ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCR‘लाक्षागृह’ बनी अलीपुर की अवैध पेंट फैक्ट्री, कैसे एक चिंगारी ने बुझा दिए 11 घरों के चिराग

‘लाक्षागृह’ बनी अलीपुर की अवैध पेंट फैक्ट्री, कैसे एक चिंगारी ने बुझा दिए 11 घरों के चिराग

पुलिस जांच में सामने आया है कि वेल्डिंग की एक चिंगारी से वहां रखे लाखों लीटर केमिकल में आग लग गई, जो तबाही की वजह बनी। नालियों में जलता हुआ केमिकल बहने लगा और ऐसा लगा कि जैसे कि ज्वालामुखी का लावा हो।

‘लाक्षागृह’ बनी अलीपुर की अवैध पेंट फैक्ट्री, कैसे एक चिंगारी ने बुझा दिए 11 घरों के चिराग
Praveen Sharmaनई दिल्ली। हिन्दुस्तानSat, 17 Feb 2024 05:58 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के अलीपुर की दयाल मार्केट में स्थित अवैध पेंट फैक्ट्री 11 लोगों के लिए ‘लाक्षागृह’ बन गई। गुरुवार देर रात आठ और शवों के जले हुए अवशेष बरामद हुए। एनडीआरएफ और दमकल की टीम ने कई घंटे तक जांच-पड़ताल की। हादसे में एक पुलिसकर्मी समेत चार लोग झुलस गए हैं।

डीसीपी रवि कुमार सिंह ने बताया कि गैर इरादतन हत्या और गैर इरादतन हत्या की कोशिश की धारा में मुकदमा दर्ज कर लिया है। एक अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि शुरुआत में तीन लोगों की मौत की बात सामने आई थी। जब आग पूरी तरह बुझा दी गई तो एनडीआरएफ और दमकल की टीम ने तलाशी अभियान शुरू किया। इसके बाद आठ और शवों के अवशेष फैक्ट्री के मलबे से मिले। अब तक मिले 11 शवों में फैक्ट्री मालिक के बुजुर्ग पिता भी शामिल हैं। फिलहाल सभी शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए बाबू जगजीवन राम अस्पताल में रखवा दिया है।

शुक्रवार सुबह जिले की क्राइम टीम और रोहिणी स्थित एफएसएल की टीम ने दौरा किया और घटनास्थल से सबूत जुटाए। हालांकि, टीम ने हादसे की वजह की स्पष्ट जानकारी जांच के बाद देने को कहा है।

फैक्ट्री मालिक के पिता समेत आठ की पहचान : हादसे में फैक्ट्री मालिक के पिता 62 वर्षीय अशोक कुमार जैन सहित आठ लोगों के मरने की पुष्टि हुई है। इसमें राम सूरत सिंह, विशाल, अनिल ठाकुर, पंकज कुमार, शुभम, मीरा देवी और ब्रिज किशोर के तौर पर हुई है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि परिजनों से संपर्क साधने की कोशिश की जा रही है।

लपटें आसमान छू रही थी : दयाल मार्केट की घनी रिहायशी आबादी के बीच तीनों तरफ से घिरा दो सौ गज के प्लॉट में थिनर और अन्य केमिकल भरा था। यह आग लगने की वजह से मौत का कुआं बन गया। चारों तरफ दीवार के होने से लपटें आसमान को छू रही थीं। करीब 15-16 साल से खाली प्लॉट में टीन डालकर पेंट की फैक्ट्री चल रही थी। यहां पेंट की मिक्सिंग की जाती है।

जेसीबी से दीवारें तोड़कर तलाशी ली : आग इमारत के प्रवेश द्वार पर लगी थी और निकलने का कोई दूसरा रास्ता भी नहीं था। इसलिए सभी लोग अंदर में फंस गए। तलाशी अभियान चलाने के लिए इस इमारत को जेसीबी से तोड़ा गया। इसके बाद एनडीआरएफ द्वारा आठ शवों के अवशेष इमारत के पिछले हिस्से में मलबे से निकाले गए हैं। ऐसा माना जा रहा है कि इन लोगों को संभलने का मौका भी नहीं मिला होगा। फैक्टरी मालिक के पिता समेत तीन लोगों के शव बाहरी हिस्से में थे।

सनसनीखेज : लाखों लीटर थिनर ने तबाही मचाई

पुलिस जांच में सामने आया है कि वेल्डिंग की एक चिंगारी से वहां रखे लाखों लीटर थिनर और अन्य ज्वलनशील केमिकल में आग लग गई, जो तबाही की वजह बनी। स्थानीय लोगों का दावा है कि जब आग लगी तो नालियों में केमिकल बहने लगा और ऐसा लगा कि जैसा किसी ज्वालामुखी का लावा हो...

200 गज के प्लॉट में काम चल रहा था

अलीपुर की दयाल मार्केट में 200 गज के खाली प्लॉट में टीन डालकर पेंट की फैक्ट्री चल रही थी। यहां पेंट की मिक्सिंग की जाती है, इसलिए थिनर सहित कई ज्वनशील केमिकल मौजूद थे।

गेट के पास धमाका, इसलिए फंस गए

फैक्ट्री से आने-जाने का एक ही गेट है। इसके पास ही वेल्डिंग का काम चल रहा था। उससे उठी चिंगारी से केमिकल में आग लगी जिसने पूरा गोदाम खाक कर दिया। लोगों को भागने का मौका तक नहीं मिला।

पीछे थे सभी 11 लोग, जिंदा जल गए

हादसे में जान गंवाने वाले सभी 11 लोग फैक्ट्री में पीछे मौजूद थे। मुख्य गेट से आग लगी, जो कि पीछे तक तेजी से फैली। किसी को भी बाहर की तरफ भागने का मौका नहीं मिला और वे जिंदा जल गए। जब तक आसपास के लोग पहुंचे तो सब आग की चपेट में आ चुके थे।

सामने मौजूद घर और दुकानें भी जलीं

फैक्ट्री में इतना केमिकल मौजूद था कि उसमें आग लगते ही लपटें सामने मौजूद घरों और दुकानों तक पहुंच गई। कई घर और दुकान इसकी चपेट में आ गए। गनीमत रही कि आग पूरे इलाके में नहीं फैली।  

वेल्डिंग की चिंगारी से भड़की आग

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि फैक्ट्री परिसर के गेट पर वेल्डिंग का काम हो रहा था। उस समय फैक्ट्री मालिक के पिता और दो मजदूर मौजूद थे। वेल्डिंग करने से निकली चिंगारी ने आग पकड़ ली और थिनर होने की वजह से पूरी फैक्ट्री में फैल गई। वेल्डिंग कर रहा शख्स भी बाहर भागने के बजाय अंदर की तरफ भागा और चपेट में आ गया। थिनर-केमिकल अत्यधिक ज्वलनशील होने की वजह से पूरी इमारत आग के कुएं में बदल गई।

बैरिकेड्स से दमकल को दिक्कत

दमकल की गाड़ियों को किसान आंदोलन के कारण मौके पर पहुंचने में दिक्कत का सामना करना पड़ा है। एक दमकल अधिकारी ने बताया कि हादसे के वक्त भोरगढ़ में भी आग लगी थी। इसलिए स्थानीय टीम भोरगढ़ गई थी। इस बीच दयाल मार्केट में भी भीषण आग लग गई। इसके लिए जहांगीरपुरी से गाड़ियां मंगाई गईं, लेकिन किसान आंदोलन के सड़क पर बैरिकेड्स के चलते जाम का सामना करना पड़ा। इस वजह से पहुंचने में देरी हुई।

गली में खड़ी गाड़ियां और नशा मुक्ति केंद्र भी आग की भेंट चढ़ा

हादसे के बाद पूरी गली में जली हुई बाइक और ड्रम के फैले हुए टुकड़े हादसे की कहानी बता रहे हैं। फैक्ट्री के पास ही इसके मालिक की क्षतिग्रस्त कार भी खड़ी थी। प्रत्यक्षदर्शी श्याम सुंदर ने बताया कि अचानक हुए विस्फोट के बाद आग फैल गई। केमिकल बहने के कारण आग नालियों में फैल गई और इसकी लपटें सामने के मकानों और दुकानों में फैल गईं। करीब नौ सौ वर्ग गज एरिया में ग्राउंड फ्लोर पर मौजूद सारा सामान जल गया। यहां तक कि फैक्ट्री के ठीक सामने नशा मुक्ति केंद्र भी पूरी तरह से जल गया। अभी तक की जांच में एक दर्जन दुकानों, नशा मुक्ति केंद्र और चार घरों का सामान जल गया है।

दो सौ लीटर का ड्रम तीन मंजिला छत पर गिरा

विस्फोट इतना भीषण था कि दो सौ लीटर का ड्रम उछलकर सामने की तीन मंजिला इमारत पर गिर गया। इसमें केमिकल भरा होने से इमारत में रहने वाले लोगों में दहशत फैल गई। मकान मालिक श्याम सुंदर ने बताया कि वे पत्नी, पोता-पोती के साथ बाहर निकलने में कामयाब हो गए, जबकि बेटा-बहू दूसरे मकान की छत पर कूदकर बाहर निकले।

छह मृतकों के परिजन सामने आए

घटनास्थल पर मौजूद एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि अभी तक छह परिवार सामने आए हैं। इन्होंने अपने रक्तसंबंधी हादसे के बाद गायब होने और मरने की आशंका जताई थी। पुलिस ने इनके बयान दर्ज कर आगे की जांच शुरू कर दी है।

डीएनए जांच के बाद मिलेगी लाश

पुलिस ने बताया कि शव पूरी तरह से जल चुके हैं, इसलिए पहचान संभव नहीं है। इस वजह से मुंडका अग्निकांड की तरह इनका डीएनए परीक्षण कराया जाएगा। अब शनिवार को रक्त संबंधियों के डीएनए नमूने लेकर एफएसएल रोहिणी भेजे जाएंगे। वहीं, मृतकों के परिजन शवों लेने के लिए भटकते नजर आए।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें