ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRअलीपुर फैक्ट्री में धमाके से आसपास की इमारतें हुईं कमजोर, भवनों की जांच के लिए पुलिस ने MCD को लिखा पत्र

अलीपुर फैक्ट्री में धमाके से आसपास की इमारतें हुईं कमजोर, भवनों की जांच के लिए पुलिस ने MCD को लिखा पत्र

Delhi Alipur Fire : पुलिस अधिकारी ने बताया कि इस बाबत एमसीडी को पत्र लिखा गया है और इन इमारतों की जांच के लिए कहा गया है। अगर इमारतें खतरनाक हैं तो कभी भी हादसे का कारण बन सकती हैं।

अलीपुर फैक्ट्री में धमाके से आसपास की इमारतें हुईं कमजोर, भवनों की जांच के लिए पुलिस ने MCD को लिखा पत्र
Praveen Sharmaनई दिल्ली। हिन्दुस्तानSun, 18 Feb 2024 06:29 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के अलीपुर पेंट फैक्ट्री में भीषण विस्फोट की वजह से आसपास की इमारतें कमजोर हो गई हैं। खासतौर पर नशा मुक्ति केंद्र की इमारत में कई जगह दरारें दिखाई दे रही हैं। पुलिस अधिकारी ने बताया कि इस बाबत एमसीडी को पत्र लिखा गया है और इन इमारतों की जांच के लिए कहा गया है। अगर इमारतें खतरनाक हैं तो कभी भी हादसे का कारण बन सकती हैं। हादसे के तीसरे दिन भी गली के लोग अपने घरों की सफाई करते हुए दिखाई दिए।

हादसे से प्रभावित गौरव वर्मा ने बताया कि पूरी गृहस्थी बड़ी मुश्किल से बसी थी और दोबारा सारा सामान खरीदना पड़ेगा। स्टेशनरी की दुकान चलाने वाली राजेशवती ने बताया कि पूरा परिवार दुकान से बचे हुए सामान को निकाल रहा है। शायद इसमें से कुछ सामान बच गया हो।

हादसे में मारे गए सभी 11 लोगों के शवों का पोस्टमॉर्टम हो गया है। इसके बाद सभी को परिजनों को सौंप दिया गया। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि आठ शवों का शुक्रवार शाम से देर रात तक बीजेआरएम अस्पताल में पोस्टमॉर्टम किया गया। इसके बाद परिजन शवों को लेकर अपने गांव रवाना हो गए। हालांकि, तीन शवों की पहचान शुक्रवार देर रात तक नहीं हो पाई थी। शनिवार सुबह तीन परिवार पहुंचे और उन्होंने दावा किया। पुलिस अधिकारी ने बताया कि मृतकों की पहचान राम प्रवीन, कृपाशंकर और हरिश्चंद्र के तौर पर हुई है। इसके बाद दोपहर को पोस्टमॉर्टम कराया गया।

इसमें कृपाशंकर और हरिश्चंद्र के परिजन शवों को लेकर प्रयागराज के लिए रवाना हो गए। फैक्ट्री मालिक 62 वर्षीय अशोक जैन की हादसे में ही मौत हो गई थी।

घायलों को छुट्टी मिली

घायल मरीजों को शनिवार को अस्पताल से छुट्टी मिल गई। लोकनायक अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर सुरेश कुमार ने बताया कि उनके अस्पताल में दो लोगों को आग के धुएं में सांस लेने की दिक्कत की वजह से भर्ती किए गए थे। दोनों को शनिवार सुबह छुट्टी दे दी गई।

दो लोग गिरफ्तार

अलीपुर पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें प्लाट की मालकिन और फैक्टरी के मालिक का बेटा शामिल है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि 62 वर्षीय अशोक जैन ने 57 वर्षीय राजरानी देवी से दयाल मार्केट स्थित प्लॉट को किराये पर लिया था। पुलिस ने सोनीपत स्थित उनके आवास पर छापा मारा था।

बेटे ने हाथ के कड़े से पिता को पहचाना

हादसे में पिता अनिल ठाकुर को खोने वाले हर्ष ने जब शव देखा तो डर गया। फिर उसने हाथों का कड़ा और अंगूठी को पहचान लिया। पिता के सीने पर लटके लॉकेट से भगवान की फोटो को भी पहचान लिया। वहीं, रामसूरत की पहचान उनके मोबाइल से हुई। फोन उनकी जेब में ही था और सिम निकालकर दूसरे फोन में लगाया गया। वहीं, कंपनी विशेष का तंबाकू भी पहचान की वजह बना।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें