंडरपास के एक हिस्से को खोलने का प्रस्ताव रखा था। माना जा रहा था कि 26 जनवरी के बाद यातायात शुरू हो जाएगा, लेकिन इसे खोलने की फाइल पर अभी कोई निर्णय नहीं लिया जा सका है।

सूत्रों का कहना है कि लोक निर्माण विभाग और दिल्ली सरकार की ओर से यह तय नहीं हो पा रहा है कि अंडरपास के आधे हिस्सा का उद्घाटन कराया जाए या फिर पूरा हिस्सा तैयार होने पर उद्घाटन कार्यक्रम किया जाए। अगर उद्घाटन कार्यक्रम किया जाना है तो उपराज्यपाल को भी आमंत्रित करना होगा, क्योंकि अंडरपास प्रगति मैदान टनल प्रोजेक्ट का हिस्सा है, जिसमें केंद्र सरकार की तरफ से बड़ी धनराशि दी गई है। इस स्थिति के बीच अंडरपास को यातायात के लिए नहीं खोला जा रहा है। हालांकि, लोक निर्माण विभाग के अधिकारी इस बाबत खुलकर बोलने से बच रहे हैं।

यह है वजह : पीडब्ल्यूडी के एक अधिकारी का कहना है कि प्रगति मैदान के गेट नंबर एक के पास (भैरों मार्ग) से अंडरपास के अंदर वाहन सराय काले खां की तरफ से प्रवेश करेंगे, जहां से वाहन अंडरपास के अंदर जाने हैं, उससे करीब 20-30 मीटर पहले रेलवे लाइन है। रेलवे लाइन के ऊपर कुछ काम चल रहा है। इस वजह से भैरों मार्ग के लिए यातायात को रोका हुआ है, इसलिए यातायात शुरू करने में देरी हो रही है। हालांकि, बराबर की लेन चल रही है। अगर अंडरपास को यातायात के लिए खोला जाता है तो फिर वाहन पांच से 10 मीटर घूमकर भी अंडरपास के अंदर जा सकते है, इसलिए यातायात शुरू न होने के पीछे रेलवे के काम का हवाला दिया जा रहा है।

पूरे प्रोजेक्ट पर एक नजर

अंडरपास की कुल लंबाई - करीब 500 मीटर

प्रथम चरण में खुलने का प्रस्ताव - दो लेन (भैरों से रिंग रोड पर सराय काले खां की तरफ)

दो अन्य लेन खुलेंगे - एक से डेढ़ महीने में

प्रतिदिन वाहनों को लाभ - 20-30 हजार पैसेंजर पर कार यूनिट (पीसीयू)

ज्यादा दूरी तय करनी पड़ रही

लोगों को रिंग रोड के रास्ते सराय काले खां की तरफ जाने के लिए भैरों मार्ग से होते हुए रिंग रोड पर पहले आईपी डिपो की तरफ जाना होता है। उसके बाद बाद यूटर्न लेकर सराय काले खां की तरफ घूमते हैं। इससे ज्यादा दूरी तय करनी पड़ रही है।

प्रगति मैदान टनल में जाम से जूझ रहे लोग

इंडिया गेट सर्किल के पास पटियाला हाउस कोर्ट रोड से शुरू होने वाली प्रगति मैदान टनल में लोग आए दिन जाम से जूझ रहे हैं। बिना किसी पूर्व सूचना के टनल के अंदर मरम्मत का काम शुरू कर दिया जाता है, जिससे टनल की एक से दो लेन को अचानक बंद हो जाती हैं। खासकर, इंडिया गेट की तरफ से आने वाले लोगों को बीते तीन दिन से शाम को जाम का सामना करना पड़ रहा है। शाम के वक्त वाहनों को दबाव बढ़ता है। ऊपर से टनल की एक से दो लेन बैरिकेडिंग लगाकर बंद कर दी जाती हैं, जिससे जाम की स्थिति बनी रहती है।

मथुरा रोड से प्रवेश बंद

प्रगति मैदान टनल के अंदर एक रास्ता मथुरा रोड से भी आता है। इसके जरिए सुप्रीम कोर्ट, मंडी हाउस की तरफ से आने वाले वाहन चालक आसानी से मथुरा रोड स्थिति भारत मंडपम के सामने से टनल के अंदर प्रवेश कर जाते हैं, जिसके बाद सामान्य स्थिति में पांच से सात मिनट में रिंग रोड पर पहुंच जाते हैं, लेकिन बीते तीन दिनों से मथुरा रोड से अंडरपास के अंदर जाने का रास्ता बंद कर दिया गया है।

चालकों को चक्कर नहीं काटने पड़ते

यदि भैरों मार्ग से रिंग रोड को जोड़ने वाले अंडरपास का एक हिस्सा यातायात के लिए समय पर खोल दिया जाता तो मौजूदा समय में जाम का सामना न करना पड़ता। अंडरपास के खुले होने पर मथुरा रोड से वाहन सीधे रिंग रोड पर सराय काले खां की तरफ निकलते। इससे प्रगति मैदान टनल के ऊपर भी वाहनों का दबाव कम होता।

निर्माण पूरा करने की समय सीमा 10 से ज्यादा बार बढ़ाई

जून 2022 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 1.3 किलोमीटर लंबी प्रगति मैदान टनल और उससे जुड़े पांच अंडरपास का उद्घाटन किया, लेकिन टनल प्रोजेक्ट से जुड़े छठे अंडरपास (भैरों मार्ग से रिंग रोड) तैयार न होने के कारण लोकार्पण कार्यक्रम में शामिल नहीं किया। उस वक्त भारतीय व्यापार संवर्धन संगठन (आईटीपीओ) के तत्कालीन सीएमडी ने कहा था कि अभी छठे अंडरपास को पूरा होने में समय लगेगा। उस अगस्त 2022 तक पूरा कर लिया जाए। उसका अलग से लोकार्पण कार्यक्रम होगा, लेकिन उसके बाद से 10 से अधिक बार अंडरपास की समय सीमा को बढ़ाया जा चुका है। अभी तक प्रोजेक्ट को पूरा होने और तैयार हिस्से को खोलने की कोई अंतिम तिथि निर्धारित नहीं की गई है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें