DA Image
हिंदी न्यूज़ › NCR › दिल्ली : मार्च 2022 से द्वारका सेक्टर-25 तक जाएगी एयरपोर्ट मेट्रो
एनसीआर

दिल्ली : मार्च 2022 से द्वारका सेक्टर-25 तक जाएगी एयरपोर्ट मेट्रो

वरिष्ठ संवाददाता, नई दिल्लीPublished By: Shivendra Singh
Sun, 26 Sep 2021 09:16 PM
दिल्ली : मार्च 2022 से द्वारका सेक्टर-25 तक जाएगी एयरपोर्ट मेट्रो

एयरपोर्ट मेट्रो लाइन अगले साल मार्च 2022 से द्वारका सेक्टर-25 तक का सफर कराएगी। एयरपोर्ट लाइन के विस्तार का काम लगभग पूरा हो चुका है ट्रैक बिछाने का काम शुरू कर दिया गया है। अभी एयरपोर्ट लाइन नई दिल्ली से चलकर द्वारका सेक्टर-21 तक ही जाती है। मेट्रो को उम्मीद है कि इस स्टेशन के  बनने से एयरपोर्ट लाइन पर यात्रियों की संख्या में इजाफा होगा। इसलिए चार नई ट्रेन चलाने के लिए 24 नए कोच भी एयरपोर्ट लाइन पर बढ़ाई जाएगी। इसकी निविदा पहले ही जारी की जा चुकी है। 

दरअसल उधोग और व्यापार को बढ़ावा देने के लिए द्वारका सेक्टर-25 का निर्माण केंद्र सरकार करवा रही है। यहां स्टेशन के साथ ही इंडिया इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर भी बन रहा है। इसी इमारत में भूमिगत हिस्से में मेट्रो स्टेशन बनाया जा रहा है। जिससे देश-विदेश से व्यापार संबंधी आयोजनों में आने वाले लोग एयरपोर्ट से सीधे कन्वेंशन सेटर पहुंच सके।  मेट्रो के मुताबिक स्टेश के संरचना का काम पूरा हो चुका है। स्टेशन के अंदर जरूरी काम के साथ अब ट्रैक बिछाने का काम भी काम शुरू हो चुका है। 

एयरपोर्ट लाइन से द्वारका सेक्टर-21 से यह आगे करीब 2 किलोमीटर का विस्तार होगा। यह स्टेशन पूरी तरह से भूमिगत होगा। इसके बनने से द्वारका सेक्टर-25 में रहने वालों की सीधी कनेक्टविटी होगी। अभी मेट्रो एयरपोर्ट पर सामान्य दिनों में रोजाना 50 हजार से अधिक लोग सफर करते है। नया इलाका जुड़ने से यात्रियों की संख्या बढ़ेगी। लाइन का विस्तार होने के बाद पीक आवर्स में इसपर 10-10 मिनट पर मेट्रो का परिचालन होगा जबकि नॉन पीक आवर्स में यह 15 मिनट के अंतराल में पर ट्रेन मिलेगी। 

19 मीटर की गहराई पर होगा स्टेशन, पांच जगह से होगा प्रवेश और निकास
द्वारकर सेक्टर-25 पर बन रहा भूमिगत स्टेशन जमीन से 19 मीटर की गहराई पर स्थित होगा, जबकि उसकी लंबाई 220 मीटर होगी। वहां बन रहे कन्वेंशन सेंटर के साथ इसकी दो अलग-अलग स्तर पर उसकी कनेक्टविटी रहेगी। स्टेशन के कुल पांच प्रवेश व निकास द्वार होंगे। भूमिगत स्टेशन व लाइन होने के बाद भी इसे बनाने के लिए मेट्रो ने टीबीएम (टनल बोरिंग मशीन) का प्रयोग नहीं किया है।

संबंधित खबरें