ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRसदन में AAP-BJP में फिर दिखेगी तकरार, 15 दिसंबर से दिल्ली विधानसभा का सत्र

सदन में AAP-BJP में फिर दिखेगी तकरार, 15 दिसंबर से दिल्ली विधानसभा का सत्र

बीजेपी जहां दिल्ली सरकार को जहां वायु प्रदूषण, यमुना नदी में प्रदूषण समेत अन्य कई मुद्दों पर घेर सकती है तो वहीं सदन में आम आदमी पार्टी भी विरोधियों को करारा जवाब देने की रणनीति बनाएगी।

सदन में AAP-BJP में फिर दिखेगी तकरार, 15 दिसंबर से दिल्ली विधानसभा का सत्र
Nishant Nandanलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 29 Nov 2023 08:59 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली विधाानसभा का सत्र 15 दिसंबर से शुरू होगा। इस बार भी दिल्ली विधानसभा के सत्र में हंगामा देखने को मिल सकता है। बीजेपी जहां दिल्ली सरकार को जहां वायु प्रदूषण, यमुना नदी में प्रदूषण समेत अन्य कई मुद्दों पर घेर सकती है तो वहीं सदन में आम आदमी पार्टी भी विपक्षी विधायकों को करारा जवाब देते नजर आ सकती है। प्रदूषण के मुद्दे को लेकर विपक्षी दल पहले से ही अरविंद केजरीवाल सरकार पर हमलावर है। 

हालांकि, दिल्ली सरकार इस दौरान प्रदूषण को कम करने को लेकर सरकार द्वारा किए गए कार्यों को गिना सकती है। पिछले कुछ दिनों से आम आदमी पार्टी के नेताओं पर एजेंसियों का शिकंजा भी कसा है। इसको लेकर भी बीजेपी आप सरकार पर हमला बोल सकती है। 4 अक्टूबर को आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह को दिल्ली के कथित आबकारी नीति घोटाले में गिरफ्तार किया है।

गिरफ्तारी से पहले संजय सिंह के ठिकानों पर छापेमारी हुई थी और उनसे पूछताछ भी की गई थी। यह मुद्दा भी दिल्ली विधानसभा में उठ सकता है। हालांकि, आम आदमी पार्टी दिल्ली में किसी भी शराब घोटाले और इसमें इसमें आप नेताओं के शामिल होने की बात से इनकार करती आई है। आम आदमी पार्टी बीजेपी पर केंद्रीय जांच एजेंसियों के गलत इस्तेमाल का आरोप लगाती आई है। बता दें कि शराब घोटाले में आप नेता और दिल्ली के पूर्व डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया पहले से ही जेल में बंद हैं।

दिल्ली विधानसभा का यह शीतकालीन सत्र 15 दिसंबर से शुरू होकर 18 दिसंबर तक चलेगा। बीजेपी में दिल्ली में मुख्य सचिव की नियुक्ति के मामले पर भी आप पर निशाना साध सकती है। इस मामले में आम आदमी पार्टी की सरकार को हाल ही में सुप्रीम कोर्ट से झटका लगा है। दरअसल आम आदमी पार्टी ने मुख्य सचिव नरेश कुमार का कार्यकाल बढ़ाए जाने का विरोध किया था जबकि सरकार मुख्य सचिव के कार्यकाल को 6 महीने के लिए बढ़ाना चाहती थी। सुप्रीम कोर्ट ने  मुख्य सचिव के कार्यकाल को बढ़ाने के पक्ष में ही फैसला दिया है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें