DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मामूली सुधार के बाद दिल्ली की हवा हुई 'बेहद खराब' AQI स्तर 394 दर्ज

प्रतीकात्मक तस्वीर

राजधानी दिल्ली में स्थानीय स्तर पर प्रदूषण में काफी कमी आने और पराली जलने से होने वाले प्रदूषण का असर हवा की रफ्तार के कारण मामूली रहने से दिल्ली की वायु गुणवत्ता में शनिवार को मामूली सुधार हुआ और यह 'बहुत खराब' की श्रेणी में आ गई।

केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़ों के मुताबिक, शहर में समग्र वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 394 दर्ज किया गया जो 'बहुत खराब' श्रेणी में आता है। इसमें बताया गया कि दिल्ली में 15 इलाकों में वायु गुणवत्ता 'गंभीर' दर्ज की गई जबकि 19 इलाकों में प्रदूषण स्तर 'बहुत खराब' श्रेणी में रहा।

दिल्लीवालों को जल्द ही मिलेगी जहरीली हवा से राहत, होगी कृत्रिम बारिश

न्यूज एजेंसी भाषा के अनुसार, शनिवार को दिल्ली में पीएम 2.5 (हवा में 2.5 माइक्रोमीटर से कम व्यास वाले कणों की मौजूदगी) का स्तर 226 जबकि पीएम 10 (हवा में 10 माइक्रोमीटर से कम व्यास वाले कणों की मौजूदगी) का स्तर 331 दर्ज किया गया। 

केंद्र संचालित वायु गुणवत्ता एवं मौसम पूर्वानुमान तथा अनुसंधान प्रणाली (सफर) ने कहा कि दिल्ली के समग्र वायु गुणवत्ता सूचकांक में सुधार हुआ है और सभी बाधाओं और प्रतिकूल मौसम परिस्थितियों के बावजूद इसके 'बहुत खराब' श्रेणी में आने की संभावना है। अधिकारियों ने कहा कि प्रदूषण नियंत्रण के उपायों के कारण भी राजधानी में वायु की गुणवत्ता में सुधार हुआ है।

दिल्ली की हवा में सांस लेना 20 सिगरेट पीने के बराबर-रिपोर्ट    

बता दें कि एक्यूआई का स्तर 0 से 50 के बीच ''अच्छा'' माना जाता है। 51 से 100 के बीच यह ''संतोषजनक'' स्तर पर होता है और 101 से 200 के बीच इसे ''मध्यम'' श्रेणी में रखा जाता है। हवा की गुणवत्ता का सूचकांक 201 से 300 के बीच ''खराब'', 301 से 400 के बीच ''बहुत खराब'' और 401 से 500 के बीच ''अत्यंत गंभीर'' स्तर पर माना जाता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Delhi air quality moves from severe to very poor category